• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Textile Traders Said Against 30 Items In E way Bill Will Send Post Cards To The Government, Will Meet The Chief Minister

विरोध जारी:ई-वे बिल में 30 आइटम के खिलाफ कपड़ा कारोबारी बोले- सरकार को पोस्ट कार्ड भेजेंगे, मुख्यमंत्री से मिलेंगे

इंदौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिल दो भागों में रहता है, एक भी गलत जानकारी पर लगेगी पेनल्टी। - Dainik Bhaskar
बिल दो भागों में रहता है, एक भी गलत जानकारी पर लगेगी पेनल्टी।

कपड़ा कारोबारियों ने मंगलवार को बैठक की और तय किया कि इसके विरोध में मप्र शासन को पोस्टकार्ड भेजे जाएंगे, अधिकारियों को ज्ञापन देंगे और भोपाल में मुख्यमंत्री से मुलाकात का समय लेकर वहां भी इस फैसले का विरोध करेंगे। साथ ही क्लॉथ मार्केट एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने भोपाल में भी संगठनों से बात की है और इसमें प्रदेश स्तर पर ई-वे बिल और कपड़े पर लगने वाले जीएसटी के विरोध के लिए एकजुट होने की बात कही है।

बैठक में एसोसिएशन के अध्यक्ष हंसराज जैन, सदस्य अरुण बाकलीवाल व अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे। वहीं, अहिल्या चैंबर के अध्यक्ष रमेश खंडेलवाल ने कहा कि जीएसटी की समस्याएं खत्म करने की जगह बढ़ती जा रही हैं। ई-वे बिल से छोटे व मध्य व्यापारी दुकान बंद करने की नौबत पर आ जाएंगे।

छोटे कारोबारियों का टर्नओवर कम है, इसलिए अभी जीएसटी के दायरे में नहीं आते हैं, लेकिन अब माल लेने के लिए गांव से अन्य जिलों से कारोबारी आता है तो उन्हें बिल के साथ ई-वे बिल भी देना होगा, जो बिना जीएसटी पंजीयन कराए अपलोड नहीं होगा। कागजी कार्रवाई इतनी बढ़ेगी कि छोटा दुकानदार कारोबार ही नहीं कर सकेगा।

41 वस्तुओं के लिए ई-वे बिल अपलोड करना होगा

वरिष्ठ कर सलाहकार आरएस गोयल ने बताया कि नए नोटिफिकेशन के बाद अब 41 वस्तुओं को मप्र के एक जिले से दूसरे में भेजने के पहले कारोबारी को ई-वे बिल अपलोड करना होगा। इसके लिए उन्हें जीएसटी रजिस्ट्रेशन लेना होगा और फिर टर्नओवर के हिसाब से मासिक या तिमाही रिटर्न भरना होगा। ईवे बिल में चूक पर देय कर के दोगुना पेनल्टी लगेगी।

रिटर्न नहीं भरा तो रुक जाएगी ईवे बिल की सुविधा- जीएसटी विशेषज्ञ सुनील पी. जैन ने कहा कि नियम अनुसार कारोबारी द्वारा लगातार दो रिटर्न नहीं भरे जाने पर पोर्टल द्वारा आटोमैटिक ही ईवे बिल की सुविधा रोक दी जाती है, इसलिए इसके लिए लगातार कारोबारी को रिटर्न भरना होगा। बिल में सभी जानकारी जैसे कारोबारी नाम, पता, जीएसटी नंबर, माल का मूल्य, टैक्स दर, माल की मात्रा, बिल नंबर, तारीख, वस्तु का नाम व उसका कोड, माल जहां जा रहा उसकी जानकारी, माल परिवहन वाले वाहन का सही नंबर आदि भरना होगा।

खबरें और भी हैं...