पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Villagers Were Not Taken To The Investigating Officer By The Statements Of The Deputy Ranger; Minister's Name Removed From Police Action Letter

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अवैध खनन मामला:जांच अफसर को ग्रामीणों ने घेरा, डिप्टी रेंजर के बयान ही नहीं लिए; पुलिस कार्रवाई के पत्र से मंत्री का नाम हटाया

इंदौर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बड़गोंदा में ग्रामीणों ने धाकड़ का घेराव किया। - Dainik Bhaskar
बड़गोंदा में ग्रामीणों ने धाकड़ का घेराव किया।
  • जब्त बुलडोजर और मंत्री ठाकुर पर केस केे आवेदन मामले की जांच

पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर, उनके समर्थक मनोज पाटीदार सहित 20 लोगों के खिलाफ बड़गोंदा वन परिसर से बुलडोजर, ट्रॉली ले जाने के मामले में डकैती का केस दर्ज करने को लेकर बुधवार को भोपाल से अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक (एपीसीसीएफ) एमके धाकड़ ने जांच की। पहले धाकड़ उस स्थान पर गए जहां बुलडोजर से खुदाई की जा रही थी। बताया जाता है कि जहां खुदाई चल रही वहां पर वन विभाग की जमीन है। जब ग्रामीणों के बयान लेने की बारी आई तो 200 से ज्यादा ग्रामीणों ने धाकड़ को घेर लिया।

किसी ने कहा कि वन विभाग जबरन तंग करता है। पैसे नहीं देने पर जब्ती की धमकी दी जाती है। जिस डिप्टी रेंजर राम सुरेश दुबे ने थाने में आवेदन दिया था, उसके बयान ही नहीं लिए गए।

दोपहर करीब 1 बजे धाकड़ महू रेंज से बड़गोंदा के लिए रवाना हुए। उनके साथ इंदौर के अधिकारी भी थे। तीन साल में तीसरा मौका है जब महू में जांच करने भोपाल से अफसर आए हैं। मौका मुआयना करने के बाद धाकड़ चोरल रिसॉर्ट गए। यहां पर कुछ ग्रामीणों के बयान लिए। मनोज पाटीदार ने भी खुलकर आरोप लगाए कि वह अपनी जमीन पर काम कर रहे थे। बगैर जांच किए ही वन विभाग ने वाहन जब्त कर लिया।

एमके धाकड़ बोले- मंत्री को देंगे रिपोर्ट
धाकड़ ने जांच के दौरान चुप्पी साधे रखी। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि जांच पूरी होने के बाद रिपोर्ट मंत्री को सौंपी जाएगी।

इंदौर वन मंडल ने कुछ भी नहीं किया
इंदौर वन मंडल ने इस मामले में दो दिन बीतने के बाद भी कुछ नहीं किया। वन संरक्षक डाॅ. किरण बिसेन को सबसे पहले बड़गोंदा थाने में एफआईआर कराना थी। वन विभाग ने बुलडोजर चलाए जाने पर पीओआर काटी थी। विभाग को इसकी जांच करना था। विभाग को डकैती के अलावा शासकीय कार्य में बाधा का भी केस दर्ज करना था। वहीं धाकड़ को आरटीआई कार्यकर्ता अभिजीत पांडे ने भी ज्ञापन दिया। महू एसडीओ और रेंजर पर कार्रवाई करने की बात कही। उन्होंने कहा कि परिसर में डकैती की घटना होने पर सबसे पहले अधिकारियों को हस्तक्षेप करना था।

वन संरक्षक ने डीआईजी को लिखा पत्र
इस बीच, वन संरक्षक डॉ. किरण बिसेन ने पुलिस विभाग को कार्रवाई के लिए पत्र लिखा है। पत्र से मंत्री ठाकुर का नाम हटा दिया गया है। पत्र में मनोज और सुनील पाटीदार सहित अन्य लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है।

डिप्टी रेंजर अब भी अड़े- मंत्री ही के सामने सबकुछ हुआ था
डिप्टी रेंजर राम सुरेश दुबे का कहना है कि मैंने 10 जनवरी को भी सही कार्रवाई की और 12 को भी सही ज्ञापन दिया। वनभूमि पर बगैर अनुमति बुलडोजर से खुदाई की जा रही थी। मैंने विधिवत कार्रवाई की थी। 11 को 20 से ज्यादा लोग परिसर में घुसे और बुलडोजर, ट्रॉली लेकर चले गए। मंत्री भी यह सब देख रही थीं। उनकी मौजूदगी में यह काम हुआ था। मैं थाने में आवेदन नहीं देता तो मेरे अधिकारी मुझ पर कार्रवाई करते। मेरे निलंबित होने की स्थिति बन जाती।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser