पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जिद और जीत:39 भागीरथों ने चार घंटे में बना दिया 5 फीट ऊंचा बोरी बांध, 45 परिवारों को मिलेगा पानी

राणापुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शिवगंगा के हलमा कार्यक्रम में 35 बोरी बांध बनाने का लक्ष्य, 16वां धामनी चमना गांव में बनाया

एक नहीं लाखों में भगीरथ, गांव-गांव बन जाएगा तीर्थ। इस बात को चरितार्थ कर दिखाया है धामनी चमना गांव व आसपास के गांवों के 39 भागीरथो ने। इन ग्रामीणों ने परस्पर सहयोग की उत्कृष्ट लोक परंपरा हलमा करते हुए बोरी बांध बना दिया।

सोमवार सुबह 8 बजे से 12 बजे तक 4 घंटे के इस हलमा कार्यक्रम में सबने जी जान से मेहनत की। नतीजन 40 फीट चौड़ा, 5 फीट ऊंचा बोरी बांध बन गया। जिसमें 600 फीट तक पानी भरेगा। धामनी चमना गांव के तड़वी मेसिया भाई डामोर का कहना है कि इस बांध से 45 परिवारों की खेती लहलहाएगी। आसपास के कुओं व हैंडपंपों में वाटर लेवल बढ़ेगा। ग्रामीणों को गर्मी के मौसम में भी पानी मिल सकेगा। पशुओं को भी पीने का पानी मिलेगा।

कोरोना काल में भी जिले में 6 तालाबों का निर्माण किया

बिना किसी पारिश्रमिक के केवल आपसी सहयोग से बोरी बंधान तैयार करवाने के पीछे शिवगंगा है। पद्मश्री महेश शर्मा के मार्गदर्शन में शिवगंगा झाबुआ पिछले 12 वर्षों से झाबुआ आलीराजपुर जिले में जल, जंगल, जमीन, जन, जानवर व नवविज्ञान संवर्धन से समृद्धि के लिए कार्य कर रहा है। इस वर्ष कोरोना काल में भी जिले में 6 तालाबों का निर्माण किया जा चुका है।

इस रबी सीजन में अक्टूबर महीने में झाबुआ-अलीराजपुर जिले के 35 गांवों में 35 सीजनल बोरी बांध बांधने का लक्ष्य रखा गया है। जिसमें सोमवार को राणापुर के पास धामनी चमना गांव में 16वां बोरी बांध बनाया गया। पिछले सप्ताह विकासखंड के ग्राम थुवादरा, टिकड़ी मोती, टिकड़ी बोड़िया सहित जिले में 15 बोरी बांध बनाए।

दूसरे गांवों से भी आए लोग मदद को

इस पूरे काम को अंजाम देने के लिए टिकड़ी से भाटेसिंह मखोड़िया, अल्केश, ठाकुर ,भूतबयड़ा से बाबूभाई डामोर, मातासुला से तोलसिंह सिंगाड़, थुवादरा से बद्दुभाई वाखला, छागोला से अर्जुन, मनीष सोलंकी व गांव के कालूभाई, कलमसिंह, जामसिंह डामोर, तड़वी, सरपंच व गांववासियों ने भी हलमा कर काम को पूरा किया।

ये है हलमा

यह आदिवासियों की प्राचीन परंपरा है। इसमें कोई एक व्यक्ति अपने काम में मदद के लिए दूसरों को बुलाता है। बिना श्रम भुगतान के ये लोग मदद करते हैं। जब कभी दूसरे को जरूरत होती है तो ऐसा ही करते हैं। सहयोग का ये सिलसिला चलता रहता है। शिवगंगा ने इसी परंपरा को जल संरक्षण के लिए संरचनाएं बनाने के काम में लिया। इसे ही हलमा कहते हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपका कोई भी काम प्लानिंग से करना तथा सकारात्मक सोच आपको नई दिशा प्रदान करेंगे। आध्यात्मिक कार्यों के प्रति भी आपका रुझान रहेगा। युवा वर्ग अपने भविष्य को लेकर गंभीर रहेंगे। दूसरों की अपेक्षा अ...

और पढ़ें