• Hindi News
  • National
  • World's Sixth Person Found In Indore; Whose Internal Organs Are In The Opposite Place, Revealed In The Investigation For Liver Donation

साइटस इन्वर्सस टोटेलिस का दुर्लभ मामला:इंदौर में मिला दुनिया का ऐसा छठा शख्स जिसके सभी भीतरी अंग विपरीत जगह पर; लिवर डोनेशन के लिए हुई जांच में खुलासा

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सामान्य व्यक्ति में लिवर दाईं तरफ रहता है, लेकिन प्रखर का बाईं तरफ है। - Dainik Bhaskar
सामान्य व्यक्ति में लिवर दाईं तरफ रहता है, लेकिन प्रखर का बाईं तरफ है।

इंदौर में ऐसा शख्स मिला, जिसके सभी भीतरी अंग विपरीत जगह पर हैं। इसका खुलासा पिता को लिवर डोनेशन के पहले हुईं जांचों में हुआ। यह दुनिया का छठा और देश का चौथा केस है। मेडिकल भाषा में इसे साइटस इन्वर्सस टोटेलिस’ कहते हैं। महू निवासी प्रदीप कौशल (59) लिवर सिरोसिस से पीड़ित थे। 27 वर्षीय इंजीनियर बेटे प्रखर का लिवर मैच हो गया। चोइथराम अस्पताल में जांचें करवाईं तो प्रखर का लिवर दाईं की जगह बाईं तरफ निकला। हार्ट सहित अन्य अंग भी उल्टी दिशा में हैं।

बचपन से पता था कि हार्ट उलटी दिशा में, अन्य अंगों का नहीं
प्रखर ने बताया कि मुझे मां ने बताया था कि मेरा हार्ट बाईं की बजाय दाईं ओर है, लेकिन लिवर सहित अन्य अंग उलटी दिशा में हैं, इसका पता अब चला। पेट रोग विशेषज्ञ डॉ. अजय जैन और उनकी टीम ने जब ट्रांसप्लांट के बारे में समझाया तो झिझक दूर हो गई।

22 घंटे लगे..10 घंटे निकालने में व 12 घंटे लिवर ट्रांसप्लांट में लगे
लिवर ट्रांसप्लांट सर्जन व गेस्ट्रो सर्जन डॉ. सुदेश शारदा ने बताया कि डोनर के शरीर में सारे अंग उल्टी दिशा में थे। ऐसे में ऑपरेशन करना बेहद जटिल था। कई तरह की जांचों के बाद 28 अगस्त को ऑपरेशन किया। 10 घंटे डोनर का लिवर निकालने और 12 घंटे मरीज को ट्रांसप्लांट करने में लगे। इस दुर्लभ केस में डॉक्टरों को कुल 22 घंटे लगे। सामान्य ट्रांसप्लांट की तुलना में अधिक समय लगा। डोनर को 12 दिन में डिस्चार्ज कर दिया गया है, जबकि पिता को 17-18 दिन में डिस्चार्ज किया जाएगा। दोनों की स्थिति अभी ठीक है।

खबरें और भी हैं...