पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • When The Son daughter in law Pulled The Mother Out Of The House, A Son Would Push The Disabled Father Down The Stairs.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बुजुर्गों की व्यथा:बेटे-बहू ने मां को घर से निकाला तो एक बेटा विकलांग पिता को सीढ़ियों से देता था धक्का

इंदौर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतिकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतिकात्मक फोटो
  • नागरिक परामर्श केंद्र पर फटकार के बाद साथ रखने को हुए राजी

अपने घर के बुजुर्गों से अभद्रता और प्रताड़ित करने के दो और मामले सामने आए। एक में बुजुर्ग मां के मकान पर बहू-बेटे ने कब्जा कर उन्हें घर से निकालने की तैयारी की तो दूसरे मामले में इंजीनियर बेटा कभी विकलांग पिता को सीढ़ियों से धकेलता तो कभी अभद्रता करता। पलासिया थाने के पास आलंबन वरिष्ठ नागरिक केंद्र में दोनों केस पहुंचने के बाद रिटायर्ड अफसरों ने दोनों पक्षों में समझौता करवाया।

केस-1: बुजुर्ग माता बोलीं- बेटे-बहू से उनकी जान का खतरा

आलंबन केंद्र के प्रभारी और रिटायर्ड डीएसपी एनएस जादौन के पास पाटनीपुरा की एक वृद्धा का मामला आया। वृद्धा ने बताया- साहब मेरे बेटे-बहू ने मुझसे मारपीट की व घर से निकाल दिया। मुझे दोनों से जान का खतरा है। आलंबन केंद्र के डॉ. आरके शर्मा, केके बिरला, आनंद श्रीवास्तव और रामेश्वर कुशवाह ने स्पॉट पर जांच की तो पता चला महिला के नाम पर एक मकान है।

उस पर बेटे ने कब्जा कर लिया है। इस पर मां और बहू-बेटे की काउंसलिंग की तो मां ने बेटे-बहू की सारी प्रताड़नाएं उन्हीं के सामने बताई। अफसरों ने कहा यदि आपने मां को सम्मान और साधन नहीं दिया तो केस दर्ज कर जेल भेज देंगे। इस पर बहू-बेटे ने मां के पैर छुए। मां को पूरा मकान देते हुए उसके दो कमरों में बेटा-बहू रहेंगे। उन्हें जरूरत का सामान भी देंगे।

केस-2: बेटे की प्रताड़ना से दुखी विकलांग पिता बोले- जीने की इच्छा नहीं

कनाडिया रोड के 72 वर्षीय विकलांग पिता गोपालकृष्ण शर्मा जनसुनवाई में पहुंचे तो डीआईजी मनीष कपूरिया ने केस आलंबन केंद्र भेजा। पिता बोले- मेरा बेटा ललित इलेक्ट्रिकल इंजीनियर है। वह मुझे पीटता है। सीढ़ी से धक्का दे देता है। उसकी हरकतों के कारण उसकी पत्नी भी छोड़कर चली गई। उसने मुझे इतना प्रताड़ित किया कि अब जीने की इच्छा नहीं है।

मैं आखिरी बार पुलिस को अपना दु:ख बताने आया हूं। इस पर वरिष्ठ नागरिक केंद्र ने गोपनीय ने जांच की तो पता चला बेटा फर्राटेदार अंग्रेजी बोलता है, लेकिन उसका व्यवहार ठीक नहीं है। तीन-चार बार बुलाने पर भी वह काउंसलिंग के लिए नहीं आया। जब उसे कार्रवाई की चेतावनी दी तो आया। अफसरों ने कहा ऐसा कृत्य करने पर जेल भेज देंगे। उसने पिता से माफी मांगी और उनके मकान का नीचे का एक कमरा लिया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें