• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • The District Court Had Given Orders To Attach The Property For Not Appearing Till 28, The High Court Rejected The Order

दुष्कर्म में फरार MLA पुत्र को हाई कोर्ट से राहत:जिला कोर्ट ने 28 तक पेश न होने पर दिए थे संपत्ति कुर्क करने के आदेश, हाई कोर्ट ने आदेश को किया खारिज

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
करण मोरवाल - Dainik Bhaskar
करण मोरवाल

बड़नगर से कांग्रेस विधायक मुरली मोरवाल के बेटे करण मोरवाल को हाईकोर्ट ने राहत दी है। जिला न्यायालय द्वारा 28 सितंबर तक कोर्ट के सामने पेश न होने की सूरत में करण मोरवाल की संपत्ति को कुर्क करने के जेएमएफसी कोर्ट ने आदेश दिए थे, लेकिन हाई कोर्ट ने इस आदेश को खारिज कर दिया है। इसके बाद पुलिस अब मोरवाल के अगले गिरफ्तारी वारंट के लिए जल्द कोर्ट के समक्ष आवेदन करेगी। लंबे समय से फरार आरोपी पर दुष्कर्म का मामला दर्ज है। वहीं आरोपी पर 5 हजार का पुलिस ने इनाम भी घोषित किया हुआ है।

करण पर दुष्कर्म का केस दर्ज होने के बाद से ही उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है, लेकिन अब तक करण मोरवाल पुलिस गिरफ्त से बाहर है। इंदौर पुलिस द्वारा बड़नगर इलाके में फरार आरोपी के फोटो भी चस्पा किए गए थे।

जेएमएफसी कोर्ट से हुआ था आदेश जारी
जेएमएफसी कोर्ट से हुआ था आदेश जारी

MLA पुत्र को पकड़ने के लिए छापे मारी:4 महीने से दुष्कर्म के मामले में है फरार; पुलिस कर चुकी है 5 हजार का इनाम घोषित

दिसंबर 2020 में करण के संपर्क में आई थी युवती

थाना प्रभारी ज्योति शर्मा के मुताबिक, पीड़िता पिछले साल दिसंबर में करण के संपर्क में आई थी। दोनों की दोस्ती हुई। धीरे-धीरे वॉट्सऐप और मोबाइल पर बातें होने लगीं। पीड़िता के अनुसार, करण कई बार उससे मिलने इंदौर भी आया। इस दौरान इंदौर बाइपास स्थित होटल में उसे प्रपोज किया और शादी करने का झांसा देकर उसे नशीला पदार्थ पिलाकर दुष्कर्म किया था।

पुलिस द्वारा फरार आरोपी के बड़नगर में फोटो किए थे चस्पा
पुलिस द्वारा फरार आरोपी के बड़नगर में फोटो किए थे चस्पा

MLA के बेटे पर 5 हजार का इनाम:बड़नगर से कांग्रेस विधायक मुरली मोरवाल के बेटे पर दर्ज कराया था रेप का मामला; अग्रिम जमानत हो चुकी है खारिज, 3 माह से फरार

अग्रिम जमानत याचिका खारिज

12 जुलाई को जिला कोर्ट ने करण मोरवाल की अग्रिम जमानत खारिज कर दी थी। आरोपी ने अग्रिम जमानत के लिए कुछ साक्ष्य पेश किए थे, जिसमें घटना के समय उसने खुद को किसी अस्पताल में भर्ती होना बताया था। इसके आधार पर वह जमानत चाह रहा था, लेकिन पीड़िता ने कॉल रिकॉर्डिंग, वॉट्सऐप चैटिंग जैसे कुछ साक्ष्य पेश किए, जिसके बाद जिला कोर्ट ने आरोपी की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी।

खबरें और भी हैं...