• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • The Ruckus Of MP Congress Committee Delegation Said That Only The Defenders Of The University Are Acting As Eaters

DAVV कार्य परिषद की बैठक में हंगामा:तक्षशिला परिसर में जमीन देने की बात पर कांग्रेस कमेटी के कार्यकर्ता बिफरे, बोले- विवि के रक्षक ही भक्षक बन रहे

इंदौर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यूनिविर्सटी की कार्यपरिषद बैठक। - Dainik Bhaskar
यूनिविर्सटी की कार्यपरिषद बैठक।

देवी अहिल्या विवि में शुक्रवार को कार्यपरिषद की बैठक हंगामे के साथ शुरू हुई। विवि के तक्षशिला परिसर में भंवरकुआं थाने, मंदिर और पानी की टंकी के लिए जमीन देने के मुद्दे का विरोध करते हुए मप्र कांग्रेस कमेटी का प्रतिनिधि मंडल बैठक में नारेबाजी करते पहुंचे। सदस्यों के सामने जमीन देने का विरोध करने लगा। दोनों के बीच जमकर बहस हुई। कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल ने यहां तक कह दिया कि विवि के रक्षक ही भक्षक बन गए हैं।

देवी अहिल्या विवि में शुक्रवार को कार्यपरिषद की बैठक हुई। इसमें तक्षशिला परिसर में भंवरकुआं थाने, मंदिर और पानी की टंकी को लेकर जमीन देने पर निर्णय लिया जाना है। इसके साथ ही करीब 20 से ज्यादा मुद्दे बैठक में रखे गए। बैठक शुरू होने के कुछ ही देर बाद मप्र कांग्रेस कमेटी के सदस्य नारेबाजी करते हुए जा पहुंचे। तक्षशिला परिसर में जमीन देने का विरोध करने लगे। देखते ही देखते हंगामा बढ़ता चला गया। मप्र कांग्रेस कमेटी के प्रतिनिधि मंडल की कार्यपरिषद सदस्यों के साथ बहस शुरू हो गई।

इस बीच विवि के अन्य अधिकारी भी यहां पहुंचे और कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल को समझाने का प्रयास करने लगे। इस दौरान मप्र कांग्रेस कमेटी सचिव तेजप्रकाश राणे ने कार्यपरिषद सदस्यों को यहां तक कह दिया कि विवि उनके बस का नहीं, इसे बेच दो। विवि का निजीकरण कर दो। वहीं, प्रतिनिधि मंडल के एक और सदस्य के साथ कार्य परिषद की जमकर बहस हुई। इधर, सूचना पर पुलिस बल भी मौके पर पहुंचा।

कार्यपरिषद बैठक में हुआ हंगामा।
कार्यपरिषद बैठक में हुआ हंगामा।

कार्यपरिषद सदस्य रक्षक नहीं भक्षक हैं - राणे

हंगामे के चलते कुलपति डॉ. रेणु जैन कार्यपरिषद की बैठक छोड़कर बाहर आ गईं। मप्र कांग्रेस कमेटी के सदस्यों से चर्चा कर समझाने का प्रयास किया। इस दौरान तेजप्रकाश राणे ने कह दिया कि कार्यपरिषद सदस्य उच्च शिक्षा मंत्री के चाटुकार के रूप में काम कर रहे हैं। ये विवि के रक्षक नहीं भक्षक बनकर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये कार्यपरिषद सदस्य हैं, कोई नेता नहीं है। विवि का और यहां के कर्मचारियों का निजीकरण कर दो। उन्होंने विवि के आरएनटी मार्ग और तक्षशिला परिसर के यहां हो रहे अतिक्रमण को भी मुक्त कराने की बात कहीं इधर, कुलपति की समझाइश के बाद मामला शांत हुआ।

बैठक से बाहर निकलकर कुलपति ने की चर्चा।
बैठक से बाहर निकलकर कुलपति ने की चर्चा।

हंगामे के बाद फिर शुरू हुई बैठक

इधर, हंगामे के बाद विवि में कार्यपरिषद की बैठक दोबारा शुरू हुई। इसमें तक्षशिला परिसर की जमीन सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा कर निर्णय लिया जाएगा। इसके साथ ही अन्य मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। बैठक में ही तय किया जाएगा कि तक्षशिला परिसर की जमीन देना है या नहीं। बैठक के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो सकेगी कि विवि प्रबंधन जमीन दे रहा है या नहीं है।

खबरें और भी हैं...