भीषण गर्मी में निढ़ाल होकर गिरा बैल:ढाई क्विंटल सरिया भरकर ले जा रहा था बैलगाड़ी चालक, फिसलकर गिरा बैल

इंदौरएक महीने पहले

भीषण गर्मी में एक ओर जहां खुद पुलिस व एनजीओ पशु-पक्षियों के लिए पानी का इंतजाम कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर भारी माल ले जाने के लिए बैलगाड़ियों का उपयोग कर पशुओं के साथ खुलेआम क्रूरता की जा रही है। खास बात यह कि इसके लिए गाइड लाइन जारी होने के बावजूद भीषण गर्मी में बैलगाड़ियों पर भारी भरकम व क्षमता से ज्यादा माल ढोया जा रहा है। इससे बैलों की हालत खराब होती जा रही है।

ऐसे ही एक मामले में एक बैलगाड़ी पर ढाई क्विंटल से ज्यादा सरिया भेजा जा रहा था। भीषण गर्मी में बैल यह सहन नहीं कर पाया और निढ़ाल होकर गिर पड़ा। यह देख बैलगाड़ी चालक व उसके साथी भाग निकले।

बैल की हालत देख लोग चिल्लाए, तो गाड़ी चालक भागा

घटना बुधवार शाम 4.30 बजे की है। जूनी इंदौर, नसिया रोड के पास पांच बैलगाड़ियों पर काफी मात्रा में सरिया ले जाया जा रहा था। इसके चलते जाम की स्थिति भी बन गई। इस बीच दो बैलगाड़ियां आगे निकल गई। लेकिन तीसरी गाड़ी में जुता एक बैल फिसला और गिरने लगा। इससे गाड़ी भी टेढ़ी हो गई। यह देख लोग बैलगाड़ी चालक पर चिल्लाए और उसे मारने दौड़े तो चालक व उसका साथी भाग निकला।

8 किलोमीटर दूर बाणगंगा से भरकर ला रहे थे सरिया

गुस्साए लोग अन्य बैलगाड़ियों की ओर गए तो उसमें सवार चालक व उसके साथी भी भाग निकले। इस पर लोगों ने घायल बैल को गाड़ी से निकाला और उस पर पानी डालकर उसे सामान्य करने की कोशिश की। इसके साथ ही पुलिस व पीपल्स फॉर एनिमल्स को सूचना दी। बैल के शरीर में पर कई जगह जख्म भी थे। लोगों ने बताया कि उक्त बैलगाड़ियां बाणगंगा सांवेर रोड से सरिया लेकर रवाना हुई थी। यानी भीषण गर्मी में करीब 2 बजे इन बैलों का उपयोग कर उन्हें 8-9 किमी तक लाया गया और उसके भी आगे जाने वाले थे। पुलिस ने बैलों को छुड़वाकर नगर निगम की हातोद स्थित गोशाला भिजवाया है। जबकि घायल बैल का इलाज चल रहा है।

कलेक्टर का आदेश
कलेक्टर का आदेश

मार्च में निकाला था कलेक्टर ने आदेश

पीपल्स फॉर एनिमल्स (इंदौर) की अध्यक्ष प्रियांशु जैन ने बताया कि कलेक्टर ने 23 मार्च काे इसे लेकर आदेश निकाला है कि 30 जून तक गर्मी में माल ढोने के लिए बैल या अन्य पशुओं का उपयोग सुबह 12 से 3 बजे के बीच नहीं होगा। ऐसे ही नियम है कि दिन का तापमान 37 डिग्री से ज्यादा हो तो इनका उपयोग नहीं होगा। उक्त बैलों का दोपहर 2 बजे से उपयोग किया जा रहा था और बुधवार को दिन का तापमान तो 38.7 डिग्री सेल्सियस था। मामले में बैलगाड़ी चालक व संबंधितों के खिलाफ पुलिस द्वारा केस दर्ज करने की तैयारी है।