इंदौर की हनी ट्रैप गर्ल बोली- दिमाग कंट्रोल में नहीं:ढाई साल बाद रिहा, कहा- दोस्ती तो छोड़िए, मैं श्वेता जैन को जानती तक नहीं

इंदौर6 महीने पहलेलेखक: हेमंत नागले

मध्य प्रदेश के बहुचर्चित हनी ट्रैप मामले में आरोपी आरती दयाल को बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दे दी। इंदौर जेल में ढाई साल से बंद आरती दयाल को गुरुवार को रिहा किया गया। आरती जेल से छूटने के बाद सीधे छतरपुर अपने परिवार के पास रवाना हुई। फोन पर दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए आरती ने अपनी पीड़ा जाहिर की।

"मैं ढाई साल तक जेल में रही... मुझे झूठे आरोप में फंसाया गया...। मैं अब कानूनी लड़ाई लडूंगी। मुझे जल्द से जल्द इंसाफ चाहिए। मैं अब सिर्फ इस बात के लिए लड़ाई लडूंगी कि मुझे इस केस में गलत तरीके से फंसाया गया। हमें अपनी बात मीडिया के सामने कहने का मौका नहीं मिला। मैं जल्द सबके सामने आकर अपनी बात रखूंगी।

दैनिक भास्कर के सवाल आरती दयाल के जवाब...

सवाल - ढाई साल से आप जेल में बंद हैं, क्या कहना चाहेंगी?

जवाब - मुझे झूठे आरोप में फंसाया गया। इसके खिलाफ मैं कानूनी रूप से लड़ाई लडूंगी। मुझे जल्द से जल्द इंसाफ चाहिए। मुझे लोगों ने झूठा फंसाया है।

सवाल - क्या था हनी ट्रैप ? पूरे मामले में कौन था मुख्य किरदार ?

जवाब - अब तक मुझे यह समझ में नहीं आया कि हनी ट्रैप हमारे खिलाफ बनाया क्यों गया। जो आरोप हमारे ऊपर लगाए गए हैं, उनके लिए अब तक हमारे खिलाफ ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है। हम कोर्ट में अपनी लड़ाई लड़ेंगे।

सवाल - क्या आप इंदौर नगर निगम के सिटी इंजीनियर से मिलने आती थीं?

जवाब - ऐसा कोई मुद्दा नहीं था.. कोर्ट में चालान डायरी और सब प्रूफ हैं। सिर्फ इंसाफ के लिए अपनी लड़ाई लड़ेंगे।

सवाल - पूरे हनी ट्रैप में श्वेता विजय जैन और श्वेता स्वप्निल जैन की दोस्ती किससे थी?

जवाब - मैं तो किसी को जानती नहीं थी। सिर्फ अपने बारे में बताना चाहूंगी। मैं जल्द से जल्द इंसाफ के लिए लडूंगी। मैंने बुरा वक्त निकाला है ।

सवाल - भोपाल से गिरफ्तार करने के बाद आज तक क्या पूछताछ हुई आपसे?

जवाब - मेरी गिरफ्तारी के बाद पुलिस को मेरे पास से किसी प्रकार के केस से संबंधित कोई सबूत जब्त नहीं हुए हैं। बाकी बातें मैं मीडिया के सामने आकर करूंगी। यह बातें अभी फोन पर नहीं हो पाएंगी।

सवाल - इस पूरे मामले के पीछे आपको किसका हाथ लगता है ? क्या इसके पीछे कोई राजनेता या कोई बड़ा व्यक्ति है?

जवाब -​​​​​​​ मैं इस बारे में आपको कोई जवाब नहीं दे सकती।​​​​​​​​​​​​​​ पूरा केस कोर्ट के समक्ष जा चुका है। सही वक्त आने पर सभी के सामने सच आ जाएगा।​ ​​​अभी तो मैं केवल अपने लिए इंसाफ की लड़ाई लडूंगी कि मुझे इतने समय जेल में क्यों रखा

सवाल - हनी ट्रैप में पकड़ाई एक भी युवती ने अपनी बात मीडिया के सामने क्यों नहीं रखी?

जवाब - हमें तो बोलने का मौका ही नहीं मिला।​​​​​​​

सवाल - सिटी इंजीनियर द्वारा 5 करोड़ के लिए ब्लैकमेल करने की बात कितनी सही थी?

जवाब - मैं तो उनको जानती तक नहीं थी।​​​​​​​ मेरी उनसे कोई दोस्ती नहीं थी।​​​​​​​ मेरी उनसे किसी प्रकार से कोई जान पहचान नहीं थी।​​​​​​​

सवाल -तो सिटी इंजीनियर की दोस्ती किससे थी?

जवाब - जब मैं उन्हें ही नहीं जानती तो उनके दोस्तों के बारे में आपको कैसे बता सकती हूं।

सवाल - इस मामले में श्वेता विजय जैन,श्वेता स्वप्निल जैन में से आप किसको जानती थी ?

जवाब -अभी मैं आपको कुछ नहीं बता सकती। अभी मेरा दिमाग कंट्रोल में नहीं है।

हनी ट्रैप गर्ल ने इंदौर में कपड़ों जैसे बदले पति!:आरती दयाल कभी वर्मा बनी तो कभी अहिरवार, पति ने छोड़ा तो लिव इन में रही