इंदौर में 7 को जिंदा जलाने वाले का लव गेम:लड़कियों को प्यार में फंसाता, गूगल पर ढूंढता था पुलिस से बचने के तरीके

इंदौर2 महीने पहले

इंदौर में 7 लोगों को जिंदा जलाने वाले आरोपी के मोबाइल से चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। आरोपी संजय उर्फ शुभम दीक्षित पहले युवतियों को अपने प्यार के जाल में फंसाता, फिर उनके मोबाइल से पर्सनल डिटेल्स निकालकर बैंक खातों से रुपए निकाल लेता। वह गूगल में पुलिस से बचने के तरीके भी सर्च करता था।

विजय नगर थाना प्रभारी तहजीब काजी ने बताया, संजय के मोबाइल से 2 जीबी डाटा मिला है। अधिकतर वॉइस रिकॉर्डिंग और कई लड़कियों के फोटो मिले हैं। पुलिस इसकी जांच कर रही है। डिलीट किए गए डाटा को रिकवरी के लिए लैबोरेटरी में भेजा है। इस केस में 20 दिन में चालान पेश करने की तैयारी है।

इंदौर में 7 लोगों को जिंदा जलाकर मारने वाला संजय शुरू से ही सिरफिरा रहा है।
इंदौर में 7 लोगों को जिंदा जलाकर मारने वाला संजय शुरू से ही सिरफिरा रहा है।

दिल्ली पुणे से जुटा रहे हैं जानकारी
पुलिस के अनुसार दिल्ली व अन्य जगह संजय की महिला मित्र होने की जानकारी मिली है। जिसके लिए पुलिस की एक टीम दिल्ली और पुणे रवाना की है। दिल्ली में भी आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी के मामले दर्ज हैं। इंदौर की महिला मित्र ने पुलिस को बताया था कि दिल्ली की गर्लफ्रेंड ने संजय के बारे में उसे जानकारी दी थी। संजय उस महिला को भी फ्रॉड में फंसा चुका है। जिसके लिए कई दिन वह जेल में रही थी।

आरोपी की दोस्त ने भी कहा इसे फांसी हो
घटना के बाद आरोपी की महिला मित्र ने कहा कि संजय को फांसी की सजा हो, वह भी कम है क्योंकि उसने बदला लेने के लिए निर्दोष लोगों की जान ली है। घटना के दिन भी वह फोन कर उससे लड़ाई कर रहा था। वहीं महिला मित्र की मां से बात करने के बाद वह युवती की गाड़ी जलाने पहुंचा था। जिसके कारण पूरी बिल्डिंग में आग लग गई थी। जिसमें 7 लोग जिंदा जल गए थे।

3 साल पहले पिता ने घर से निकाला
इंदौर में 7 लोगों को जिंदा जलाकर मारने वाला आरोपी संजय यूपी के झांसी का रहने वाला है। वह यहां खातीबाबा क्षेत्र के ब्रह्मपुरी कॉलोनी में रहता था। पिता रेलवे इंजीनियर देवेंद्र दीक्षित और मां रेखा ने बताया कि, उसकी हरकतें शुरू से ही खराब थीं। 3 साल पहले उसे बेदखल कर दिया था। अब उसने जो अपराध किया है, वही भुगतेगा। यह कहते हुए उनकी आंखें भर आईं। बोले कि बेटा है तो कष्ट जरूर है, लेकिन ऐसा बेटा किसी का न हो।

ये है पूरा मामला
इंदौर में 6 मई की देर रात दो मंजिला इमारत में आग लग गई थी। इस अग्निकांड में 7 लोगों की मौत हो गई थी। कुछ जिंदा जले और कुछ का दम घुट गया।