पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Standing In The Sun And Write Correctly On The Whole Page I Have Come Out Of The House Without Work, Who Will Go Home, Do Not Write Correctly And Will Have To Go To Temporary Prison If I Make Excuses

इंदौर में लॉकडाउन तोड़ने पर सजा का नया तरीका:धूप में खड़े होकर पूरे पेज पर लिखो - मैं बिना काम के घर से बाहर निकला हूं, छोटी सजा भुगतकर जाओ घर, बहस की तो सीधे अस्थाई जेल

इंदौरएक महीने पहले
खजराना टीआई दिनेश वर्मा ने सजा का यह नया तरीका निकाला है।

कोरोना संक्रमण की चेन तोडने के लिए गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मिले संदेश के बाद इंदौर सख्त लॉकडाउन की बढ़ रहा है। यह लॉकडाउन शनिवार 8 मई से शुरू होकर 17मई सुबह 6 बजे तक जारी रहेगा। हालांकि इसके पहले शुक्रवार सुबह ही सड़क पर सख्ती का एक नमूना देखने को मिला है।

खजराना पुलिस ने बेवहज घूमने वालों वालों को न सिर्फ रोका। उनसे एक कागज पर यह लिखवाया कि वह बेवजह घर से बाहर निकले हैं और अब वे ऐसा नहीं करेंगे। जिन्होंने सही तरीके से लिखा उन्हें घर भेज दिया। जिन्होंने बहाना बनाया वे गए अस्थाई जेल।

खजराना टीआई दिनेश वर्मा ने बताया कि खजराना चौराहे पर सुबह से ही पुलिस की एक टीम बेवजह घूमने वालों को रोककर उनसे पूछताछ कर रही है। इस दौरान जो लोग बिना काम के निकल रहे हैं। उनसे एक पेज पर यह लिखवाया जा रहा है कि हम अनावश्यक घर से बाहर नहीं निकलेंगे। जनता कर्फ्यू का पालन करेंगे। ऐसी लाइन तब तक लिखना है, जब तक की पेज नहीं भर जाए।

टीआई का कहना है कि इनसे ऐसा इसलिए करवाया जा रहा है कि धूप में खड़े रहने से इन्हें उनकी गलती समझ आएगी। इन्हें एहसास होगा कि बिना काम घर से बाहर नहीं निकलना है। जो लोग अच्छी तरह से पेज पर लिख रहे हैं, उन्हें यहीं से छोड़ा जा रहा है, जो ठीक से नहीं लिख रहे हैं, बहस कर रहे हैं या बहाना बना रहे हैं। उन्हें अस्थाई जेल भेजा जा रहा है। ऐसे लोगों के लिए हमने एक बस भी खड़ी कर रखी है, जो इन्हें जेल लेकर जाती है।

जिन्हाेंने सही तरीके से लिखा - वे घर गए, जिन्होंने बहाना बनाया वे सिटी बस में बैठे।
जिन्हाेंने सही तरीके से लिखा - वे घर गए, जिन्होंने बहाना बनाया वे सिटी बस में बैठे।

कल से और सख्त हो सकता है कर्फ्यू

शुक्रवार को कर्फ्यू को और सख्त करने को लेकर फैसला आ सकता है। इसके अनुसार मेडिसिन और फूड संबंधी उद्योगों को छोड़कर बाकी सभी उद्योग भी बंद रह सकते हैं, फल-सब्जी के लिए भी सप्ताह में दो दिन तय किए जाएंगे और किराना दुकान भी सप्ताह में दो दिन खुलेंगी। दवा दुकान, मेडिकल लैब आदि ही सातों दिन खुल सकेंगी। दूध की सुबह और शाम को बिक्री होगी।

खबरें और भी हैं...