दिल्ली के बायो डीजल व्यापारी का अपहरण:इंदौर में बिजनेस बढ़ाने के सिलसिले में आए थे, कार में कुछ लोग ले जाते दिखे; दिनभर फैक्ट्ररियों और टोल नाकों के फुटेज तलाशती रही पुलिस

इंदौर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिकंदर सचदेवा - Dainik Bhaskar
सिकंदर सचदेवा

बाणगंगा इलाके से सोमवार शाम बायो डीजल के व्यापारी कार में कुछ लोगों के साथ बैठकर चले गए थे। बाद में मोबाइल बंद होने से परिचित लोगों ने अपहरण की शंका जाहिर की थी। पुलिस को जानकारी लगने के बाद दूसरे दिन मामले में केस दर्ज कर लिया गया। इधर पुलिस दिनभर कई स्थानों के फुटेज निकालती रही। फिलहाल व्यापारी के बारे में जानकारी नहीं मिली है।

टीआई राजेन्द्र सोनी के मुताबिक 63 वर्षीय सिकंदर सचदेवा निवासी द्वारका (दिल्ली) पहले शराब का व्यवसाय करते थे। कुछ समय से बेटे चेतन ने कामकाज संभाल लिया और वे ट्रांसपोर्ट और बायो डीजल का व्यवसाय करने लगे। 20 सितंबर को व्यवसाय के सिलसिले में दिल्ली से उज्जैन गए थे। दो दिन रिश्तेदार के पास रुके और देवास चले गए। भतीजे आदर्श के होटल (अभिलाषा) में रुककर बायो डीजल की खरीद-फरोख्त के संबंध में व्यापारियों से मिल रहे थे। सोमवार को वह कुछ व्यापारियों से मिलने की बात करते हुए सांवेर रोड पर सुरेश उर्फ राजू आनंद को साथ लेकर आए थे। यहां काफी देर तक उन्होंने व्यापारियों का रास्ता देखा। इस बीच सुरेश उर्फ राजू नाश्ते की दुकान पर चलए। जिसमें कुछ लोग उन्हें कार में ले जाते दिखाई दिए।

बहन से मिलने की बात की थी बाद में मोबाइल बंद
सुरेश उर्फ राजू से डीआईजी मनीष कपूरिया ने पूछताछ की जानकारी निकली कि वह उज्जैन में अपनी बहन से मिलने की बात कर रहे थे। कार में वह किसी के साथ जबदस्ती ले जाते नही दिखाई दिए। वह खुद गाड़ी में बैठकर निकले थे। लेकिन कार में जाने के बाद उनका मोबाईल बंद कर लिया। इधर बेटे चेतन ने उनसे संपर्क करने की कोशिश की,पर बात नही हो पाई। उन्होंने सुरेश को थाने भेजकर केस दर्ज करने की बात कही।

मंगलवार को बेटा इंदौर पहुंचा ओर पुलिस से चर्चा की। एएसपी,सीएसपी ओर टीआई के साथ थाने का बल इलाके के फुटेज निकालता रहा लेकिन जानकारी हाथ नहीं लगी। वही जिस कार से वह गए थे वह धार की बताई जा रही है। पुलिस पूरे मामले को संदेह की नजर से देख रही है। व्यापारी का फोटो के साथ आसपास के जिले की पुलिस को भी अलर्ट किया गया है।

खबरें और भी हैं...