• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • This Fight Is With The Centre, Our Demands Will Not Be From The MLAs, But From The MPs, Tell Them Your Problems.

GST व ई-वे बिल को लेकर बैठक:यह लड़ाई केंद्र से है, हमारी मांगें विधायकों से नहीं सांसदों से होगी, उन्हें अपनी परेशानी बताएं

इंदौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
व्यापारियों को संबोधित करते एमटी क्लॉथ मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष हंसराज जैन। - Dainik Bhaskar
व्यापारियों को संबोधित करते एमटी क्लॉथ मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष हंसराज जैन।

5 फीसदी GST को 12 फीसदी करने तथा ई-वे बिल को लेकर अब इंदौर के साथ मप्र के कपड़ा व्यापारी मुखर होने लगे हैं। सोमवार को देवी अहिल्या चेम्बर ऑफ कॉमर्स की इस लेकर हुई बैठक के बाद मंगलवार को मप्र वस्त्र व्यापारी महासंघ व एमटी क्लॉथ मार्केट एसोसिएशन की बैठक हुई। बैठक में इंदौर सहित मप्र के कई कपड़ा व्यापारी शामिल हुए। सभी ने एक स्वर में 5 फीसदी GST को 12 फीसदी करने तथा ई-वे बिल का पुरजोर विरोध किया। सभी ने माना कि यह लड़ाई सीधे केंद्र से इसलिए इतनी आसान नहीं है। इसके लिए देशभर के कपड़ा व्यापारियों को एकजुट होकर केंद्र सरकार पर दबाव बनाना होगा।
एमटी क्लॉथ मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष हंसराज जैन ने कहा कि कपड़ा व्यापारी सभी सांसदों को अपने पक्ष में करके GST कौंसिल पर दबाव बनाएं। GST फिर से 5 फीसदी हो जाए यह कोशिश करें। यह लड़ाई ज्यादा कठिन है क्योंकि इस लड़ाई में हमें केंद्र सरकार से लड़ना है। GST के साथ-साथ ई-वे बिल भी चालू हो गया है। ई-वे बिल से भी हमारे कपड़ा व्यापार में परेशानी आएगी क्योंकि कपड़ा व्यापार का स्वभाव अलग तरह का है। दूसरी आइटम थोक में आती है लेकिन कपड़े का ऐसा संबंध है कि हर जगह से गरीब व्यापार करता है और गठान बांधकर बेचता है। ऐसे में ई-बिल की क्या पोजिशन रहेगी समझा जा सकता है। जब तक हम संगठित नहीं होंगे हम कोई लड़ाई जीत नहीं सकते।
बैठक में मोबाइल पर लालवानी को दिया धन्यवाद
जैन ने कहा अभी हमें राजनीतिक दबाव बनाना होगा। यह काम विधायकों से नहीं होगा। आप सभी लोगों को अपने यहां जो-जो सांसद हैं उन्हें ज्ञापन दें। उन्हें अपनी कठिनाई रूबरू जाकर बताएं। उन्हें कहे कि यह मुद्दा संसद में उठाएं। कल इंदौर के सांसद शंकर लालवानी ने यह मुद्दा उठाया था जिसके लिए इंदौर के व्यापारी उनके कृतज्ञ हैं। मामले में लालवानी अब वित्त मंत्री निर्मला सीता रमण से भी मिलने जाएंगे। हमने सरकार की भावना को समझा लेकिन हमारे मौन का मतलब यह नहीं है हम सहन करेंगे। हम केंद्र से लड़ेंगे। बैठक में सांसद लालवानी ने मोबाइल पर जैन से बात कराई और उन्हें संसद में उठाए मामले को बताया। जिस पर जैन ने सभी व्यापारियों की ओर से उन्हें धन्यवाद दिया।

काली पट्‌टी बांधकर विरोध

नीमच के दिनेश दोशी ने कहा कि व्यापारी डरपोक नहीं है। हमें सरकार के खिलाफ आंदोलन करना पड़ा तो हम करेंगे। इसके लिए गठित संघर्ष समिति में विजय जाजू ग्वालियर, अर्पित मित्तल सिरोंज,दीपक जैन नागदा, कन्हैया इसरानी, वासुदेव वाधवानी बैरागढ़ ,रमेश खत्री मंदसौर, नवनीत जैन, अनुराग जैन जबलपुर, अतुल जैन विदिशा, संदीप जैन सतना आदि को लिया है। इस अवसर पर पूरे प्रदेश की संघर्ष समिति का भी गठन किया गया इससे सभी जिलों के प्रतिनिधियों को जोड़ा जाएगा। इसमें सर्व अनुमति से यह निर्णय हुआ कि पूरे प्रदेश में एक साथ एक समय चरणबद्ध आंदोलन किया जाएगा इस अवसर पर गिरधर गोपाल नागर, भानु कुमार जैन, मनोज नेमा, निर्मल सेठी, गिरीश काबरा, चंद्रप्रकाश गंगवाल सहित पदाधिकारी एवं कार्यकारिणी उपस्थित थे। एसोसिएशन के मंत्री कैलाश मंगल ने बताया कि थाली बजाना, रैली, धरना के माध्यम से सरकार के खिलाफ आवाज उठाना होगी। शीघ्र ही संघर्ष समिति द्वारा तारीख और समय निश्चित कर दिया जाएगा। मंगलवार को सभी प्रतिनिधियों ने काली पट्टी बांधकर इसका विरोध किया।

बैठक में एमटी क्लॉथ मार्केट एसोसिएशन के मंत्री कैलाश मूंगड़, जीएसटी संघर्ष समिति के संयोजक रजनीश चौरडिया व प्रचार संयोजक अरुण बाकलीवाल, अक्षय जैन ने भी कड़ा विरोध किया। बैठक में मुख्य रूप से बैरागढ़, देवास, उज्जैन, मंदसौर, नीमच, सिरोंज, सतना, ग्वालियर, मनासा, खंडवा, बुरहानपुर, खरगोन , विदिशा, नागदा, देवास सहित अन्य शहरों के प्रतिनिधि शामिल थे। उधर, इंदौर रिटेल गारमेंट्स एसोसिएशन ने ऐलान किया है कि GST की वृद्धि के विरोध की शुरुआत थाली और हेंगर बजाकर करेंगे। 15 दिसंबर को शहर के रिटेल कारोबारियों द्वारा 12.15 बजे सभी बाजारों में थाली बजाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...