पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • The Mobile Shop Of Master Mind, Ankur, Just 200 Meters Away From The Bank, Added 5.35 Lakh Robbery Signals From There.

खुलासा:बैंक से महज 200 मीटर दूर मास्टर माइंड अंकुर की मोबाइल शॉप, वहीं से जोड़े 5.35 लाख की लूट के सिग्नल

इंदौर23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अंकुर की मोबाइल शॉप के नीचे ही शुभम वर्मा की चाय की दुकान
  • एक्सिस बैंक में ही अंकुर और उसकी मां के खाते, बैंक में स्टाफ और लेन-देन की थी पूरी जानकारी
Advertisement
Advertisement

परदेशीपुरा स्थित एक्सिस बैंक में हुई लूट के आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। खास बात यह है कि मास्टर माइंड अंकुर चौकसे बैंक से महज 200 मीटर दूर अपनी मोबाइल शॉप संचालित करता है। वहीं एक अन्य आरोपी शुभम वर्मा की चाय की दुकान भी अंकुर की शॉप के नीचे ही स्थित है। अंकुर ने मोबाइल के नेटवर्क मिलाते-मिलाते वहीं से लूट के सिग्नल जोड़ दिए। एक्सिस बैंक की इसी शाखा में अंकुर और उसकी मां का अकाउंट भी है। शुभम ने भी चाय की दुकान चलाते-चलाते षड्यंत्र की केतली गर्म करने में कसर नहीं छोड़ी। 

पुलिसवालों ने मदद की कोशिश भी की, डीआईजी बोले, कार्रवाई करेंगे : जब बदमाशों के फुटेज सामने आए तो अंकुर की दुकान पर बैठने वाले परदेशीपुरा थाने के जवानों ने मदद की कोशिश की। इसी थाने में रहा विवादित कांस्टेबल, जो हातोद थाने में है, उसके और अन्य जवानों के साथ इसके कई फोटो पुलिस को मिले हैं। डीआईजी के मुताबिक, इससे दोस्ती रखने वाले पुलिसवालों पर एक्शन लेंगे।

बॉम्बे हॉस्पिटल के गार्ड ने फुटेज में शुभम को पहचाना
एएसपी कनकने के अनुसार फुटेज में बदमाशों की बाइक की लोकेशन देखते हुए टीम बॉम्बे हॉस्पिटल पहुंची। वहां के गार्ड को फुटेज दिखाए। एक में बैंक का गार्ड शुभम कटारने दिखा। उसे देख अस्पताल का गार्ड बोला कि ये सभी आपस में दोस्त हैं। शुभम पहले यहीं गार्ड था, तब ये सब आरोपी आते थे। इस पर पुलिस ने बैंक के गार्ड शुभम को उठाया और सख्ती से पूछताछ की। आखिर में वह टूट गया। बोला- सबको रुपयों की जरूरत थी। अंकुर मास्टरमाइंड है, बाकी उसके आसपास रहने वाले दोस्त हैं। ये बॉम्बे हॉस्पिटल के पास एक चाय की दुकान पर जाते थे। अंकुर ने प्लान बनाया। यही वजह थी कि गार्ड ने लूट का विरोध नहीं किया।

जल्दबाजी में एक-दूसरे से भटक गए, घर नहीं गए
एक्टिवा पर अंकुर और शुभम कनकेश्वरी चौराहा होते हुए बापट चौराहे से स्कीम 78 होते हुए बॉम्बे हॉस्पिटल की तरफ भागे। दूसरी गाड़ी पर रोहित, शुभम वर्मा को लेकर आईटीआई चौराहे की तरफ भागा। पुलिस को गुमराह करने में फिर वे एक-दूसरे से भटककर बाणगंगा की तरफ चले गए। 
एक घर में बदले कपड़े, रात में गए अलग-अलग
अंकुर और शुभम लसूड़िया क्षेत्र में एक घर में जाकर छुप गए। रात होने तक बैठे रहे। फिर उन्होंने कपड़े बदले। रात 10 बजे अलग-अलग साधन से घर जाकर सो गए। शुभम वर्मा ने भी ऐसा किया। रोहित 30 हजार लेकर शिवपुरी भाग गया था।  

मुठभेड़ पर उठे सवाल
1. प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा गया कि पुलिस को दूर से दिखा कि 100 मीटर दूर कुछ लोग बैठे हैं। तभी वहां अफसर जीप लेकर पहुंचे और पूछा कौन हो। इस पर आरोपियों ने पुलिस पर फायर कर दिया। असल में जिस स्थान की बात हो रही है, यदि वहां पुलिस की गाड़ी जाएगी तो वह दूर से ही दिख जाएगी और आरोपी खेतों में भाग सकते थे।
2. बताया गया कि दीवार कूदने से आरोपी का पैर टूटा। असल में वहां ऐसी कोई दीवार या स्थान नहीं था कि भागने में आरोपी का पैर टूट सके। 

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज वित्तीय स्थिति में सुधार आएगा। कुछ नया शुरू करने के लिए समय बहुत अनुकूल है। आपकी मेहनत व प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। विवाह योग्य लोगों के लिए किसी अच्छे रिश्ते संबंधित बातचीत शुर...

और पढ़ें

Advertisement