इंदौर गोलीकांड में घायल SI बोली- TI पिता समान थे:3 लोगों पर दर्ज करा चुकी रेप का मामला; TI की भी 3 पत्नियां

इंदौर5 महीने पहलेलेखक: संतोष शितोले

इंदौर में भोपाल के टीआई हाकम सिंह का महिला एसआई रंजना खांडे पर गोली चलाना और फिर खुद को गोली मारकर खुदकुशी करना। इसके पीछे कार को लेकर विवाद था। खुद टीआई की गोली से बची महिला एसआई ने पूरी कहानी बताई। महिला एसआई ने कहा कि उसने टीआई से कार खरीदी थी, लेकिन वो कार देने को लेकर ना-नुकुर कर रहे थे। इस बात को लेकर महिला एसआई ने भोपाल में टीआई हाकम सिंह की शिकायत की थी। इसके बाद वो इस मामले को सुलझाने के लिए इंदौर आए थे। इसी दौरान कार की बात को लेकर ही दोनों के बीच झगड़ा हुआ और ये वारदात हो गई।

महिला एसआई धामनोद की रहने वाली है। वर्ष 2019 में बैच मैट के भाई पर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म का केस दर्ज कराया था। बुरहानपुर और धार में भी एक-एक केस दर्ज कराए हैं। उधर, टीआई की भी तीन पत्नियां होने की बात सामने आई है। एक पत्नी पैतृक गांव तराना, दूसरी इंदौर में और तीसरी भोपाल पुलिस में ही पदस्थ है।

6 महीने से नहीं दे रहे थे कार

एसआई ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि मैं वर्ष 2018 से उन्हें जानती थी। वे मेरे पिता समान थे। मुझे 6 माह से गाड़ी नहीं दे रहे थे। इसकी शिकायत भोपाल में की थी। इसी से वे फ्रस्ट्रेटेड थे। सिर्फ गाड़ी के लिए गोली मार देंगे, ये पता नहीं था। जांच में पता चला है कि सुबह टीआई इंदौर निवासी दूसरी पत्नी से कहकर निकले थे कि पैसे वापस लेकर आऊंगा वरना मर जाऊंगा या मार दूंगा।
महिला का मोबाइल गायब
घटनास्थल से महिला एसआई का मोबाइल गायब है। टीआई के मोबाइल में मिली चैट में विवाद से जुड़े कई तथ्य मिले हैं। TI ने गोली चलाने से पहले SI का फोन लेने की कोशिश की थी।

घटना के बाद मौके पर लहूलुहान पड़े टीआई हाकम सिंह और महिला एसआई।
घटना के बाद मौके पर लहूलुहान पड़े टीआई हाकम सिंह और महिला एसआई।

इस खबर को आगे पढ़ने से पहले आप इस पोल में भाग लेकर अपनी राय दे सकते हैं -

एसआई के भाई के नाम पर ली थी कार
प्रारंभिक जांच में पता चला है, टीआई पंवार ने महिला एसआई के भाई के नाम कार खरीदी थी। इसका इस्तेमाल वही कर रहे थे। एसआई यह कार वापस पाना चाहती थी। टीआई के मोबाइल में मिली महिला से चैट में 50 लाख रुपए के लेन-देन का विवाद भी सामने आया है। टीआई महिला से ये पैसे वापस लेना चाहते थे, जबकि महिला कार के लिए अड़ी थी। इसके लिए उसने पंवार की भोपाल मुख्यालय को शिकायत कर रखी थी।
पंवार शिकायत वापस कराने का दबाव बना रहे थे, लेकिन महिला इसके लिए तैयार नहीं थी। कॉफी हाउस में बहस के दौरान भी महिला ने कहा था कि मैं पांच लाख रुपए दे चुकी हूं और चेक दिया और वह बाउंस हो गया तो मैं मर जाऊंगी। यह भी सामने आया है कि टीआई ने रीगल स्थित ग्लोबल कलेक्शन वाले गोविंद जायसवाल को भी 30 लाख रुपए दे रखे थे। वे उसे भी वापस लेने आए थे।

21 जून को बीमारी का हवाला देकर टीआई छुट्‌टी पर इंदौर चले गए। शुक्रवार को मामला निपटाने के लिए महिला सब-इंस्पेक्टर को बुलाया। महिला सब-इंस्पेक्टर को उन्होंने बात करने के लिए अकेले में बुलाया। जहां उसे गोली मार दी। इसके बाद खुद खुदकुशी कर ली।

कब क्या हुआ...
1.30 बजे टीआई कॉफी हाउस पहुंचे।
1.40 बजे एसआई व भाई वहां आए।
30 से 35 मिनट तीनों बहस करते रहे।
2.15 बजे बाहर आए।
40 मिनट तक दोनों बाहर बातें करते रहे।
3.05 बजे गोली चलते ही भीड़ लग गई।

घायल एसआई रंजना खांडे को अस्पताल ले जाया गया।
घायल एसआई रंजना खांडे को अस्पताल ले जाया गया।

ये है मामला

भोपाल के टीआई हाकम सिंह पवार ने इंदौर के पुलिस कंट्रोल रूम में खुद को गोली मारकर सुसाइड कर लिया। उन्होंने पहले एक महिला सब इंस्पेक्टर रंजना खांडे को गोली मारी। इसके बाद खुद जान दे दी। पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र ने इसे प्रेम-प्रसंग का मामला बताया है।

प्रेम प्रसंग में टीआई ने एसआई को गोली मारी:इंदौर के पुलिस कंट्रोल रूम में महिला अफसर को गोली मारी, फिर भोपाल के टीआई ने की खुदकुशी

खबरें और भी हैं...