पुलिस की लेटलतीफी 1 माह बाद की रिपोर्ट दर्ज:भोपाल में हुई वारदात फरयादी ने की आरोपियों की शिनाख्त , फिर हुई F.I.R.

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बदमाश कैमरे में हुए कैद - Dainik Bhaskar
बदमाश कैमरे में हुए कैद

पुलिस के सुस्त रवैया कि कई बार बातें सामने आती है और पुलिस महीनों बाद किसी फरियादी की रिपोर्ट दर्ज करती है। शहर के बाणगंगा थाना क्षेत्र में ज्वेलर्स से ठगी करने वाले की शिकायत पर एक महीने बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया है। पुलिस ने ज्वेलर्स से ठगी की शिकायत को हलके में लिया और उसे टरकाती रही, लेकिन जब ठगोरे भोपाल में पकड़ाए, तब जाकर पुलिस ने ज्वेलर्स की शिकायत पर केस दर्ज किया।

दरअसल मामला 14 जुलाई वृंदावन कॉलोनी स्थित नंदन ज्वेलर्स का है। जहां दो आरोपियों ने सोने की अंगूठी व कान के रिंग खरीदकर ऑनलाइन पेमेंट कर फर्जी एसएमएस कारोबारी को दे दिया वहीं जब कारोबारी ने बैंक में संपर्क किया। तब इस ठगी की पोल खुली सीसीटीवी फुटेज के आधार पर सर्राफा कारोबारी ने आरोपियों की शिकायत 1 महीने पहले बाणगंगा थाने को की थी। लेकिन पुलिस की लेटलतीफी के चलते एफ आई आर दर्ज नहीं थी।दो दिन पूर्व जब ज्वेलर्स को पता चला कि भोपाल पुलिस ने ऐसे ही ठगों को पकड़ा है। तब उसने भोपाल पहुंचकर ठग की शिनाख्त खुद की दुकान पर ठगी करने वाले के रूप में की। जिसके बाद बाणगंगा पुलिस ने शुक्पुरवार दे रात फरयादी के आवेदन पर मामला दर्ज किया।

भोपाल में हुई वारदात फिर लिखी रिपोर्ट

फरियादी अभिजीत सोनी को पिछले दिनों जानकारी मिली कि जिस तरह से उनकी शॉप पर ठगी हुई है, उसी तरह से भोपाल में भी सराफा कारोबारियों के साथ ठगी की वारदात हुई है। इतना ही नहीं भोपाल पुलिस ने फुटेज के आधार पर एक बदमाश को पकड़ भी लिया है। अभिजीत और उनके पिता इसके बाद भोपाल के पहुंचा उन्होंने आरोपियों के फुटेज देखे। फरियादी का कहना है कि एक आरोपी हूबहू उसी तरह का है जो उनकी दुकान में आया था। फरियादी अभिजीत और उनके पिता ने इसके बाद बाणगंगा पुलिस थाने में दोबारा जाकर पूरी जानकारी दी तब जाकर मामले में प्रकरण दर्ज हो पाया है। बाणगंगा पुलिस ने शुक्रवार को फरियादी अभिजीत पिता कांतिलाल सोनी निवासी कमला नेहरू नगर महेश गार्ड रोड की शिकायत पर दो अज्ञात आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है।