पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • The Family Alleged That There Were Injury Marks On The Body Of The Elderly, The Police Took Out The Body From The Grave And Sent It To The PM

हत्या के शक में कब्र से निकलवाया शव:इंदौर में 3 दिन पहले बुजुर्ग की हुई थी मौत, परिवार वालों ने कहा- शरीर पर चोट के निशान थे

इंदौर9 दिन पहले
लुनियापुरा कब्रिस्तान से शव निकाला गया।

इंदौर के रावजी बाजार क्षेत्र के कब्रिस्तान में दफनाए गए शव को बाहर निकाला गया। परिजन का आरोप है कि बुजुर्ग की हत्या हुई है, लेकिन कुछ लोगों ने घटना दबाने के लिए सामान्य मौत बताई। इसके बाद शव को दफना दिया गया। आरोप के बाद एसडीएम से अनुमति लेकर मंगलवार शाम शव को कब्र से बाहर निकाला गया। अब पोस्टमार्टम होने के बाद रिपोर्ट आने पर ही स्थिति साफ हो सकेगी।

थाना प्रभारी प्रीतम ठाकुर के अनुसार 11 सितंबर को रावजी बाजार थाना क्षेत्र के चंपा बाग में रहने वाले असलम (60) की मौत हो गई थी। वह अकेले चंपा बाग में किराए के मकान में रहते थे। मौत के बाद आसपास के रहने वाले रहवासियों ने बुजुर्ग के शव को लुनियापुरा कब्रिस्तान में दफना दिया था। असलम की भतीजी को दफनाते हुए फोटो और वीडियो दे दिए गए थे।

कब्र के पास खड़े होकर पुलिस करती रही फोटोग्राफी।
कब्र के पास खड़े होकर पुलिस करती रही फोटोग्राफी।

बुजुर्ग की भतीजी नाजिम शेख ने फोटो और वीडियो ध्यान से देखे, तो असलम के शरीर पर मारपीट के निशान दिखे और नाक पर खून दिखा। नाजिम ने मकान मालिक के परिवार के लोगों पर मारपीट कर हत्या करने का संदेह जताया, क्योंकि उनका विवाद चल रहा था।

शिकायत पर पुलिस और मजिस्ट्रेट महिला अधिकारी ने लुनियापुरा कब्रिस्तान पहुंचकर मजदूर की मदद से कब्र को खुदवा कर असलम के शव को बाहर निकलवाया। पोस्टमार्टम के लिए एमवाय अस्पताल भिजवाया गया। 2 दिन पूर्व ही बुजुर्ग के शव को दफनाया गया था। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजे दिया।

अधिकारी भी रहे मौजूद।
अधिकारी भी रहे मौजूद।

बुजुर्ग की भतीजी नाजिम शेख का आरोप था कि चंपा बाग में रहने वाले बुजुर्ग को मकान मालिक के भाई द्वारा लंबे समय से परेशान किया जा रहा था। मृतक के परिवार की कई पीढ़ियां उस मकान में रह रही थीं। 2 दशकों से अधिक पुराना वह मकान था, लेकिन जिस समय बुजुर्गों की मौत हुई थी, उस वक्त उनके चेहरे से खून आ रहा था। चश्मदीदों ने शव को चूहे द्वारा खाया जाना बताया था। भतीजी ने यह भी आरोप लगाया कि बुजुर्गों की मौत के बाद शव को दफनाने की तैयारी चल रही थी, जब वे वहां गई तो मकान मालिक के लोगों ने रोक दिया। हाथापाई भी की थी।

पुलिस की मौजूदगी में शव को बाहर निकाला गया।
पुलिस की मौजूदगी में शव को बाहर निकाला गया।
खबरें और भी हैं...