चोरी से बेच रहे थे खाद्य सामग्री:इंदौर के विजयनगर में रात में रेस्टोरेंट के पिछले गेट से दिया जा रहा था सामान; छापामार कार्रवाई के बाद सील किया

इंदौरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रात में छापे के दौरान बन रही थी खाद्य सामग्री - Dainik Bhaskar
रात में छापे के दौरान बन रही थी खाद्य सामग्री

कोरोना महामारी पर नियंत्रण के लिए प्रशासन रात-दिन एक किए हुए है। कठोर और सख्त निर्णय तक लिए जा रहे है। कलेक्टर मनीष सिंह पॉजिटिविटी रेट को 5 प्रतिशत से नीचे लाए जाने के लिए पूरे शहर को लॉक तक कर दिया और खुद अलसुबह से अधीनस्थों के सर्च फील्ड में उतर रहे है। शहर में कुछ रेस्टोरेंट, कैफे संचालक ऐसे भी है जो अपने थोड़े से लालच की वजह से अधिकारियों की मेहनत पर ही पानी फेर रहे, बल्कि पूरे शहर को खतरे में डाल रहे है। विजय नगर क्षेत्र में स्कीम 78 में स्थित सस्सी हाउस कैफे द्वारा नियमों का खुले आम उल्लंघन किया जा रहा है। रेस्टोरेंट, कैफे बंद होने के बाद भी यहां लोगों से ऑर्डर लेकर खाद्य सामग्री दी जा रही है। दोपहर बाद से ही ऑर्डर लेकर बर्गर, पिज्जा, सेंडविच सहित अन्य खाद्य पदार्थ सप्लाय की जा रही हैं। अफसरों ने यहां छापा मार कार्रवाई कर रेस्टोरेंट सील कर दिया।

आसपास के रहवासियों का कहना है दोपहर में लोग चार पहिया से आते है और कर्मचारी ऑर्डर लेकर वाहन में ही पार्सल कर देते है। कुछ वाहन चालक तो खाना वाहन में ही कर लेते है और कुछ लेकर चले जाते है। जैसे-जैसे रात होती जाती है वाहनों की आवाजाही बढ़ जाती है। शराबखोरी भी होने लगती है।

लोगों का कहना है कि ऐसा नही है कि संबंधित थाना पुलिस को जानकारी नहीं है। सब कुछ पुलिस की जानकारी में ही हो रहा है। इसीलिए तो पीछे के दरवाजे से कमाई का खेल चल रहा है। पुलिस वाहन भी खानापूर्ति के लिए आगे से राउंड लगा लेते है। जबकि सारा खेल पीछे के गेट से होता है। शाम होते ही लाइट भी ऑन हो जाती है ताकि ग्राहकों को कैफे ओपन होने का संकेत मिल सके। इस मामले की शिकायत प्रशासन तक पंहुंची है। ताकि प्रशासन कार्रवाई कर लोगों को संक्रमण से बचाया जा सके।

पहले हो चुकी है कार्रवाई

कोरोना की पहली लहर के दौरान भी नगर निगम के द्वारा कार्रवाई की गई थी। उस समय भी अवैध रूप से रेस्टोरेंट् के संचालन का मामला उभरकर सामने आया था जिस पर निगम की टीम ने इस रेस्टोरेंट को सील किया था।

रात 3 बजे बनते थे पार्सल

निगम के अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने मौके पर देखा कि स्टाफ भी बिना मास्क ओर सोशल डिस्टेंसिग का पालन नहीं करते हुए काम कर रहा था। नगर निगम की टीम को लगातार जानकारी मिल रही थी कि रात को 3 बजे तक पार्सल प्राप्त किए जाते हैं और दिए जाते है।

खबरें और भी हैं...