• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • The Bullet Was Fired In Broad Daylight On Monday, The Home Minister Had Given Instructions To Catch It Soon

शराब व्यापारी गोलीकांड में दो आरोपी हुए सरेंडर:इंदौर पुलिस ने कहा- नेपाल भागने की फिराक में थे, भोपाल बायपास से दोनों को पकड़ा है

इंदौर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इंदौर में सोमवार दिनदहाड़े हुई शराब व्यवसाई अर्जुन ठाकुर पर हमला करने के मामले में दो आरोपियों ने बुधवार सुबह विजयनगर थाने में सरेंडर कर दिया है। हालांकि इंदौर पुलिस ने सरेंडर की बात को खारिज किया है। उसने कहा है कि दोनों नेपाल भागने की फिराक में थे। उन्हें भोपाल हाईवे से गिरफ्तार किया है। इस हमले में हेमू ठाकुर चिंटू ठाकुर,गैंगस्टर सतीश भाऊ और छोटू दयाराम शामिल थे।

सोमवार हमला करने के बाद चारों आरोपी फरार हो गए थे। इसकी तलाश पुलिस सभी जिलों में कर रही थी। वही प्रदेश के गृहमंत्री ने आरोपियों को जल्द पकड़ने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद बुधवार सुबह दो आरोपियों ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है।

सूत्रों की माने तो कुख्यात बदमाश सतीश भाऊ और चिंटू ठाकुर ने विजयनगर थाने में सरेंडर किया है और गैंगस्टर सतीश भाऊ कुछ दिन पहले पैरोल पर जेल से छूट कर आया था। सतीश भाऊ पर इंदौर शहर में दर्जनों अपराध दर्ज है।

अंदर की कहानी यह है
विजय नगर पुलिस कह रही है कि दोनों आरोपियों को भोपाल बायपास से पकड़ा है। ये नेपाल जाने की फिराक में भाग रहे थे, लेकिन सूत्र बता रहे हैं कि जैसे ही दोनों अपराधियों को पता चला कि उनकी संपत्ति तोड़ी जाएगी तो वे पेश होने के लिए छटपटाने लगे। पुलिस ने उनके रिश्तेदारों और एक आरोपी की महिला मित्र को थाने में बैठाकर दबाव भी बनाया था। इसके बाद दोनों आरोपियों की पहले योजना थी कि कनाड़िया थाने में हथियार के साथ पेश हो जाएं, लेकिन फिर एकाएक योजना को बदलते हुए विजय नगर पुलिस के सामने सरेंडर हुए। पुलिस जल्द ही तीसरे आरोपी हेमू ठाकुर को भी गिरफ्तार करने की बात कह रही है। उसकी तलाश में भी एक टीम भेजी गई हैं, लेकिन सूत्र बता रहे हैं कि जल्द ही हेमू ठाकुर भी पेश होने वाला है।

इंदौर में शराब पर गैंगवार:980 करोड़ का ठेका 32 छोटे-बड़े ठेकेदारों ने मिलकर लिया, अब मुनाफे और शराब के पूरे सिंडिकेट पर कब्जे की लड़ाई शुरू

यह था विवाद का कारण

सूत्रों की मानें तो गांधीनगर नवदा पंथ सर्कल की शराब दुकान की देखरेख अर्जुन ठाकुर करता था। सोमवार सुबह इस दुकान का चार्ज अर्जुन से लेने के लिए हेमू ठाकुर अपनी टीम के साथ पहुंचा था। यहां हेमू ठाकुर के एक साथी ने दुकान में घुसते से ही वहां लगी वीरेंद्र ठाकुर (अर्जुन के पिता) की फोटो बाहर फेंक दी। जिसके बाद फोन पर कहासुनी हुई और विजय नगर थाना क्षेत्र स्थित

सिंडिकेट ऑफिस पर आपसी विवाद के बाद अर्जुन ठाकुर पर हेमू ठाकुर चिंटु ठाकुर व दो गैंगस्टर द्वारा हमला कर दिया गया। जिसमें अर्जुन ठाकुर गंभीर घायल हुआ था और उन निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

खबरें और भी हैं...