BHASKAR कला-साहित्य मंच:इंदौर की रश्मि सक्सेना की गजल- ज़िंदगी से तुझे गिला क्या है; ...सिसकियां, अश्क, दर्द, ग़म, आहें, पूछ मत प्यार में मिला क्या है...

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ज़िंदगी से तुझे गिला क्या है

क्यों है इतना ख़फ़ा, हुआ क्या है ।।1।।

कर्म करते रहो ज़माने में

ये न सोचो बुरा-भला क्या है ।।2।।

दर्द की गर नहीं लहर दिल में

तो बता आंख से गिरा क्या है ।।3।।

ख़ुश है तू दूसरों की जीत से गर

तेरे अंदर में जल रहा क्या है ।।4।।

ख़्वाब अपनों के पूरे करने में

अपना जीवन कभी जिया क्या है ।।5।।

सिसकियां, अश्क, दर्द, ग़म, आहें

पूछ मत प्यार में मिला क्या है ।।6।।

हर तरफ है ख़िज़ा का ही मौसम

फूल कोई कहीं खिला क्या है ।।7।।

खबरें और भी हैं...