• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • The Kidnapper Related To Liquor Smuggling Caught, The Search For Two, The Story Of Kidnapping Related To The Transaction Of Rupees

बायो डीजल व्यापारी को छुड़ाया:इंदौर से किडनैप हुए दिल्ली के व्यापारी को कुक्षी से छुड़ाया, शराब कारोबार से जुड़ा किडनैपर गिरफ्तार, एसपी ने किया खुलासा

इंदौर/धार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बाणगंगा में सोमवार शाम नाटकीय ढंग से किडनैप हुए दिल्ली के बायो डीजल व्यापारी को मंगलवार देर रात कुक्षी के एक होटल से छुड़ा लिया गया। इस मामले में क्राइम ब्रांच ने शराब की तस्करी से जुड़े एक आरोपी और उसके तीन साथियों को पकड़ लिया गया। व्यापारी के रिश्तेदारों ने इस मामले में मंगलवार को केस दर्ज कराया था। बायो डीजल व्यापारी पहले खुद भी शराब का काम करते थे, जिसे बाद में बेटे ने अपने हिस्से में ले लिया था। एसपी ने पूरे मामले का खुलासा किया है। एसपी आशुतोष बागरी ने बताया कि सिकंदर सचदेवा 65 साल निवासी दिल्ली द्वारका को कुक्षी में प्रिंस होटल छापा मारकर छुड़ा लिया। इस मामले में शराब तस्कर सुखराम पिता बंसत सिंह कनेश को गिरफ्तार कर उसे इंदौर लाया गया। वही तीन अन्य आरोपियों दिग्विजय पिता मोहन रावत,दिनेश पिता रतनसिंह अलावा और करन पिता मगनसिंह अलावा को भी पकड़ लिया गया है। मुख्य पकड़ाया आरोपी सुखराम शराब तस्कर है, वह आदिवासी क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर शराब की तस्करी करता है और उसका मुख्य ठिकाना अलीराजपुर है। आरोपी अलीराजपुर के पूर्व विधायक का रिश्तेदार बताया जा रहा है।

दिल्ली के बायो डीजल व्यापारी का अपहरण:इंदौर में बिजनेस बढ़ाने के सिलसिले में आए थे, कार में कुछ लोग ले जाते दिखे; दिनभर फैक्ट्ररियों और टोल नाकों के फुटेज तलाशती रही पुलिस

कार के एमपी-11 कार से मिली पुलिस को लीड

एएसपी शंशिकांत कनकने के मुताबिक अपहरण दीपमाला ढाबे के पास हुआ था। यहां जब कैमरे की रिकार्डिग की जानकारी निकाली गई तो पता चला कि यहां कैमरो में डीवीआर नही है। जिसके कारण यहां रिकार्डिग नही होती। इसके बाद आगे सांवरिया दुकान के फुटेज निकाले गए तो उसमें सिकंदर का पीछे से दिखाई दिया जो कार में बैठ रहा है। पुलिस ने इसके आगे के सीसीटीवी निकाले जिसमें सफेद रंग की स्कापिर्यो कार एमपी-11 एमजे - 8888 दिखाई दिया। इसके बाद नंबर के आधार पर पुलिस को यह जानकारी लग गई की आरोपी धार इलाके से ताल्लुक रखते है। इसके बाद धार ओर आसपास के जिलों की पुलिस को अलर्ट किया गया। पुलिस को इस बीच जानकारी लगी कि अलीराजपुर के सुखराम से वर्षो से रूपये के लेनदेन को लेकर विवाद चल रहा है। तभी पुलिस ने उसके घर पर दबिश दे दी। जहां उसके मोबाईल की लोकेशन पुलिस निकालती रही।

शक हुआ तो मोबाईल बंद किया

सुखराम को पुलिस पर देर रात शंका हो गई थी। उसे पता चल गया था कि पुलिस उसके घर आई थी ओर उसके मोबाईल की डिटेल निकाल रही थी। लेकिन आखिरी कॉल करने के बाद सुखराम ने अपना मोबाईल बंद कर लिया। इसके बाद गाड़ी नंबर के आधार पर उसे पुलिस की टीम ने दबोच लिया। सुखराम ने जिस व्यक्ति को कॉल किया था। वह प्रिंस होटल में मौजूद था। पुलिस की दूसरी टीम ने उस होटल पर दबिश देकर सिकंदर को छुडा लिया। सुखराम ने पूछताछ में बताया कि पूर्व के व्यापार में शराब के लेनदेन के मामले में करीब 25 लाख रूपये उसे लेना थे। जिसमें उसने एक अन्य व्यक्ति के माध्यम से सिकंदर से मोबाईल पर संपर्क कराया ओर व्यापार के सिलसिले में बात करने के बहाने सांवेर रोड़ पर बुलाकर गाड़ी में बैठाकर अपने साथ ले गए।

ये था मामला
सिंकदर सचदेवा को सुरेश आनंद निवासी अंसल टाउनशिप के सामने अगवा कर ले जाया गया था। उसने मोबाइल बंद होने पर सिंकदर के बेटे चेतन को जानकारी दी थी। मंगलवार को केस दर्ज होने के बाद चेतन भी दिल्ली से इंदौर आ गया था। रातभर पुलिस फुटेज तलाश रही थी। पुलिस को कार के नंबर मिल गए थे, जिसके बाद वह आरोपियों तक पहुंच गई। सिंकदर का अपहरण के मामले में व्यापारिक सौदे में लेनदेन की कहानी आ रही है। लेकिन पुलिस ने अभी इसका खुलासा नहीं किया है।

खबरें और भी हैं...