पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दहेज प्रताड़ना के आरोपी को जमानत:8 दिन में जिसके माता-पिता की कोरोना से मौत, वह बहू से दहेज कैसे मांग सकता है

इंदौर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दहेज प्रताड़ना के मामले में हाई कोर्ट ने एक बुजुर्ग को जमानत का लाभ देते हुए कहा कि जिसके माता-पिता की कोरोना से आठ दिन में मौत हो गई हो, वह बहू को दहेज लाने के लिए कैसे प्रताड़ित कर सकता है। ससुर की ओर से दायर अर्जी में कहा गया कि बहू ने आत्महत्या डिप्रेशन में की। उसका दादा ससुर और दादी सास से काफी लगाव था। दोनों की मौत हो जाने से वह सदमे में थी। अधिवक्ता मनीष यादव के मुताबिक, भारत सिंह, उनकी दो बेटियों पर बहू पायल के परिजन ने केस दर्ज कराया था, जबकि दामाद यानी पायल के पति पर किसी तरह का आरोप नहीं लगाया। भारत सिंह के पिता आत्माराम सिंह व मां की क्रमश: 23 और 30 अप्रैल को कोरोना से मौत हो गई।

इसके बाद भारत सिंह की बहू पायल ने आत्महत्या की। पायल के परिजन ने ससुर व दोनों ननद पर आरोप लगाए कि वह दहेज में कार की मांग रहे थे। इसी तनाव में पायल ने खुदकुशी की।
घर में 3 कारें, दोनों ननद अपने-अपने घर में

भारत सिंह की ओर से कहा गया घर में एक नहीं, बल्कि तीन-तीन कारें हैं। दोनों ननद अपने-अपने घर जा चुकी हैं। पायल की आत्महत्या से आठ दिन पहले ही माता-पिता की मौत हो गई। ऐसे में कोई दहेज की मांग कैसे कर सकता है। जस्टिस सुबोध अभ्यंकर की खंडपीठ ने सुनवाई करते हुए जमानत का लाभ दिया।

खबरें और भी हैं...