पबजी के शौक ने बनाया लुटेरा:इंदौर में महंगे मोबाइल लेने के लिए की थी पहली लूट, बाद में शौक पूरा करने के लिए आदत बना ली; पुलिस ने दो नाबालिग को पकड़ा

इंदौर2 महीने पहले

इंदौर में ऑनलाइन गेम पबजी खेलने के लिए दो लड़के लूट करने लग गए। वे महिलाओं को ज्यादा निशाना बनाते थे, ताकि उन्हें खतरा कम रहे। पुलिस ने दोनों को पकड़ लिया है। पूछताछ के दौरान दोनों ने बताया कि ग्रुप में पबजी खेलने के लिए महंगे मोबाइल की जरूरत थी, इसलिए उन्होंने खरीदने के लिए पहली लूट की थी, जो बाद में आदत बन गई। अपने शौक को पूरा करने के लिए उन्होंने लूटपाट करना शुरू कर दिया।

विजयनगर टीआई तहजीब काजी के मुताबिक गुरुवार को एमआईजी और बाणगंगा इलाके के 16 और 17 साल के दो आरोपियों को पकड़ा गया है। दोनों कई थाना क्षेत्रों में एक दर्जन लूट की वारदातों को अंजाम दे चुके हैं। आरोपियों से लूट के 5 मोबाइल, 2 बैग, 2 हजार रुपए और 4 बाइक बरामद हुई हैं। दो बाइक आरोपियों के हैं, जबकि दो चोरी के हैं। इनके दो-तीन साथी और भी हैं, जिनकी तलाश की जा रही है।

आरोपियों ने लूट में मिले रुपयों से ब्रांडेड कपड़े, जूते और अन्य सामान खरीद लिया। आरोपियों ने बताया कि उन्हें पबजी खेलने का शौक है। इस कारण महंगे मोबाइल होना जरूरी है। पहली बार लूट महंगा मोबाइल खरीदने के लिए की थी। बाद में इसे अपनी आदत बना लिया।

छह महीने पहले युवती को लूटा था
दोनों नाबालिगों ने छह महीने पहले बाणगंगा में युवती के साथ लूट की थी। इसके बाद से दोनों लूटपाट करने लगे थे। एक नाबालिग बाणगंगा इलाके मजदूर परिवार से, जबकि दूसरे के पिता की इंदौर के श्रीनगर में दुकान है।

दो घंटे सुबह और 4 घंटे रात में घूमते हैं
आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि वह भंवरकुआं से विजय नगर के बीच सुबह 10 से 12 बजे और शाम 6 से 10 बजे के बीच घूमते थे। इस दौरान लूट की वारदात को अंजाम देते थे। आरोपियों ने विजय नगर, पलासिया, सयोगितागंज, भंवरकुआं में एक दर्जन वारदातें कीं। वह बाइकों का नंबर भी बदल देते थे। आरोपियों के कई जगह सीसीटीवी फुटेज आए थे, जिनके बाद उनकी पहचान हो गई थी।

खबरें और भी हैं...