शहर को जलाने की धमकी देने वाला पकड़ाया:सर तन से जुदा के नारे भी लगवाए थे, अभी और साथियों की तलाश

इंदौर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इंदौर के बड़वाली चौकी में भीड़ इकट्‌ठा कर उन्हें भड़काकर शहर जलाने की बात करने वाले एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उसकी पहचान वायरल वीडियो से ही की गई थी। आरोपी ने भीड़ में शहर को जलाने की धमकी भी दी थी। पास में खड़े साथियों को एक दिन पहले ही पुलिस ने पकड़ा था। जो सर तन से जुदा करने के नारे लगा रहे थे।

सदर बाजार पुलिस ने उवेश उर्फ आवेश पुत्र इस्तियाक अहमद उर्फ गुड्‌डू निवासी सिकंदराबाद कॉलोनी और साथी तौसिफ पुत्र अब्दुल रउफ निवासी जूना पीठा को पकड़ा है। दोनों को रात में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। उवेश ने गुरुवार को भीड़ इकट्‌ठा कर बड़वाली चौकी पर जाम लगा दिया था। इतना ही नहीं उसने भीड़ को संबोधित करते हुए इंदौर शहर को आग के हवाले करने की बात भी कही थी। उवेश ने वीडियो में कहा था कि शहर के पुलिस अफसरों ने कार्रवाई की बात कही है। अगर वे कार्रवाई नहीं करते हैं तो पहले प्रदर्शन करेंगे। इसके बाद चक्काजाम और जेल भरो आंदोलन किया जाएगा। इसके बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी या उन पर कार्रवाई नहीं होती है, तो इंदौर शहर को आग के हवाले कर दिया जाएगा।

उवेश उर्फ आवेश पुत्र इस्तियाक अहमद उर्फ गुड्‌डू निवासी सिकंदराबाद कॉलोनी और तौसिफ पुत्र अब्दुल रउफ निवासी जूना पीठा को पुलिस ने पकड़ लिया है।
उवेश उर्फ आवेश पुत्र इस्तियाक अहमद उर्फ गुड्‌डू निवासी सिकंदराबाद कॉलोनी और तौसिफ पुत्र अब्दुल रउफ निवासी जूना पीठा को पुलिस ने पकड़ लिया है।

विजयवर्गीय ने कहा था, इंदौर को लोगों ने खून-पसीने से नंबर वन बनाया, आग लगाने वालों की मानसिकता को आग लगाना जरूरी

शहर को आग के लगाने का वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने नाराजी जताई थी। उन्होंने एक बयान में बताया था कि दिन रात एक करके शहर को नंबर वन बनाया है। यह पुलिस अफसरों के लिये एक चेतावनी है। हम भी ऐसे लोगों से निपटने के लिये तैयार हैं। ऐसे लोगों की मानसिकता को आग लगाना जरूरी है। इसके बाद पुलिस प्रशासन ने एकाएक आरोपियों की गिरफ्तारी शुरू की थी।

सर तन से जुदा वाले साथी भी पकड़ाए
उवेश के साथ वीडियो में उसके और साथी शाहिद और शादाब भी दिख रहे थे। जो भीड़ को सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में उकसा रहे थे। इस मामले में पुलिस ने वीडियो के आधार पर उन्हें आरोपी बनाया था। एक दिन पहले ही सदर बाजार पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को पकड़ा और जेल भेज दिया। अफसरों के मुताबिक अभी भी ओर साथियों की तलाश की जा रही है।

धार्मिक नारेबाजी के बाद बढ़े विवाद से जड़ी ये खबरें भी पढ़ें

परिवार को पता नहीं बेटी PFI की 'जासूस' है:इंदौर कोर्ट ने रिमांड पर सौंपा; उससे जुड़ी महिला वकील को तलाश रही पुलिस

प्रतिबंधित संगठन PFI (पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया) की ओर से इंदौर की कोर्ट में जासूसी कर रही सोनू मंसूरी के लॉ स्टूडेंट होने का पता चला है। पूछताछ के बाद पुलिस ने उसे रविवार को कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे 3 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया। युवती ने दिल्ली से इंदौर आए वरिष्ठ वकील से मिलने के बाद ही पुलिस को अपने बयान दर्ज कराए। उधर, इस युवती को लेकर इंटेलीजेंस की टीम भी पड़ताल में जुट गई है। युवती के परिजन का कहना है कि हमें नहीं पता सोनू इंदौर में क्या कर रही थी।

आरोपी युवती सोनू मंसूरी हिंदू संगठन से जुड़े लोगों के केस में चल रही सुनवाई के दौरान प्रोसिडिंग के फोटो-वीडियो बना रही थी। सोनू देवास के शासकीय लॉ कॉलेज की स्टूडेंट है। इस संबंध में उसने पुलिस को अपने कॉलेज का आईडी कार्ड भी सौंपा है। शनिवार को कोर्ट में फोटो-वीडियो बनाते समय वकीलों की शिकायत पर एमजी रोड पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था। PFI और पीस पार्टी को उपलब्ध कराती है फोटो-वीडियो