पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रेलवे के जीएम से दैनिक भास्कर के सवाल:इंदौर में प्रोजेक्ट की देरी पर बोले- पहले फंड नहीं मिलता था, अब जितना मिल रहा है उस तेजी से काम हो रहा है

इंदौर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पश्चिम रेलवे के जीएम आलोक कंसल ने इंदौर रेलवे स्टेशन का निरीक्षण किया। - Dainik Bhaskar
पश्चिम रेलवे के जीएम आलोक कंसल ने इंदौर रेलवे स्टेशन का निरीक्षण किया।

पश्चिम रेलवे के जीएम आलोक कंसल मंगलवार काे इंदौर, देवास, उज्जैन सेक्शन का निरीक्षण करने पहुंचे। इंदाैर स्टेशन पर निरीक्षण के दौरान उन्हें मीडिया के कई सवालों से होकर गुजरना पड़ा। रेलवे इंदौर की अनदेखी के सवाल पर उन्होंने कहा कि फंड की उपलब्धता के हिसाब से काम हो रहा है। महू-सनावद, इंदौर-दाहोद के बीच बंद पड़े प्रोजेक्ट को लेकर उन्होंने कहा कि इंदौर-दाहोद के काम को जल्द शुरू करने के लिए वे कोशिश में लगे हुए हैं। इसके अलावा इंदौर-देवास-उज्जैन के बीच डबलिंग के काम को उन्होंने प्राथमिक कामों में से एक बताया। उन्होंने कहा - कोरोना के कारण सवारी गाड़ियों के बंद होने से पश्चिम रेलवे को ही 5 हजार करोड़ का नुकसान हुआ है। इस मौके पर दैनिक भास्कर द्वारा किए गए सवालों का जीएम ने यह दिया जवाब।

  • सवाल : इंदाैर की अनदेखी क्याें हाे रही है, यहां के ज्यादातर प्राेजेक्ट बंद पड़े हैं?
  • सांसद शंकर लालवानी से चर्चा कर उन्हें कुछ रास्ते सुझाएं हैं। हमारी काेशिश है कि हमें सफलता मिलेगी। सारे प्रोजेक्ट बंद नहीं हैं। आप हमें नाम बताएं।
  • सवाल : महू -सनावद, इंदौर-दाहोद बंद हैं?
  • महू सनावद में काम चल रहा है, इंदौर दाहोद होल्ड पर है। इस समय देशभर में साढ़े 3 लाख करोड़ के अधिक के प्रोजेक्ट मंजूर हैं। हर प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो, इसके लिए उतनी राशि होनी चाहिए। हम प्राथमिकता के आधार पर कामाें काे आगे बढ़ा रहे हैं। हम चाहते हैं कि लोगों को अच्छी और तेजगति की गाड़ियाें उपलब्ध हो, जिससे वे जल्द से जल्द अपने गंतव्य तक पहुंच सकें। हमारे पास रुपए 100 हैं और हमें खर्च 500 रुपए करने हैं, ऐसे में रुपए चर्च करने के लिए पूरी प्लानिंग से करनी होती है। इसका मतलब यह नहीं है कि हम इंदौर के प्रोजेक्ट्स को अनदेखा कर रहे हैं। इंदौर-दाहोद में रास्ता निकालने की कोशिश है।
  • सवाल : आखिर कब समय आए, क्योंकि 10 से लेकर 33 साल तक प्रोजेक्ट लेट चल रहे हैं?
  • बिल्कुल ठीक, कह रहे हैं, लेकिन पहले प्रोजेक्ट्स बहुत तेजी से मंजूर हुआ करते थे। लेकिन उतना फंड उपलब्ध नहीं होता था। मैंने उदाहरण दिया ना कि मेरी सैलरी 100 रुपए है और मेरा खर्च 500 रुपए है। ऐसे में मुझे 100 रुपए को जरूरत के हिसाब से खर्च करना होगा। उसी प्रकार से फंड के अनुसार काम में तेजी लाई जा रही है।
  • सवाल : इंदौर-देवास - उज्जैन डबलिंग में जो फंड मिला है वह काफी नहीं है, ऐसे में प्रोजेक्ट कैसे पूरा होगा?
  • डबलिंग प्रोजेक्ट मेरी प्राथमिकता में हैं। इसके लिए अलग से फंड की व्यवस्था की जाएगी। इसका काम रुका नहीं है।
  • सवाल : महू के आगे टनल के लिए सिर्फ 25 साल से सर्वे चल रहा है, यह कब पूरा होगा?
  • महू सनावद का जो काम बचा है, उसके लिए एक दूसरा टेक्निकल सर्वे करवाकर रिपोर्ट भेज दी है। यदि इसी रूट को आगे बढ़ाते तो एक्ट्रा बैंकर, एक्ट्रा इंजन लगता। हमारी कोशिश है कि एक्ट्रा खर्च लगने के बजाय हम ऐसा रूट तैयार करें, जिससे भविष्य में एक्ट्रा खर्चे से बचा जा सके।
  • सवाल : उम्मीद करें की इंदौर की अनदेखी अब खत्म होगी?
  • अनदेखी शब्द को मैं एग्री नहीं करता हूं। मैं बताना चाहूंगा कि पिछली बार मप्र को मिले थे 428 करोड़ रुपए। इस बजट में मप्र को 622 करोड़ रुपए। करीब 25 फीसदी ज्यादा फंड का अलाटमेंट हुआ है। मप्र नहीं नहीं देशभर में एक्ट्रा बजट दिया गया है।

ये सवाल भी जीएम से किए गए

  • सवाल : डिवीजन में कौन-कौन से प्रोजेक्ट प्रॉयर्टी पर हैं?
  • डबलिंग, जिस लाइन में ज्यादा से ज्यादा ट्रेनें चलाई जा सकें। जहां ट्रेनों की गति को बढ़ाया जा सके। हमारी कोशिश सवारियों को ज्यादा से ज्यादा सीट उपलब्ध करवाने की है।
  • सवाल : कोविड के बाद से अब कितनी ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है?
  • 22 मार्च के बाद से ट्रेनें बंद थीं, सबसे पहले हमने श्रमिक ट्रेनों का संचालन किया। मई में हमने 19 लाख श्रमिकों को 1234 श्रमिक ट्रेनों से हमने उन्हें अलग-अलग राज्यों में भेजा। उसके बाद मेल एक्सप्रेस से शुरुआत की। डिवीजन में पहले 300 ट्रेन चलती थीं। हमने 2 ट्रेनों से शुरुआत की। आज डिवीजन में 145 ट्रेनों का संचालन हो रहा है। अगले 7 दिनों में 6 और ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा। ट्रेनों के नहीं चलने से सालाना 5 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है। अभी जो ट्रेनें चल रही हैं, उसमें से कुछ तो ऐसी हैं जिनमें सीट 1200 हैं और सफर मात्र 100 लोग कर रहे हैं। लोगों में अभी भी डर है। पश्चिम रेलवे में ही एक साल में यात्री किराए से 5 हजार करोड़ का नुकसान हुअा है। हमारी आमदनी यात्री और पार्सल से होती है। पार्सल में 10 हजार करोड़ की आय होती है। हमने गुड्स ट्रेनिंग बंद नहीं की थीं।
  • सवाल : स्पेशल ट्रेन के कारण यात्रियों को ज्यादा किराया देना पड़ रहा है?
  • आप किसे ज्यादा किराया कहते हैं। अभी ट्रेनों में जितनी सीट उतने को ही टिकट दिए जा रहे हैं। ट्रेनों को तेजगति से चलाया जा रहा है। स्टेशन कम हैं। 10 से 20 रुपए ज्यादा देकर लोग जल्दी अपने गंतव्य तक पहुंच रहे हैं।

स्टेशन पर हुई नारेबाजी

इंदौर स्टेशन का निरीक्षण करने के साथ ही उन्होंने वॉटर रिसाइक्लिंग प्लांट और रेस्ट रूम ब्लॉक का शुभारंभ किया। यहां से वे 10.15 बजे लक्ष्मीबाईनगर के लिए रवाना हुए। लक्ष्मीबाईनगर में निरीक्षण कर देवास और वहां से उज्जैन के लिए रवाना हुए। रेलवे सलाहकार समिति के पांच से ज्यादा पूर्व सदस्य पश्चिम रेलवे के जीएम को ज्ञापन पहुंचे। जगमोहन वर्मा ने बताया इंदौर से जुड़े रेल प्रोजेक्टों की अनदेखी हो रही है। इसे लेकर सभी सदस्य जीएम से मिलने पहुंचे थे। वे महू-सनावद, इंदौर-दाहोद के बीच दोबारा काम शुरू करने, इंदौर-देवास-उज्जैन के बीच डबलिंग का काम दोनों ओर से शुरू करने की मांग करने वाले थे। सीएम से नहीं मिलने देने पर स्टेशन पर जमकर नारेबाजी हुई।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

और पढ़ें