प्रोटोकॉल:दूसरे राज्य जाने वालों को खुद कराना पड़ रही कोविड जांच

इंदौर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दूसरे राज्यों में जाने पर 48 से 72 घंटे पहले की रिपोर्ट मांग रहे, इसी कारण निजी में जांच के लिए हो रहे मजबूर
  • 2-3 दिन में रिपोर्ट मिलती है एमजीएम मेडिकल कॉलेज से

इन दिनों राजस्थान या महाराष्ट्र की यात्रा करने वाले लोगों को कोविड-19 जांच अनिवार्य कर दी गई है। इसके लिए आरटीपीसीआर जांच करवाई जाती है लेकिन किसी भी सरकारी अस्पताल में इसकी व्यवस्था नहीं है। एमजीएम मेडिकल कॉलेज में जांच की जाती है लेकिन रिपोर्ट दो से तीन दिन बाद मिलती है। इसलिए लोगों को खुद हजार से डेढ़ हजार रुपए खर्च कर जांच करवाना पड़ रही है। बीते दो-तीन दिन से सैंपल्स कलेक्शन की संख्या बढ़ाई गई है। औसतन तीन हजार सैंपल्स लिए जा रहे हैं।

एमजीएम मेडिकल कॉलेज की क्षमता दो हजार सैंपल्स जांचने की है। शहर के निजी मेडिकल कॉलेज व लेबोरेटरीज में भी जांचें करवाई जा रही हैं। विदेश जाने वाले यात्रियों को भी निजी लैब में ही जांच करवाना पड़ रही है। इसकी वजह यह है कि किसी भी राज्य में 48 से 72 घंटे पहले की रिपोर्ट मांगी जाती है। ऐसे में लोग एक दिन पहले ही जांच करवाते हैं ताकि ऐसा न हो कि पहुंचने के पहले 48 घंटे हाे जाए और रिपोर्ट मान्य नहीं हो।

खबरें और भी हैं...