पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बुजुर्गों से आवारा पशुओं जैसा सलूक:देश जिस घटना पर शर्मसार, अफसर अब भी कसूर मानने को तैयार नहीं; रैन बसेरा छोड़ना था तो शिप्रा क्यों ले गए?

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
निगम कर्मचारियों ने बुजुर्गों हालत का भी ध्यान नहीं रखा, बल्कि उन्हें जल्दबाजी में गाड़ी में धकेलते रहे। - Dainik Bhaskar
निगम कर्मचारियों ने बुजुर्गों हालत का भी ध्यान नहीं रखा, बल्कि उन्हें जल्दबाजी में गाड़ी में धकेलते रहे।
  • भास्कर के सवाल का अफसरों के पास 48 घंटे बाद भी जवाब नहीं

बेसहारा बुजुर्गों को मवेशियों की तरह ट्रक में भरकर शहर से बाहर ले जाने की घटना से पूरा शहर शर्मसार हुआ, लेकिन निगम अफसर अब भी गलती मानने को तैयार नहीं हैं। घटना के 48 घंटे बाद भी जांच के लिए कोई आदेश जारी नहीं किया गया। मौखिक रूप से अपर आयुक्त अभय राजनगांवकर को जांच सौंप दी गई है। उधर, निगमकर्मी बुजुर्गों के साथ एमवाय से एक मजदूर को भी ले गए थे, जिसे वे वहीं छोड़ आए। उसने रात ढाबे पर काटी, सुबह ग्रामीणों ने किसी तरह इंदौर भिजवाया।

  • उपायुक्त लता अग्रवाल रिमूवल की गाड़ी शहर से बाहर नहीं जा सकती, फिर भी इन्होंने गाड़ी जाने दी।
  • उपायुक्त प्रताप सोलंकी अगर सिर्फ रैन बसेरा छोड़ने को कहा था तो बुजुर्गों को शिप्रा क्यों ले गए।
  • शृंगार श्रीवास्तव विभाग न होने के बावजूद ट्रक बुलवाया। उपायुक्त के बचाव में खड़े रहे।
  • निगमायुक्त प्रतिभा पाल अफसरों को निर्देश देकर ही छोड़ दिया। पालन कैसे हो रहा है यह नहीं देखा।

एक और पीड़ित मजदूर वहीं छूटा, दूसरे दिन आया
निगमकर्मी बुजुर्गों के साथ एमवायएच के बाहर से बड़वानी के मजदूर गुल्लूसिंह (30) काे भी जबरन बैठाकर ले गए। शिप्रा में बुजुर्गों से पहले उसे उतार दिया। ग्रामीणाें के हंगामे के कारण वह दोबारा गाड़ी में बैठ नहीं पाया, जबकि उसका सामान गाड़ी में ही रह गया। उसने रात पास के एक ढाबे पर गुजारी। सुबह शिप्रा के सामाजिक कार्यकर्ता राजेश बराना ने उसे इंदौर भिजवाने की व्यवस्था की। गुल्लू का कहना है कि निगमकर्मी उसे यह कहकर लाए थे कि शिप्रा में उसे अच्छा खाना और रहने की जगह मिलेगी, जबकि उसका एक परिजन अस्पताल में उपचाररत है।

इनसाइड स्टोरी : कोई गफलत नहीं, अफसरों ने ही भिजवाया1. निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने दो दिन पहले व्हाइट चर्च के पास बुजुर्गों को ठंड से कांपते देख, अपर आयुक्त शृंगार श्रीवास्तव को उन्हें रैन बसेरा भेजने के निर्देश दिए।
1. निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने दो दिन पहले व्हाइट चर्च के पास बुजुर्गों को ठंड से कांपते देख, अपर आयुक्त शृंगार श्रीवास्तव को उन्हें रैन बसेरा भेजने के निर्देश दिए।
2. मुख्य प्रभार अपर आयुक्त अभय राजनगांवकर के पास होने के बावजूद श्रीवास्तव ने अन्य प्रभारी उपायुक्त सोलंकी को इसका जिम्मा सौंपा।
3. शुक्रवार सुबह 5.30 बजे अपर आयुक्त श्रीवास्तव ने शिवाजी वाटिका से रामू, मां और एक अन्य महिला को जीप से सोलंकी को सौंपा।
4. श्रीवास्तव ने ही सुबह 9.45 बजे रिमूवल उपायुक्त लता अग्रवाल से शिफ्टिंग के लिए ट्रक मांगा। 11 बजे ट्रक उपायुक्त सोलंकी को मिला।
5. यही ट्रक 2.30 बजे बुजुर्गों और उनके सामान को भरकर शिप्रा पहुंचा, जिसमें करीब एक दर्जन बुजुर्ग थे। यहीं हंगामा हुआ।

नाराजगी शहर की पहचान पर धब्बे की तरह लिया देश ने, मदद के लिए भी बढ़े हाथ

कैलाश विजयवर्गीय, भाजपा राष्ट्रीय महासचिव
इंदौर स्वच्छता में अभी प्रथम हुआ है, मानवीय संबंधों में प्रथम पहले से है। पहचान इस तरह नष्ट न होने दें।

प्रियंका गांधी वाड्रा, कांग्रेस महासचिव
घटना मानवता पर कलंक है। सरकार व प्रशासन इन लोगों से माफी मांगे। बड़े अफसरों पर भी एक्शन हो।

कमलनाथ, पूर्व मु़ख्यमंत्री
इस घटना ने प्रदेश को शर्मसार किया है। सिर्फ निलंबन अपर्याप्त है। दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो।

सोनू सूद, फिल्म अभिनेता
ऐसी मिसाल पेश करें कि बुजुर्ग कभी अकेला महसूस नहीं करें। मैं इनकी हर तरह से मदद को तैयार हूं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आसपास का वातावरण सुखद बना रहेगा। प्रियजनों के साथ मिल-बैठकर अपने अनुभव साझा करेंगे। कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा बनाने से बेहतर परिणाम हासिल होंगे। नेगेटिव- परंतु इस बात का भी ध...

    और पढ़ें