पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ब्लैक फंगस इंजेक्शन से मरीजों में रिएक्शन:मरीजों को इतनी ठंड लगने लगी कि 5 से 6 कंबल डालने पर भी वे कांपते रहे; इंदौर के कई अस्पतालों में ऐसी शिकायत, सागर में लगाई राेक

इंदौर/सागर8 दिन पहलेलेखक: हेमंत नागले
  • कॉपी लिंक
इंदौर के एमवाय अस्पताल में इंजेक्शन देने के बाद मरीज को ओढ़ाया गया कंबल। - Dainik Bhaskar
इंदौर के एमवाय अस्पताल में इंजेक्शन देने के बाद मरीज को ओढ़ाया गया कंबल।

इंदौर और सागर में ब्लैक फंगस के इंजेक्शन के बड़े रिएक्शन सामने आए हैं। इंजेक्शन लगाने के बाद कई मरीजों को ठंड और तेज बुखार होने के साथ-साथ उल्टी दस्त होने की भी शिकायत होने लगी। इसके बाद परिजनों ने परेशान होकर डॉक्टरों को इस बारे में अवगत कराया। मरीजों को इतनी अधिक ठंड लग रही थी कि 5 से 6 कंबल ओढ़ने के बाद भी उन्हें राहत नहीं मिल रही थी। महाराजा यशवंतराव (एमवाय) अस्पताल के वार्ड 21 समेत शहर के कई अस्पतालों में यह परेशानी सामने आई है। एंफोटरइसिन बी के 12 हजार से ज्यादा इंजेक्शन हिमाचल प्रदेश की कंपनी से खरीेद गए थे। शुक्रवार को इन्हें अस्पतालों में दिया गया था। सागर के बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में मरीजों को ऐसे रिएक्शन सामने आने के बाद इंजेक्शन लगाने पर रोक लगा दी गई है।

एमवाय अस्पताल के मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉक्टर वीपी पांडे ने बताया कि इंजेक्शन लगाने के बाद इस तरह के दुष्प्रभाव 30 से 40% मरीजों में देखने में आए हैं। इसी वजह से इंजेक्शन को धीरे-धीरे दिया जाता है। जो दुष्प्रभाव सामने आए हैं वे पूरी तरह से ज्ञात है। दो से तीन डोज के बाद इस तरह का दुष्प्रभाव सामने आते हैं।

इंजेक्शन इंदौर आने के बाद जब मरीजों को लगाने का काम शुरू हुआ तो उसका रिएक्शन भी होने लगा। कई मरीजों की ओर से उल्टी होने की शिकायत आना शुरू हो गई। वहीं किसी मरीज को चक्कर आ रहे हैं तो किसी को शरीर में झुनझुनी हो रही है। इस साइड इफेक्ट के सामने आने से इस इंजेक्शन की गुणवत्ता पर सवाल उठना शुरू हो गए हैं।

परिजन साइड इफेक्ट के मैसेज करते रहे। हिमाचल की एफी फार्मा कंपनी का इंजेक्शन
परिजन साइड इफेक्ट के मैसेज करते रहे। हिमाचल की एफी फार्मा कंपनी का इंजेक्शन

मरीज के परिजनों ने बताई आप बीती
12 मई को अरुण वर्मा (49) निवासी न्यू देवास रोड को कोरोना के बाद जबड़े हिलने लगे थे। दातों का दर्द भी बढ़ गया था। जांच में पता चल कि उन्हें ब्लैक फंगस हो गया है। शुक्रवार रात जब अरुणा को या इंजेक्शन लगाए गए तो वह ठंड से कांपने लगी और तेज बुखार हो गया ठंड भी इतनी कि 5 से 6 कंबल उन्हें ओढ़ा दिए गए थे। फिर भी ठंड कम नहीं हो रही थी। परिजनों ने कहा कि कुछ समय बाद डॉक्टर ने देखा और रविवार दोबारा कि हमने छुट्टी करा ली है।

27 मरीजों को सागर में दिया गया था इंजेक्शन
बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में 42 ब्लैक फंगस के मरीज इलाज करा रहे हैं। इनमें से 27 मरीजों को यह इंजेक्शन दिया गया था। बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज के डीन ने इंजेक्शन लगाने पर मरीजों में रिएक्शन की जानकारी मिलने के बाद तत्काल रोक लगाई दी है। साथ ही मामले की जानकारी से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया।कॉलेज के पीआरओ के अनुसार इंजेक्शन का रिएक्शन मरीजों पर देखने को मिला है। सभी मरीजों की हालत स्थिर है तथा इंजेक्शन के स्थान पर उन्हें वैकल्पिक दवाइयां दी जा रही हैं।

ब्लैक फंगस के इंजेक्शन के लिए 280km का ग्रीन कॉरिडोर:दूसरे राज्य हमारे इंजेक्शन न ले जाएं इसलिए हिमाचल गए अफसर; पहली बार इंदौर को मिली 12 हजार 240 एंफोटरइसिन-बी की खेप

दो दिन पहले आए थे 12 हजार इंजेक्शन
7 हजार रुपए कीमत के ब्लैक फंगस के इस इंजेक्शन को हिमाचल के बद्दी में एफी फार्मा ने 300 रुपये की कीमत में मध्यप्रदेश को दिए गए थे। 34 बॉक्स इंदौर को मिले थे, जिनमें से 7 हजार इंजेक्शन निजी अस्पतालों को और 5 हजार इंजेक्शन सरकारी अस्पतालों को वितरित किए गए थे ।

खबरें और भी हैं...