पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • There Is A Possibility Of Rain In Jabalpur Zone After Noon On July 8, The Entire Malwa Nimar Including Indore Will Be Submerged After July 11.

MP में जबलपुर से एंट्री करेगा एक्टिव मानसून:एक्सपर्ट ने कहा- पूर्वी मध्यप्रदेश से फिर शुरू होगा बारिश का दौर, 10-11 जुलाई तक पूरे प्रदेश में फैल जाएगा

मध्य प्रदेश2 महीने पहलेलेखक: राजीव कुमार तिवारी

मध्य प्रदेश में मानसून ब्रेक के 8 जुलाई से खत्म होने की संभावना बन गई है। बंगाल की खाड़ी में बन रहे मजबूत सिस्टम से प्रदेश तरबतर होने वाला है। मानसून 8 जुलाई को मंडला, बालाघाट, जबलपुर के रास्ते प्रदेश पूरे प्रदेश में दस्तक देगा। इसके आसार जबलपुर में नजर आने भी लगे हैं। प्रदेश में फिलहाल उमस ने लोगों को परेशान कर रखा है। दैनिक भास्कर ने मध्य प्रदेश के तीन एक्सपर्ट्स से बात कर मानसून की स्थिति को समझा।

विशेषज्ञों का कहना है कि 8 जुलाई को दोपहर बाद जबलपुर और आसपास के इलाके में तेज बारिश शुरू हो जाएगी, हालांकि इंदौर समेत मालवा-निमाड़ को बारिश के लिए 11 जुलाई तक का इंतजार करना होगा। इसके बाद ही यहां तेज बारिश की उम्मीद है।

मौसम विशेषज्ञ एचएल कपाड़िया ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में मजबूत सिस्टम डेवलप हो रहा है। हवा की दिशा भी अब पश्चिमी-दक्षिणी हो गई है। ऐसे में जो द्राेणिका बनी है, उससे 8 जुलाई को दोपहर 3 बजे के बाद जबलपुर जोन में जमकर बादलों के बरसने की संभावना है। यह बारिश लगातार 4 से 5 दिन होती रहेगी। यहां से मानसून मालवा-निमाड़ की ओर बढ़ेगा जो 10 या 11 जुलाई को देवास होते हुए इंदौर में दस्तक देगा। अच्छी बात यह है, अरब सागर में भी एक सिस्टम बन रहा है। यदि यह सिस्टम पूरी तरह से डेवलप हो गया तो मुंबई के रास्ते आने वाला पानी भी यहां तक पहुंच जाएगा। ऐसे में इंदौर समेत पूरा अंचल जमकर तरबतर होने वाला है।

मौसम वैज्ञानिक जीडी मिश्रा ने बताया बंगाल की खाड़ी में मानसूनी गतिविधियां सक्रिय होने के कारण बारिश की संभावना बढ़ गई है। अभी राजस्थान में भी कम दबाव का क्षेत्र बनने लगा है। यह बालाघाट, जबलपुर के रास्ते प्रदेश में दस्तक देगा। छिटपुट बारिश 8 जुलाई से शुरू होगी, लेकिन तेज बारिश के लिए दो तीन दिन इंतजार करना होगा। 11 जुलाई से प्रदेश में तेज बारिश शुरू होने के आसार हैं। वहीं, मौसम विशेषज्ञ अजय कुमार शुक्ला के मुताबिक, 8 जुलाई से प्रदेश में बारिश का दौर शुरू होने के आसार हैं। इसमें इंदौर और आसपास भी बारिश हो सकती है। तीन से चार दिन तक यह दौर चल सकता है।

ग्वालियर में मनचले को सरेराह चप्पलों से धुना:ऑटो में मोबाइल पर अश्लील वीडियो चलाकर छेड़छाड़ की; महिलाओं ने बाल पकड़कर बाहर खींचा और पीट दिया

बोलेरो पर पलटा डंपर, बाप-बेटी समेत तीन की मौत:देवास में बीच सड़क लड़ रहे बाइक सवारों को बचाने में रेत से भरा डंपर अनियंत्रित होकर बाेलेरो पर पलटा; 3 की मौत, 5 गंभीर

1 जून से लेकर 6 जुलाई तक के बारिश के हाल।
1 जून से लेकर 6 जुलाई तक के बारिश के हाल।

मानसून ब्रेक पहले हो गया
मौसम वैज्ञानिक वेदप्रकाश ने बताया- एक बार मानसून सेट होने के बाद उसमें ब्रेक होता है। यह सामान्य प्रक्रिया है। अभी तक जुलाई के तीसरे और अंतिम सप्ताह में मानसून ब्रेक होता था, लेकिन इस बार क्योंकि मानसून सेट पहले हो गया, इसलिए मानसून पहले ब्रेक हो गया।

5 दिन में 23% बारिश कम हुई
मध्य प्रदेश में मानसून ब्रेक होने से प्रदेशभर में बारिश में कमी आई है। ऐसे में सामान्य बारिश का प्रतिशत गिर गया है। एक जुलाई की स्थिति में मध्य प्रदेश में सामान्य से 29% अधिक बारिश हो चुकी थी। इस दौरान 130 मिमी बारिश होना था, जबकि 167 मिमी बारिश हो चुकी थी। पांच जुलाई की स्थिति में मध्य प्रदेश में बारिश सामान्य से घटकर 6% तक आ गई है। अभी तक 163 मिमी बारिश होना था, जबकि 172 मिमी पानी गिर चुका है।

1 जून से 6 जुलाई तक प्रदेश में बारिश की स्थिति
1 जून से 6 जुलाई तक प्रदेश में बारिश की स्थिति

यहां दो दिन तक बारिश के आसार
अगले दो दिन तक धार, उज्जैन, देवास, शाजापुर, बैतूल, हरदा, अनूपपुर, डिंडोरी, सिवनी, मंडला और बालाघाट जिलों के अलावा रीवा संभाग में हल्की बारिश होती रहेगी। भोपाल, जबलपुर, इंदौर, होशंगाबाद, शहडोल, ग्वालियर और चंबल संभागों में गरज चमक के साथ बूंदाबांदी हो सकती है।

यहां मौसम नहीं मेहरबान
इंदौर के अलावा अभी भी प्रदेश में चंबल संभाग, ग्वालियर, शिवपुरी, दतिया, गुना, आगर, निवारी, टीकमगढ़, छतरपुर, पन्ना, दमाेह, धार, आलीराजपुर, बड़वानी, बुरहानपुर, खंडवा और खरगोन समेत 19 जिले ऐसे हैं, जो बारिश में काफी पिछड़े हैं।

खबरें और भी हैं...