सराहनीय कदम / मानव सेवा ढंग से की जाए तो वह न्याय ही है : जस्टिस

If done in human service manner, it is justice: Justice
X
If done in human service manner, it is justice: Justice

  • इंदौर खंडपीठ लीगल एड की ओर से यह सराहनीय कदम उठाया गया है

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 08:20 AM IST

पीथमपुर. कानून का अर्थ होता है मानव सेवा। यदि मानवता के खिलाफ कोई कार्य होगा, तो सबसे पहले न्यायालय आता है। शासन और सभी व्यवस्था देखकर लगा कि मानव सेवा ढंग से की जाए, तो वह न्याय विधान ही है। इस बात से प्रेरित होकर उच्च न्यायालय इंदौर खंडपीठ लीगल एड की ओर से यह सराहनीय कदम उठाया गया है। 

यह बात जस्टिस वीरेंद्रसिंह और जस्टिस शैलेंद्र शुक्ला नेे यहां संजय जलाशय स्थित सेवा शिविर के दाैरान कही। वे यहां से पलायन करके जाने वाले श्रमिकाें व उनके परिजनाें काे अावश्यक सामग्रियाें का वितरण करने आए थे। यहां सुबह 11 बजे उच्च न्यायालय इंदौर खंडपीठ की विधिक सेवा समिति व उच्च न्यायालय के न्यायाधीशाें को भी आमंत्रित किया गया था। उन्हाेंने अपने हाथों से प्रवासी मजदूरों के लिए सारी चीजें मुहैया करवाईं। प्रिंसिपल रजिस्ट्रार अनिल वर्मा, रजिस्ट्रार वीरेंद्र बहादुर सिंह द्वारा सभी स्टाफ द्वारा दोपहर 11 बजे जितनी भी बसें रुक रही थीं उनमें से जितने भी यूपी, बिहार, झारखंड, इलाहाबाद या अन्य प्रांतों के जो भी मजदूर बसों से उतर रहे थे। उनके लिए 500 भोजन के पैकेट, मिठाइयां, छोटे बच्चे, बड़े-बूढ़े, महिलाएं सभी के नाप के जूते-चप्पल, 500 मास्क, 500 सैनिटाइजर, तरबूज, 500 पानी की बाेतलें शामिल थीं। इस मौके पर खंडपीठ की रुचिता सोलंकी, नीता व्यास, अमनसिंह भूरिया, फूलचंद, बिंदेश रायकवार, कमलाकर देशमुख, राजेश कांबले आदि उपस्थित थे। 

तीन-तीन फीट की दूरी पर 150 गोले बनाए

 

सीएमओ गजेंद्रसिंह बघेल ने बताया संजय जलाशय सेवा शिविर में इंदाैर उच्च न्यायालय का यह दूसरा कार्यक्रम है। इसके चलते हमने पूरे क्षेत्र को सैनिटाइज कर तीन फीट की दूरी पर करीब 150 गोले बनाए थे। सभी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ जरूरत की चीजें लेने आ रहे थे। फायर  दमकल द्वारा पूरे क्षेत्र को सैनिटाइज किया गया और माइक के द्वारा सभी मजदूरों से सोशल डिस्टेंसिंग के साथ खड़े रहने की अपील भी की गई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना