इंदौर का इनकम टैक्स मिक्चर खाया क्या ?:इंदौर में एक ऐसी दुकान, जहां 400 तरीके की नमकीन की वैरायटी; चखिए फिर खरीदिए

इंदौर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

क्या होगा, जब आपके सामने 400 वैराइटी के टेस्टी नमकीन-सेंव-मिक्चर, भुजिया, भाकरवडी, दाने, चिप्स आदि रख दिए जाएं। मुफ्त में इन्हें चखिए और फिर खरीदने का मौका मिले। न खरीदना हो तो कोई बात नहीं, फिर आइए और फिर चखिए ...।

जी हां, ओम के नमकीन का इंदौर में जबरदस्त निमंत्रण है। हर इन्दौरी और हर इंदौर आने वाले को देते हैं अनुराग बोथरा। वे कहते हैं कि खिलाने में दिल बड़ा होना चाहिए। 20 सालों से यह लगातार चखा रहे हैं और लोग इनके दीवाने होते जा रहे हैं। इनके 7 शोरूम हैं पूरे शहर में। नमकीन 80 से ज्यादा देशों में जाते हैं। स्वाद ऐसा है कि इसका एक काउंटर इंदौर एयरपोर्ट पर भी है। कोई भूल भी जाए तो फ्लाइट से पहले आखिरी मौका बाकी होता है।

इंदौर पूरी दुनिया में जिन चीज़ों से पहचाना जाता है, उनमें सेंव-नमकीन और स्वच्छता है। आज बात करेंगे 400 से भी अधिक सेंव-नमकीन की वैराइटीज़ इस शहर में बनाकर पूरी दुनिया को खिलाने वाले “ओम नमकीन” की।

कैसे शुरू हुआ ‘ओम नमकीन’ के 400 नमकीन वैराइटीज़ का सफ़र ?
अनुराग ने स्कूल के बाद कॉलेज की पढ़ाई से नमकीन बिजनेस का सफ़र शुरू किया। पहले 25 किलो नमकीन दिन में बनाते थे और आज अपनी मेहनत, फोकस्ड अप्रोच, इमोशन और पैशन से इस नमकीन उद्योग को 25,000 किलो प्रतिदिन तक पहुंचा दिया है । वे देश की सबसे बड़ी नमकीन-मिठाई निर्माता समिति के सदस्य हैं और वर्ल्ड के टॉप 25 मोस्ट इन्फ्लुएंशल नमकीन मेनुफेक्चरर ब्रांड भी हैं।

आज जब भी कोई इंदौर आता है तो वो यहां की सेंव और नमकीन (फरसान/ स्नैक्स) ले जाना नहीं भूलता और इन्दोरी भी बड़े गर्व से उपहार में सेंव-नमकीन की वैराइटीज़ अपने मेहमानों को गिफ्ट देते हैं।

ग्राहकों के नाम पर नमकीन
अपने व्यवहार से दिल जीतने वाले इस सौम्य व्यक्ति ने अपने व्यापार को स्वाद, क्वालिटी और वैराइटी से अंतरराष्ट्रीय पहचान दी है। वे बताते हैं कि कुछ ग्राहकों ने हमें आइडियाज़ दिए जो हमारी R & D टीम ने तैयार किए और ग्राहकों के नाम से ही उसे लांच किया। जैसे भरत-भाखरवड़ी और शुभम पोहा पर लगातार शोध करते रहते हैं और नई किस्में ईजाद करते हैं। जैसे कचौरी सेंव , टमाटर सेंव, मेथी सेंव, अचारी-पपड़ी, खट्टा-मीठा मिक्चर, नीम्बू मठरी और न जाने क्या-क्या।

प्रसिद्ध इन्दोरी यूट्यूबर राजीव नेमा जो अमेरिका में रहते हैं, ने इस पर एक पैरोडी “ जय नमकीन हरे “ बनाई और यह बड़ी हिट हुई।

इनकम टैक्स मिक्चर की कहानी
कुछ इनकम टैक्स अधिकारी उनके यहां लगातार नमकीन खरीदने आते थे और अपनी चॉइस से कुछ नमकीन का मिश्रण बनवा कर ले जाते थे। एक बार इन्होंने एडवांस में बनाकर उस मिक्चर को रख लिया और आईटी वाले ग्राहक आए नहीं तो उसे लोगों को बेचना पड़ा, पर वो फाॅर्मूला इतना हिट हुआ कि इसे इनोवेशन in नमकीन का अवॉर्ड मिला और ये अब सबसे ज्यादा बिकने वाले इन्दोरी मिक्चर में से एक है। खट्टा-मिठा और तीखा स्वाद पूरी दुनिया के लोगों को अपना फैन बना चुका है। ये खान ज़रूरी है भिया।

GI टैग भी
जैसे रतलाम में रतलामी सेंव का GI टैग लिया है, वैसे ही इंदौर में लौंग सेंव, खट्टा-मीठा मिक्चर, नाश्ता पोहा और शिकंजी का टैग भी भिया ने अप्लाई कर दिया है। साथ ही रेडी-टू-ईट पोहा, उपमा, साबूदाना खिचडी, मूंग भजिया, ठेपले और पिकनिक भेल भी इंदौर के साथ साथ पूरी दुनिया में छा रही है। इंदौर पर 56 दूकान स्थित आउटलेट पर छाई रहने वाली भयंकर भीड़ इस इन्दोरी स्वाद की प्रसिद्धि बता देती है।

हेल्थी भी है इन्दोरी नमकीन
इंदौर के नमकीन मिठाई निर्माता संघ हेल्थ के लिए बड़े सजग हैं। प्रशासन और खाद्य विभाग से साथ मिलकर फॉर्मल सेक्टर के सभी बड़े निर्माता TPC स्टैण्डर्ड को फॉलो कर रहे हैं और यूज्ड तेल को रीसेल कर देते हैं, जिससे उन्हें अच्छी कीमत मिलती है और हर बार नया आयल यूज़ करते हैं । इन्दोरी नमकीन से वज़न नहीं बढ़ता जो कि फास्ट फ़ूड और जंक फ़ूड का बड़ा प्रॉब्लम है। यह देसी स्वाद है, जिसे देश विदेश में खूब सराहा जा रहा है।
हर बस, ट्रेन और फ्लाइट में इन्दोरी नमकीन की महक होती है इन दिनों।
तो भिया इंदौर आना तो 400 टाइप का नमकीन चखने ‘ओम नमकीन’ ज़रूर जाना – फ्री में !

समीर शर्मा , इंदौरवाले ( 9755012734)

खबरें और भी हैं...