• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • The infected gave birth to twins, the first case of its kind in the country; Wedding pavilion in Quarantine Center, officer turned hostile, seven rounds were also held

कोरोना से जुड़ीं दो पॉजिटिव खबरें / संक्रमित ने जुड़वां बच्चों को दिया जन्म, देश में अपनी तरह का पहला मामला; क्वारेंटाइन सेंटर में शादी का मंडप, अफसर बने घराती, सात फेरे भी हुए

मटीएच अस्पताल के प्रभारी डॉ. सुमित शुक्ला ने बताया कि दोनों बच्चे लड़के हैं और उनका वजन 1.6 किलो है। मटीएच अस्पताल के प्रभारी डॉ. सुमित शुक्ला ने बताया कि दोनों बच्चे लड़के हैं और उनका वजन 1.6 किलो है।
X
मटीएच अस्पताल के प्रभारी डॉ. सुमित शुक्ला ने बताया कि दोनों बच्चे लड़के हैं और उनका वजन 1.6 किलो है।मटीएच अस्पताल के प्रभारी डॉ. सुमित शुक्ला ने बताया कि दोनों बच्चे लड़के हैं और उनका वजन 1.6 किलो है।

  • कोरोना संक्रमित नंदानगर निवासी 35 वर्षीय महिला ने एमटीएच अस्पताल में जुड़वां बच्चों को जन्म दिया
  • वहीं, दुल्हन को कम से कम 10 दिन क्वारेंटाइन रहना है जो अवधि 24 मई को पूरी होगी

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 11:09 AM IST

इंदौर. कोरोना काल के दौरान सबसे खुशनुमा खबर शनिवार को इंदौर से आई। कोरोना संक्रमित नंदानगर निवासी 35 वर्षीय महिला ने एमटीएच अस्पताल में जुड़वां बच्चों को जन्म दिया। यह देश में अपनी तरह का पहला मामला बताया जा रहा है। एमटीएच अस्पताल के प्रभारी डॉ. सुमित शुक्ला ने बताया कि दोनों बच्चे लड़के हैं और उनका वजन 1.6 किलो है। महिला को तय समय से महीनेभर पहले प्रसव हुआ है, इससे बच्चे सामान्य से कम वजन के हैं। महिला का दूसरा सैंपल शनिवार को भेजा जाएगा, उसकी रिपोर्ट आने के बाद तय होगा कि बच्चों की कोरोना जांच करवाई जाए या नहीं। फिलहाल दोनों बच्चे पूरी तरह स्वस्थ हैं।

प्रशासन ने बनवा दी जोड़ी...

वहीं,  इधर इंदौर में शादी की खरीददारी के लिए गई दुल्हन रेखा साहू अचानक लॉकडाउन होने के कारण वहीं फंस गई थी। तमाम कोशिश के बाद पिपरिया लौटने की अनुमति तो मिल गई, लेकिन इंदौर हॉट स्पॉट होने की वजह से जिला प्रशासन ने उसे घर जाने से रोक दिया और क्वारेंटाइन सेंटर भेज दिया। जब यह बात पता चली कि क्वारेंटाइन अवधि में ही युवती की शादी है तो प्रशासन ने रास्ता निकाला। वर पक्ष से बात कर उसे क्वारेंटाइन सेंटर में शादी कराने के लिए मनाया और शनिवार को हो गए फेरे। दुल्हन को कम से कम 10 दिन क्वारेंटाइन रहना है जो अवधि 24 मई को पूरी होगी।

ऐसे में कोरोना लक्षण नहीं पाए जाने पर 25 मई को दुल्हन अपने ससुराल जा सकेगी। तब तक दूल्हा मनीष साहू भी क्वारेंटाइन सेंटर में ही रुकने को राजी हो गया है। पिपरिया की रेखा साहू का ब्याह कुछ माह पूर्व औबदुल्लागंज के मनीष साहू संग 26 अप्रैल को तय हुआ था। शादी की शॉपिंग के लिए रेखा 16 मार्च को इंदौर चली गई, तभी लॉकडाउन हो गया। पहले लॉकडाउन में इंतजार किया लेकिन लॉकडाउन 2 घोषित होते ही शादी कैंसिल कर दी। नई तारीख 23 मई तय हुई लेकिन संकट था- हॉटस्पॉट होने से इंदौर से बाहर जाने की परमिशन नहीं थी। कई बार आवेदन किया पर खारिज हुए। अंतत: ई-पास शुरू हुए तो उस प्रयास किए। रेखा बताती हैं कि भारी मुश्किलों के बाद हमें परमिशन मिली तब 15 मई को पिपरिया लौटे। यहां आते ही प्रशासन ने क्वारेंटाइन सेंटर भेज दिया। तहसील में कई बार भाई ने आग्रह किया कि 23 मई को शादी है, क्वारेंटाइन रहने पर कैसे संभव होगी। अंतत: एसडीएम, तहसीलदार ने मामला समझा और सुझाव दिया कि यदि यहीं क्वारेंटाइन सेंटर में ही शादी हो जाए तो..? प्रशासन ने वर पक्ष से संपर्क कर उसे मनाया। बात बन गई। 23 मई को चुनिंदा लोगों के साथ बरात क्वारेंटाइन सेंटर पहुंची और घराती बने प्रशासन ने फेरे करवाए। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना