• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Student Leaders Raised Slogans Of Vice Chancellor Murdabad In University, Torn Memorandum In Front Of Vice Chancellor In Charge

DAVV में NSUI का हंगामा:यूनिवर्सिटी में छात्र नेताओं ने लगाए कुलपति मुर्दाबाद के नारे, प्रभारी कुलपति के सामने फाड़ा ज्ञापन

इंदौर4 दिन पहले
NSUI ने किया प्रदर्शन

इंदौर के देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी में NSUI ने एक बार फिर ओपन बुक एग्जाम की डिमांड की। इस डिमांड को लेकर लेकर छात्र नेता यूनिवर्सिटी पहुंचे और जमकर प्रदर्शन किया। वे यूनिवर्सिटी कैंपस में जमीन पर बैठ गए और कुलपति मुर्दाबाद के नारे लगाए। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर यूनिवर्सिटी एग्जाम रद्द नहीं करता है या ओपन बुक एग्जाम नहीं करवाता है तो आगे भी प्रदर्शन किया जाएगा यूनिवर्सिटी के अलावा एग्जाम सेंटर पर भी इसका विरोध देखने को मिलेगा।

देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी की 18 जनवरी से ऑफलाइन एग्जाम शुरू होने वाली है। जिसकी तैयारी भी यूनिवर्सिटी मैनेजमेंट कर चुका है। इंदौर में लगातार बढ़ते कोविड के मामलों को लेकर छात्र नेता ओपन बुक एग्जाम या ऑनलाइन मोड में एग्जाम कराने की डिमांड कर रहे है। इसी डिमांड को लेकर शुक्रवार को NSUI छात्र नेता एक बार फिर आर.एन.टी मार्ग यूनिवर्सिटी कैंपस पहुंचे और जमकर हंगामा किया। इस दौरान छात्र नेताओं ने यूनिवर्सिटी मैनेजमेंट के सामने कई प्रश्न भी रखे। जब अधिकारियों ने ज्ञापन मांगा तो छात्र नेता ने उनके सामने ही ज्ञापन फाड़ दिया।

कुलपति मुर्दाबाद के लगाए नारे
छात्र नेता यूनिवर्सिटी कैंपस में जमीन पर बैठ गए और जोरदार नारेबाजी करने लगे। इस दौरान उन्होंने कुलपति मुर्दाबाद के नारे लगाना भी शुरू कर दिए। वहीं दूसरी तरफ यूनिवर्सिटी में प्रदर्शन की सूचना पर पुलिस बल पहले से तैनात रहा। छात्र नेताओं की नारेबाजी और गतिविधियों को पुलिस ने अपने मोबाइल फोन में भी रिकॉर्ड किया। छात्र नेताओं ने अपनी डिमांड को लेकर प्रभारी कुलपति को ज्ञापन सौंपा और कई सवाल भी खड़े किए। यूनिवर्सिटी के प्रभारी कुलपति ने छात्र नेताओं से चर्चा की और ज्ञापन मांगा तो छात्र नेता ने उन्हें ज्ञापन देने के बजाए उनके सामने ही ज्ञापन फाड़ दिया।

छात्र नेता ने प्रभारी कुलपति के सामने फाड़ा ज्ञापन
छात्र नेता ने प्रभारी कुलपति के सामने फाड़ा ज्ञापन

एग्जाम सेंटरों पर भी होगा विरोध
NSUI के प्रदेश महासचिव यश यादव ने कहा 18 जनवरी के पहले या एग्जाम के दौरान कोई स्टूडेंट कोविड पॉजिटिव हुआ तो उसकी जिम्मेदारी किसकी रहेगी। उन स्टूडेंट्स के एग्जाम कैसे होंगे? प्रभारी कुलपति व रेक्टर ने हमें आश्वासन दिया है कि ऐसे स्टूडेंट्स की अलग से एग्जाम ली जाएगी या बाद में इनकी एग्जाम कराई जाएगी। यूनिवर्सिटी और प्रशासन हिटलर शाही रवैया अपना रहा है जो स्टूडेंट को, उसके भविष्य को और उसके जीवन को आग में झोंक रहा है। अगर यूनिवर्सिटी ऑफलाइन एग्जाम को रद्द नहीं करती है तो NSUI का विरोध जारी रहेगा और एग्जाम सेंटरों पर भी विरोध देखने को मिलेगा।

शासन के आदेश ऑफलाइन एग्जाम का
प्रभारी कुलपति व रैक्टर डॉ. अशोक कुमार शर्मा ने कहा शासन को जो आदेश है उसके अनुसार एग्जाम कराई जाएगी। 18 जनवरी से यूनिवर्सिटी की एग्जाम शेड्यूल है। शासन से यूनिवर्सिटी, कॉलेजों के लिए ऑफलाइन एग्जाम कराने की आदेश है। कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान रखते हुए एग्जाम होगी। कोई स्टूडेंट्स अगर पॉजिटिव हुआ है उसकी रिपोर्ट मिलती है या कोई बात संज्ञान में आती है तो उसके लिए उचित प्रबंध किया जाएगा। वहीं डीएसडब्ल्यू डॉ. लक्ष्मीकांत त्रिपाठी ने कहा सभी एग्जाम सेंटरों पर अलग से कोविड पॉजिटिव स्टूडेंट्स की एग्जाम की व्यवस्था रहेगी।

खबरें और भी हैं...