पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सिक्के से ट्रेन रोकने का मामला:एक अन्य आरोपी गिरफ्त में, 8 इंच की गेप से दाखिल होता था बोगियों में, हरियाणा के राजनगर से किया गिरफ्तार

इंदौर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आधी रात को एक्सप्रेस ट्रेन में चोरी और लूट करने वाले गिरोह का इंदौर GRP ने पर्दाफाश किया था । पुलिस ने मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया था है। गिरोह में शामिल 11 वर्षीय नाबालिग को पुलिस ने हरियाणा राजनगर से गिरफ्तार किया है। यह ट्रेन रुकने के बाद दो बोगी के बीच टॉयलेट के पास गेप के रास्ते ट्रेन के अंदर दाखिल होकर डिब्बे का दरवाजा अंदर से खोल आरोपियों को वारदात करने में मदद करता था। आरोपी को जिला कोर्ट में पेश कर बाल संप्रेक्षण गृह भेजा गया है।

GRP ASP राकेश खाका के अनुसार, बदमाशों ने बताया कि हर रेलवे क्रॉसिंग पर पटरी के बीच बैरिकेड्स होता है। यहां 2 रुपए का सिक्का रखते ही सिग्नल 15 मिनट के लिए रेड हो जाता है। ट्रेन आने से पहले बदमाश कार से पहुंच जाते थे। दीपक कार लेकर दूर खड़ा रहता। बाकी चार आरोपी सिग्नल के पास रहते। रेड सिग्नल देख जैसे ही ड्राइवर ट्रेन रोकता तो एसी की दो बोगियों के बीच में 8 इंच के गैप से पतला-दुबला साथी पहले घुसता था। वह अंदर जाकर दरवाजा खोलता। फिर सभी साथी अंदर चले जाते। राहुल हर सोते यात्री पर मोबाइल की टॉर्च मारता। जैसे ही, देखते की महिला अकेली सो रही है तो उसे चाकू दिखाकर लूट लेते। दस मिनट में माल लूटकर भाग जाते। पुलिस को चार आरोपी जो इसमें लूट की वारदात करते थे वह दो पुलिस के हाथ लग चुके थे लेकिन जो आरोपी बोगियों के बीच में से अंदर दाखिल होता था उसकी तलाश थी जिसे हरियाणा राजनगर से GRP पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

सिक्के से कैसे ट्रेन रोकते थे लुटेरे VIDEO:गैंगमैन पिता से सीखा पटरी पर सिक्का रखकर रेड सिग्नल करना; दो बोगियों के बीच 8 इंच के गैप में से घुसकर करते थे लूट

गैंगमैन पिता से सीखा सिग्नल रेड करना

राहुल ने कहा कि उसके पिता गैंगमैन हैं। उनके साथ पटरियों पर जाते वक्त यह तरीका सीखा था। हर स्टेशन के पहले ट्रैक पर एक सर्किट होता है, जिसे ट्रैक सर्किट कहते हैं। जब ट्रेन पटरी से गुजरती है, तो अपने आप स्टेशन पर लगा सिग्नल ग्रीन हो जाता है। जब सर्किट में फॉल्ट होगा, तो यह सिग्नल रेड हो जाएगा। गैंग के साथी ने अपने पिता से क्राॅसिंग पाइंट में सिक्का रख कर रेड सिग्नल करना सीखा।

जनवरी से जून तक लूट की 18 वारदातें कीं

इस साल जून महीने में बदमाशों ने 7 ट्रेनों में वारदातें की हैं। इनमें 18 जून को बीकानेर-दादर रणपुर एक्सप्रेस में आबू के पास, 19 जून को अवंतिका एक्सप्रेस व अजमेर-मैसूर एक्सप्रेस में भरुच (गुजरात) के पास, 20 जून को बांद्रा-भुज एक्सप्रेस में वापी (गुजरात) के पास, 25 जून को पोरबंदर-हावड़ा एक्सप्रेस नंदूरबार (महाराष्ट्र) के पास, 26 जून को मध्य प्रदेश के मक्सी के पास जयपुर-हैदराबाद एक्सप्रेस तथा 27 जून को जयपुर-सिकंदराबाद एक्सप्रेस में कोटा के पास लूट की वारदातें शामिल हैं।

जनवरी की घटना

21 जनवरीचुरू -- राजस्थान
21 जनवरीवापी -- गुजरात
23 जनवरीभरूच-- गुजरात
24 जनवरीसुरत -- गुजरात

फरवरी की 8 घटनाएं हैं।

जून की घटना

पहली घटना18 जूनमाउंट आबूराजस्थान
दूसरी घटना19 जूनभरूचगुजरात
तीसरी घटना20 जूनवापीगुजरात
चौथी घटना25 जूननंदूरबारमहाराष्ट्र
पांचवीं घटना26 जूनमक्सीमध्य प्रदेश
छठवीं घटना27 जूनकोटाराजस्थान