• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Patients In Bhavani Nagar, Vijay Nagar, Sukhlia, Scheme 114, Brajnayani, Index Satellite, Residents Of Padmavati Areas, So Far 225 Patients

अब 5 बच्चों सहित 22 लोग डेंगू की चपेट में:मरीजों में विजय नगर, सुखलिया, स्कीम 114, ब्रजनयनी, इंडेक्स सेटेलाइट, पदमावती क्षेत्रों के रहवासी, अब तक 225 मरीज

इंदौर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में शुक्रवार को डेंगू के 22 नए मरीज मिले हैं, जिनमें 5 बच्चे हैं। ये मरीज भवानी नगर, विजय नगर, सुखलिया, स्कीम 114, इंडेक्स सेटेलाइट, पद्मावती, ब्रजनयनी, पालिया, बर्फानी धाम, ग्रीन वैले, साकेत, मंगल सिटी, स्कीम 134 आदि क्षेत्रों के हैं। खास बात यह कि पद्मावती कॉलोनी में दो दिन में चार मरीज मिले हैं। इन सभी क्षेत्रों में लार्वा सैंपल लेने के साथ छिड़काव किया जा रहा है। वैसे अब तक डेंगू मरीजों की संख्या 225 हो गई है जिनमें 38 बच्चे हैं।

इसके पूर्व गुरुवार को लिम्बोदी, इंद्रपुरी, परदेशीपुरा, पद्मावती कॉलोनी, कुंदन नगर, तेजाजी नगर, ट्रैजर टॉउनशिप, भोलाराम उस्ताद मार्ग, स्कीम 114, भगवती नगर, जनता क्वार्टर, नेहरू नगर, एमआईजी, आम्बेडकर नगर, लाड कॉलोनी, पल्हर नगर व हाट पीपल्या क्षेत्र मरीज मिले थे। वैसे डॉक्टरों का मानना है कि बारिश के मौसम के दौरान अकसर डेंगू के मरीज आते ही हैं। प्राइवेट अस्पतालों में भी डेंगू के मरीज काफी पहुंच रहे हैं। इससे कुल संख्या 225 से ज्यादा हो सकती है।

बीते दिनों में धार कोठी, वंदना नगर, साउथ तुकोगंज, सुदामा नगर, निधिवन कॉलोनी, भगतसिंह नगर, क्रिस्टल अपार्टमेंट, अभिनंदन अपार्टमेंट, भोलाराम उस्ताद मार्ग, पीपल्याराव, वंदन नगर, सुदामा नगरा, ग्राम मुंडला व बदनावर मरीज मिले थे। फिर कैट कॉलोनी, नंदबाग, आजाद नगर, अवंतिका नगर, हिम्मत नगर, पवनपुरी, बर्फानी धाम, आदर्श बिजासन नगर, श्रवण बाग कॉलोनी, भागीरथपुरा, मौर्य नगर, विद्या नगर, श्रीबाल गर्ल्स होस्टल आदि क्षेत्रों में मरीज मिले । शनिवार को इंदौर के राजेंद्र, क्लर्क कॉलोनी, सांई सिटी, स्कीम 78, न्यू गौरी नगर, स्कीम 134, सांई सिटी, ओल्ड पलासिया क्षेत्र में डेंगू के मरीज मिले थे। रविवार को शुभम पैलेस, खातीवाला टैंक, स्कीम 51, महालक्ष्मी नगर, साउथ तुकोगंज, सहज हॉस्पिटल, शिव सिटी, गृह नगर होस्टल, आरएपीटीसी, ब्रह्मपुरी, पीपल्याराव, आनंदपुरी, गणेश नगर, आनंदपुरी, खंडवा नाका, एलआईजी व तलावली चांदा में मिले नए मरीज मिले थे। जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. दौलत पटेल ने बताया कि जिन भी क्षेत्रों में मरीज पाए गए वहां घरों के गमले, बगीचों, अटाला आदि में पानी जमा पाया गया। इनके सहित अब अन्य स्थानों पर भी तेजी से छिड़काव किया जा रहा है।
इन क्षेत्रों में भी मिल चुके हैं डेंगू के मरीज

इसके पूर्व गोविंद कॉलोनी, गीता भवन, भाग्यश्री कॉलोनी, प्राइम सिटी, औरंगपुरा (धन्नड), शांति पथ रोड, आलोक नगर, मूसाखेड़ी, स्कीम 94, विनायक टॉउनशिप, सिमरोल, देपालपुर, भंवरकुआ, अहीरखेड़ी, बर्फानीधाम, न्यू द्वारकापुरी, उदापुरा, नृसिंह बाजार, मेघदूत नगर, गीता भवन, नंदा नगर, सरदार सरोवर नगर, वल्लभ नगर, खजराना, नेहरू नगर, ब्रह्मपुरी कॉलोनी, नरवल कांकड़ (सांवेर), प्रोफेसर कॉलोनी, बाणगंगा, महू, तुलसी नगर, विजय नगर, स्कीम 11, मीना नगर, जगजीवनराम नगर, श्रीनगर एक्सटेंशन, आनंद नगर एक्सटेंशन, पीपल्याहाना, विजय नगर, जगजीवन राम नगर व गुरु नगर आदि क्षेत्रों में डेंगू के मरीज मिले थे। कुछ समय पहले एक गर्भवती महिला की भी डेंगू से मौत हुई थी जबकि डॉक्टरों का कहना था कि उसे अन्य बीमारियां भी थी। पिछले हफ्ते स्कीम 114, गोयल विहार, सुदामा नगर, इनकम टैक्स कॉलोनी, श्रीजी वैली, वंदना नगर, वल्लभ नगर, ग्राम काडवाली, एमजीएम गर्ल्स, बॉयज व बीएससी नर्सिंग होस्टल, मनोरमागंज, बिचौली मर्दाना, लक्ष्मीबाई नगर, खातीवाला टैंक, रेवती नगर (अरबिंदो अस्पताल के पास), भानगढ़ व हातोद में डेंगू के मरीज मिले थे।

बारिश का पानी भी जमा नहीं होने दें

  • डेंगू जमे हुए पानी में पनपने वाले मच्छरों के काटने से होता है जबकि डेंगू एडीज इजिप्टी (मादा मच्छर) के काटने से फैलता है। यह बुखार मच्छरों द्वारा फैलाई जाने वाली बीमारी है। यह स्थिति तब बनती है, जब घरों में या आसपास एक ही स्थान पर बहुत दिनों से पानी जमा हो। जैसे कूलर, वॉश एरिया, सिंक, गमलों आदि भी कई बार पानी जमा रहता है जो डेंगू का कारक बनता है।
  • लोगों से अपील की गई है कि हाल ही में बारिश हुई है जिससे घरों के आसपास कई स्थानों पर पानी जमा हो जाता है। इसे भी जमा नहीं होने दें और निकासी का प्रबंध करें।
  • एडीज मच्छर पानी जमाव होने की स्थिति में सक्रिय हो जाते हैं। इन मच्छरों की प्रकृति यह है कि ये दिन में ही काटते हैं।
  • फिर कुछ समय बाद इसकी चपेट में आए लोगों को तेज बुखार, शरीर पर लाल चकत पड़ना, सिर, हाथ-पैर और बदन में तेज दर्द, भूख न लगना, उल्टी-दस्त, गले में खराश, पेट में दर्द और लिवर में सूजन आदि लक्षण दिखते हैं।
  • ऐसे में संबंधित व्यक्ति को तुरंत डॉक्टरों को दिखाना चाहिए। इसके बाद ब्लड टेस्ट में इसकी जांच होती है जिसमें पुष्टि होती है कि उसे डेंगू है या दूसरी बीमारी।

बचाव के ये तरीके भी

  • मच्छरों को दूर रखने के लिए मच्छर भगाने वाले रिपेलेंट, क्रीम, कॉइल और स्प्रे का इस्तेमाल करें।
  • खिड़की और दरवाजों को सुरक्षित करें या यदि आवश्यक हो तो मच्छरदानी का उपयोग करें।
  • यदि संभव हो तो एयर कंडीशनिंग घर के अंदर इस्तेमाल करें।
खबरें और भी हैं...