पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ट्रैफिक में भी नंबर 1 हो इंदौर:तीन साल में भी शिफ्ट नहीं हुईं तीन मंडियां, भारी वाहनों के प्रवेश से रोज लगता है जाम

इंदौर7 महीने पहलेलेखक: सुमित ठक्कर
  • कॉपी लिंक
400 से ज्यादा व्यापारियों के कामकाज के चलते लोहा मंडी में दिनभर भारी वाहन आते हैं। फोटो | ओपी सोनी - Dainik Bhaskar
400 से ज्यादा व्यापारियों के कामकाज के चलते लोहा मंडी में दिनभर भारी वाहन आते हैं। फोटो | ओपी सोनी
  • लोहा मंडी, छावनी अनाज मंडी और सियागंज को बाहरी क्षेत्र में ले जाने के लिए 2019 में बना था प्रस्ताव

शहर के मध्य क्षेत्र में स्थित लोहा मंडी, छावनी अनाज मंडी और सियागंज में भारी वाहनों के प्रवेश से दिनभर ट्रैफिक जाम की स्थिति बनती है। ट्रैफिक को सुगम बनाने के लिए वर्ष 2019 में जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में फैसला लिया गया था कि तीनों मंडियों को शहर के बाहरी क्षेत्र में शिफ्ट किया जाएगा, लेकिन तीन साल बाद भी शिफ्टिंग पूरी तरह से नहीं हो पाई है।

मंडी शिफ्टिंग का प्रस्ताव बनाकर सीएम तक भी पहुंचाया गया, लेकिन मामला कागजी कार्रवाई से आगे नहीं बढ़ सका। कुछ व्यापारियों ने दुकानें शिफ्ट जरूर की, लेकिन ज्यादातर व्यापारी अभी भी पुरानी मंडी से ही व्यापार संचालित कर रहे हैं। इसी तरह नई रेत मंडी को सनावदिया में 10 एकड़ जमीन मुहैया करवाने का प्रस्ताव भी बनाया गया, लेकिन वह प्रस्ताव भी कागजों में रह गया।

लोहा मंडी; 67 व्यापारी ही शिफ्ट हुए, 400 अभी भी मौजूद
हाथीपाला लोहा मंडी को स्कीम 78 में निरंजपुर के पास ले जाने का प्रस्ताव था। 400 से ज्यादा लोहा व्यापारी लोहा मंडी में ही दुकानें संचालित कर रहे हैं, जबकि न्यू लोहामंडी बनने के बाद यहां केवल 67 व्यापारी ही शिफ्ट हो सके हैं। इनमें कुछ ऐसे भी हैं, जिनका दोनों जगह प्रतिष्ठान है और दोनों जगह से वे व्यापार कर रहे हैं। इसी कारण स्नेह नगर, गाड़ी अड्‌डा अनाज मंडी में भारी वाहन घुसते हैं और हादसे भी होते हैं।

छावनी अनाज मंडी; कैलोद करताल में 55 एकड़ में बनना थी
छावनी अनाज मंडी को 55 एकड़ जमीन कैलोद करताल में देकर स्थानांतरित करना था। आज भी छावनी मंडी में भारी वाहनों का प्रवेश होता है। तीन इमली से नौलखा और नौलखा से अग्रसेन चौराहे के मार्ग पर मालवाहक वाहनों की एंट्री होने से दुर्घटना का अंदेशा तो रहता ही है, दिनभर ट्रैफिक भी प्रभावित होता है।

सियागंज; स्कीम नंबर 78 में शिफ्ट करना था
सियागंज को न्यू सियागंज के नाम से स्कीम 78 में शिफ्ट करना था। इस मामले में भी प्रस्ताव आगे नहीं बढ़ा। कारोबार सियागंज में ही संचालित हो रहा है। ट्रैफिक पुलिस, प्रशासन, नगर निगम और आईडीए में समन्वय नहीं होने से प्रस्ताव कागजों से निकल नहीं पा रहे। मंडी में भारी वाहनों से रोज जाम लगता है।

भारी वाहनों का प्रवेश रोकने के लिए ट्रैफिक पुलिस को निर्देशित किया
रेत मंडी के लिए सनावदिया में सौ ट्रकों की पार्किंग के लिए जगह तय हो गई और पार्किंग भी शुरू हो गई है। लोहा मंडी भी न्यू लोहा मंडी में शिफ्ट हो चुकी है। अनाज मंडी को लेकर भी काम जारी है। शहर में जहां भी दिन में ट्रक व अन्य भारी वाहन आ रहे हैं, उसे लेकर गुरुवार को ही ट्रैफिक पुलिस को सड़क सुरक्षा समिति में सांसद, डीआईजी और प्रशासन ने निर्देश दिए हैं कि सभी जगह पर संगठनों के साथ अलग-अलग बैठक कर प्लान बनाएं और दिन में पूरी तरह से भारी वाहन के आने-जाने पर रोक लगाएं।

- मनीष सिंह, कलेक्टर

तीनों मंडियों के कारण मध्य क्षेत्र में काफी अव्यवस्थाएं होती हैं
शहर के ट्रैफिक में तीनों ही मंडियों के कारण काफी अव्यवस्थाएं होती हैं। लोहा मंडी में प्रतिदिन 700 से ज्यादा मालवाहक बड़े वाहन आते-जाते हैं। इस कारण यहां का ट्रैफिक सबसे ज्यादा बदहाल होता है। यदि मंडियां बाहरी इलाके में शिफ्ट हो जाएं तो काफी हद तक समस्या का निराकरण हो जाएगा। कई बार इसके लिए हमने सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में प्रस्ताव भी रखे हैं। सियागंज में भी ऐसे ही हालात हैं। वहां दिनभर भारी वाहनों का आना-जाना लगा रहता है। इससे जाम लगता है।

- आरएस देवके, एएसपी, ट्रैफिक

खबरें और भी हैं...