सड़क हादसे में मौत:कोहरे में नहीं दिखा स्पीडब्रेकर, असंतुलित होकर गिरने से बाइक सवार इंजीनियरिंग छात्र की मौत

इंदौर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रांजल गौड़ - Dainik Bhaskar
प्रांजल गौड़
  • 15 दिन पहले जन्मदिन पर महिला एवं बाल विकास विभाग की डिप्टी डायरेक्टर मां ने दिलाई थी नई बाइक

महिला एवं बाल विकास विभाग की डिप्टी डायरेक्टर के 21 वर्षीय बेटे प्रांजल गौड़ की शुक्रवार सुबह एबी रोड पर हादसे में मौत हो गई। वह सुबह 5 बजे किसी दोस्त से मिलने सिलिकॉन सिटी जा रहा था। 5.30 बजे आईपीएस कॉलेज के सामने स्पीड ब्रेकर के पास वह हादसे का शिकार हो गया।

मां ने 15 दिन पहले ही उसके जन्मदिन पर नई बाइक दिलाई थी। राजेंद्र नगर पुलिस का कहना है कि शुरुआती जांच में ऐसा लग रहा है कि सुबह धुंध के कारण प्रांजल को स्पीड ब्रेकर नजर नहीं आया और वह तेज रफ्तार के कारण उछलकर गिर गया। सिर आदि में चोट आने से उसकी मौत हो गई।

पुलिस के मुताबिक, प्रांजल आईपीएस कॉलेज से इंजीनियरिंग कर रहा था। वह फर्स्ट ईयर का छात्र था। उसके पिता राजेश गौड़ झाबुआ में प्रोफेसर हैं। मां अंशु मसीह इंदौर में महिला एंव बाल विकास विभाग में उप संचालक (डिप्टी डायरेक्टर) हैं। वे खंडवा में जिला कार्यक्रम अधिकारी भी रह चुकी हैं। परिजन ने पुलिस को बताया कि मां और बेटे दोनों इंदौर में रहते थे। बड़ा बेटा चंडीगढ़ में जॉब करता है। प्रांजल को विदेश की एक कंपनी में जॉब भी ऑफर हुई थी।

किसी को नहीं पता किससे मिलने के लिए निकला था

जब मां की नींद खुली तो उन्होंने बेटे को खोजा, लेकिन वह घर में नहीं िमला। करीब छह घंटे बाद उन्हें पता चला कि बेटा हादसे का शिकार हो चुका है। अभी किसी को नहीं पता कि वह किससे मिलने जा रहा था।

गाड़ी में नहीं टक्कर के निशान

टीआई अमृता सोलंकी के अनुसार, घटना स्पीड ब्रेकर के पास हुई है। गाड़ी में आगे-पीछे कहीं से भी टक्कर के निशान नहीं हैं। लग रहा है कि धुंध के कारण वह स्पीड ब्रेकर नहीं देख सका। फिर गाड़ी स्पीड में होने के कारण असंतुलित हुई है। उसे शरीर के जिन हिस्सों में चोट आई है, उसी तरफ गाड़ी भी रगड़ाई है। पुलिस आसपास के सीसीटीवी कैमरे खंगाल रही है।

दूसरा हादसा

बड़वानी प्लाजा के पास कार की टक्कर से छात्र ने दम तोड़ा, चालक गिरफ्तार

शुक्रवार सुबह 8 बजे बड़वानी प्लाजा के पास पैदल जा रहे 21 वर्षीय छात्र को पीछे से तेज रफ्तार कार ने कुचल दिया। मौके पर उसकी मौत हो गई। पलासिया टीआई एसएस बैस के अनुसार कार खरगोन का मनीष इंग्ले चला रहा था। उसने बताया कि अचानक एक्सेलरेटर दब गया, जिससे कार की स्पीड बढ़ गई। घटना के 12 घंटे बाद मृतक की पहचान उज्जैन निवासी रितिक नागवंशी के रूप में हुई है। वह छह महीने पहले इंदौर में पढ़ाई करने आया था। देर रात उसके परिजन भी पहचान के लिए इंदौर पहुंचे हैं।

खबरें और भी हैं...