इंदौर पुलिस कमिश्नर को राष्ट्रपति पुरस्कार:ये वो पुलिस अफसर जिन्होंने 18 दिन में हत्यारे-दुष्कर्मी को फांसी की सजा दिलाई, कई सुसाइड रोके

इंदौर4 महीने पहले

इंदौर पुलिस कमिश्नर हरिनारायणचारी मिश्र को पुलिस सेवा में रहते हुए सराहनीय कार्य करने हेतु राष्ट्रपति पुलिस पदक से नवाजा जाएगा। यह पुरस्कार उन्हें आगामी 15 अगस्त को नई दिल्ली में दिया जाएगा। पुरस्कार की घोषणा आज की गई है।

हरिनारायणचारी मिश्र ने इंदौर में एसडीओपी से अपनी सेवाओं की शुरुआत की थी। उसके बाद दो बार इंदौर में डीआईजी पदस्थ रहे और फिर आईजी इंदौर के पद पर भी रहे। उन्होंने इंदौर में DIG रहते गुंडों के मकानों को तोड़ उनकी आर्थिक कमर तोड़ दी थी। यह उदाहरण पूरे प्रदेश में फॉलो किया गया।

इंदौर पुलिस कमिश्नर हरिनारायणाचारी मिश्र।
इंदौर पुलिस कमिश्नर हरिनारायणाचारी मिश्र।

हरिनारायणाचारी मिश्र ने राजवाड़ा से लापता दुधमुंही बच्ची का अपहरण, दुष्कर्म और हत्या करने वाले आरोपी को पकड़कर 18 दिन में ही फांसी की सजा दिलवाई थी। उसका केस इतना मजबूत था कि कोर्ट को भी सुनवाई करने और फैसला सुनाने में वक्त नहीं लगा।

आत्महत्याओं को रोकने के लिए शुरू की संजीवनी हेल्पलाइन
हरिनारायणचारी मिश्र को राष्ट्रपति पदक का सम्मान पुलिस में उनकी सराहनीय सेवा के लिए दिया जा रहा है। इंदौर में रहते हुए भी उन्होंने बढ़ती आत्महत्याओं को रोकने के लिए संजीवनी हेल्पलाइन की शुरूआत की थी, जिससे काफी मदद मिली। मिश्र पहले आइपीएस हैं, जिन्होंने इंदौर से बतौर एसडीओपी शुरुआत की और फिर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, डीआईजी और आईजी बने।

कांग्रेस नेत्री के हत्यारों को पकड़ा -

मिश्र ने लापता कांग्रेस नेत्री ट्विंकल डागरे हत्याकांड का बीईओएस टेस्ट से खुलासा कर भाजपा नेता कल्लू करोसिया को गिरफ्तार किया।

  • 42 करोड़ के आबकारी घोटाले में शराब ठेकेदारों की गिरफ्तारी करवाई।
  • 70 करोड़ रुपये कीमती ड्रग पकड़ कर अंडरवर्ल्‍ड से जुड़े लोगों को पकड़ा।
  • साइबर हेल्प लाइन के माध्यम से करोड़ों रुपये की राशि पीड़ितों को दिलाई।