सम्यक आभियान कांफ्रेंस:विचारक भास्कर राव रोकड़े ने श्रमिक कानून पर रखी अपनी राय

पीथमपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

केंद्र और राज्य सरकार द्वारा लागू नए श्रमिक कानूनों से श्रमिकों को होने वाले नुकसानों के कारण श्रमिक भारी संकट के दौर से गुजर रहे हैं और सैकड़ों शिक्षित बेरोजगार , रोजगार की तलाश में भटकते हुए हताश और निराश होकर डिप्रेशन में जा रहे हैं।

सब केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार की श्रमिक विरोधी नीति के कारण हो रहा हैं। यह विचार प्रसिद्ध विचारक और लेखक भास्कर राव रोकड़े ने रविवार को पीथमपुर सेक्टर के जयनगर स्थित संगम गार्डन में उपस्थित श्रमिकों ,बेरोजगार युवाओं और श्रमिक प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए।

लगातार 2 घंटे से अधिक श्रमिकों को उनके अधिकार और कर्तव्यों की जानकारी देते हुवे शासन द्वारा श्रमिकों को उपलब्ध करवाने का आह्वान किया। उन्होंने बताया की मध्यप्रदेश की स्थापना दिवस 1 नवंबर से शुरू हुई नव क्रांति लाने के संकल्प के साथ 45 दिवसीय प्रदेश व्यापी सम्यक यात्रा शुरू की गई।

भास्कर राव रोकड़े ने बताया की शासकीय कर्मचारियों की सेवानिवृति आयु 58 साल लागू करने पर रिक्त होने वाले 5 लाख 30 हजार पदों पर जनवरी 2024 से 31 जुलाई 2024 के बीच नियुक्ति सुनिश्चित कराना।

प्राइवेट कंपनियों के कर्मचारियों को सरकारी कर्मियों के समान वेतन दिलाने हेतु मध्यप्रदेश में न्यूनतम वेतन अधिनियम की व्यवस्था करवाने, प्राइवेट कंपनियों और सरकारी विभागों में आउटसोर्सिंग सिस्टम से नियुक्तियों पर पाबंदी लगाकर कार्यरत सभी कर्मचारियों को नियमित करवाने, उद्योगों में 12 घंटे के स्थान पर 8 घंटे काम करवाने सहित अनेक मजदूर हित के साथ प्रदेश भर के शिक्षित और बेरोजगार को रोजगार उपलब्ध करवाने सहित अनेक जनहेतेशी मुद्दों को छुआ।

इस दौरान सम्यक अभियान के प्रदेश संयोजक शैलेंद्र श्रीवास्तव ,धार जिला कुलदीप सिंह बुंदेला, एडवोकेट रघुवंश पांडे ,पूर्व पार्षद प्रेम पाटीदार, सुरेश पटेल, गोवर्धन बिर्ला, सुधाकर महाजन सहित अनेक जनप्रतिनिधि और श्रमिक उपस्थित रहे।

रोकड़ ने बताया की सम्यक अभियान के संकल्प इस तरह से हैं जिन्हें हमें सरकार तक पहुंचाना है और लागू करवाना है इस के लिए लगातार प्रदेश में हम लोगों के द्वारा बैठके ली जा रही है और लोगों को जागरूक करने का एक अभियान चला रहे हैं।

खबरें और भी हैं...