• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Savaliya Marks On Being Caught From Navratna Bagh, Forest Department Officials Got Entangled In Their Own Talk,

तेंदुए पर ट्विस्ट, भागी मादा, पकड़ा नर!:इंदौर में तेंदुए के रेस्क्यू पर उठा सवाल; बुरहानपुर DFO की सफाई- तेंदुआ वही, डॉक्टर की रिपोर्ट गलत

इंदौर8 महीने पहलेलेखक: हेमंत नागले

इंदौर में पिंजरे से भागा तेंदुआ मादा थी, लेकिन वह 7 दिन बाद पकड़ा गया तो नर हो गया। जी हां, ऐसा ही कुछ हुआ है। इंदौर जू और बुरहानपुर के फॉरेस्ट विभाग के अफसर की बातचीत में मादा तेंदुए का ही जिक्र है। डॉक्टर की पहली रिपोर्ट में भी मादा का ही जिक्र था। अब पूरे मामले में डीएफओ बुरहानपुर प्रदीप मिश्रा ने कहा कि डॉक्टर से जल्दबाजी में गलती हो गई। भागा तेंदुआ और पकड़ा गया एक ही है।

बता दें कि बुरहानपुर नावरा (नेपानगर) से लाया गया तेंदुआ पिंजरे से भाग गया था। वह सातवें दिन मंगलवार को चिड़ियाघर से ढाई किमी दूर नवरतन बाग में वन विभाग के परिसर में मिला। सुबह 10.30 बजे पेड़ से गिरी बादाम बंटोरने गए माली ने उसे देखा और टीम को खबर की। 10.45 बजे 10 सदस्यीय टीम पहुंची। बमुश्किल 50 मिनट में 11.35 बजे उसे काबू कर लिया गया।

अफसरों का ऑडियो भी आया, जिसमें मादा तेंदुए की बात

पूरी घटना के समय प्रभारी उत्तम यादव और फॉरेस्ट अधिकारी विमला मुवेल के फोन पर बात करने का ऑडियो भी वायरल हुआ था। इसमें विमला द्वारा यह जानकारी बुधवार रात को भी दी गई थी कि वह एक मादा तेंदुआ है। वह 6 से 7 महीने का है और पैरों में चोट है, लेकिन जो वीडियो बुरहानपुर रेस्क्यू के सामने आए हैं उसमें तेंदुए के दोनों पर बुरी तरह से घायल हैं। वह नर तेंदुआ है।

पूरे मामले में जू प्रभारी उत्तम यादव से इस बात की जानकारी ली गई क्या कोई जंगली जानवर जो बिल्ली प्रजाति का है वह पीछे के पैर बुरी तरह से जख्मी तो क्या वो पिजरा छलांग कर भाग सकता है। इसका जवाब नहीं में था। वही जिस वक्त ट्रक के अंदर तेंदुए को जू के अंदर लाना बताया जा रहा था उस समय भी तेंदुए के कोई भागने के निशान जू में नहीं मिले थे।

बुरहानपुर के डॉक्टर की रिपोर्ट में मादा तेंदुआ लिखा हुआ
बुरहानपुर के डॉक्टर की रिपोर्ट में मादा तेंदुआ लिखा हुआ

वहीं जानकारों की माने तो बिल्ली प्रजाति अपने पीछे के पैरों को जमाने के लिए वह पूंछ से संतुलन बनाने के लिए इस्तेमाल करती है, लेकिन जू में जो तेंदुआ रेस्क्यू करके लाया गया था उसके वीडियो में साफ दिखाई दे रहा था कि उसके दोनों पर बुरी तरह से जख्मी है। इस स्थिति में वह ठीक से चल नहीं पा रहा था तो पिंजरे से छलांग लगाकर वह कैसे भाग निकला?

उठ रहे हैं कई सवाल-

  • 1. मंगलवार सुबह नवरतन बाग स्थित वन विभाग के कार्यालय में आमतौर पर सुबह 10:00 बजे बाद ही कर्मचारी कार्यालय पहुंचते हैं। वहीं सभी कर्मचारी 9:30 बजे अचानक कार्यालय कैसे पहुंच गए?
  • 2. ZOO से नवरतन बाग तक के इलाके में एक भी व्यक्ति को रेंगता हुआ तेंदुआ नहीं दिखाई दिया। नाले के रास्ते होते हुए वह पक्की सड़क से जाते हुए वन विभाग के कार्यालय के पीछे कैसे पहुंच गया?
  • 3. रेस्क्यू करके लाए गए तेंदुए के दोनों पैर बुरी तरह से घायल बताए जा रहे थे। ऐसे में वह ट्रक और पिंजरा से छलांग मारकर किस तरह से बाहर आ गया? जो वीडियो में साफ तौर पर दिखाई दे रहा है
  • 4. मंगलवार को नवरतन बाग के जिस जगह से तेंदुआ पकड़ना बताया गया है चारों तरफ बाउंड्रीवॉल है। आसपास कई रहवासी इलाका है ऐसे में किसी ने भी तेंदुए को नहीं देखा?
  • 5 . तेंदुआ यदि घायल अवस्था में यहां तक पहुंचा था तो क्या किसी स्ट्रीट डॉग ने उस पर हमला क्यों नहीं किया। इतने छोटे शावक पर कई कुत्ते हमला कर उसे घायल भी कर देते हैं?

अब अफसर क्या कह रहे सुनिए

तेंदुओ वही है, डॉक्टर से गलती हुई
बुरहानपुर के डीएफओ प्रदीप मिश्रा से जब इस संबंध में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा दोनों तेंदुए के फोटो को मिलाया गया था। दोनो के रोजेक्स (जिसे आम भाषा मे चेहरे पर बने काले धब्बे होते है) एक ही हैं। वेटरनरी डॉक्टर की रिपोर्ट में जल्दबाजी में गलती हो गई है, लेकिन हम यकीन से कह सकते हैं कि तेंदुआ वही है। जहां तक तेंदुए के दोनों पैर पीछे से पूरी तरह जख्मी थे, उसके बावजूद भी वह इतनी ऊंचाई से कैसे छलांग मारकर भागा है यह हमारे लिए भी सोचने की बात है। इसके लिए हमें किसी वाइल्डलाइफ एक्सपोर्ट से बात करेंगे, लेकिन तेंदुआ वही है।

घायल तेंदुआ इतनी दूर नहीं आ सकता
इंदौर जू प्रभारी उत्तम यादव ने कहा हम पहले दिन से ही कह रहे थे की सीसीटीवी फुटेज और कहीं भी तेंदुए के निशान नहीं मिले थे, लेकिन जो तेंदुआ बुरहानपुर से भेजा गया था उसमें अधिकारी द्वारा मुझे मादा तेंदुआ बताया गया था, वही रेस्क्यू किया हुआ वह नर है, लेकिन इस बात पर मैं अभी कुछ नहीं कह पाऊंगा। अब तक इंदौर के आसपास 14 से अधिक रेस्क्यू ऑपरेशन हमने किए हैं और तेंदुए के बच्चे के दोनों पैर घायल होने से वह इतनी दूर आना असंभव है

इंदौर जू से भागा तेंदुआ 2KM दूर मिला:रात में पिंजरे लगाकर हेलोजन की रोशनी में खोजा, एक्सपर्ट डॉग बुलवाया; ढोल तक बजाने पड़े

खबरें और भी हैं...