पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बाजार में रफ्तार:सात माह बाद लगे हाट बाजार में उमड़ी भीड़, व्यापार ने पकड़ी रफ्तार, नगर परिषद की आय भी बढ़ी

राणापुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शनिवार को बाजार में काफी भीड़ उमड़ी। हाट बाजार अपनी पुरानी रंगत में आता नजर आया। ज्ञात रहे विगत 7 माह से कोविड-19 संक्रमण के मद्देनजर हाट बाजार पर प्रतिबंध चल रहा था। गत शनिवार पशु गुजरी लगना शुरू हो गई थी। माना जा रहा है कि आगामी दिनों में आ रहे त्योहारो के चलते बाजार अपनी रफ्तार पकड़ लेगा।

बाजार में उमड़ी भीड़ में सोशल डिस्टेंसिंग नजर नहीं आई। ग्रामीणों में अधिकांश बिना मास्क के दिखाई दिए। इतना ही नहीं व्यापार चलने लगा तो दुकानदारों ने भी मास्क को एक तरफ रख दिए। हालांकि खतरा अब भी बना हुआ है। उधर, सड़कों पर दुकानें सज गई। दूसरी तरफ बाहर गांव से भी हाट बाजार में दुकानदार आना शुरू हो गए।

सौंदर्य सामग्री, टोस, जूते चप्पल, किराना व कपड़ा दुकानों पर भीड़ रही। वहीं एसडीएम ने आदेश जारी कर दुकानों को रात 8 बजे तक खुली रखे जाने के पूर्व आदेश को स्थगित कर दिया है। इससे दुकानें अब देर रात तक खुली रह सकती है। त्योहार के पहले आए इस आदेश से व्यापारियों में भी उत्साह का माहौल है। गौरतलब है कि लॉकडाउन के कारण पहले ही छह माह से व्यापार-व्यवसाय सुस्त है। अब बाजार में रौनक लाैटने से व्यापारी वर्ग भी खुश है।

पशु गुजरी से नप को 39,500 रु. की हुई आय

बाजार में आई रौनक से नगर परिषद के राजस्व में भी बढ़ोतरी नजर आई। पशु गुजरी से नगर परिषद को 39 हजार 500 रुपए मिले। जबकि पिछली बार 23 हजार 845 रुपए मिले थे। करीब 65 प्रतिशत ज्यादा राजस्व मिला। पशु प्रवेश के 4 हजार 660 रुपए मिले। पिछली बार यह 3300 रुपए था।

बाजार में दुकानें भी ज्यादा लगी। जिसके चलते बाजार बैठक के रूप में 11 हजार 440 रुपए मिले। गत शनिवार को यह राशि करीब 8 हजार रुपए ही थी। इसमें करीब 43 फीसदी इजाफा देखने को मिला। सीएमओ वीके बारचे ने बताया आगामी दिनों में बाजार अपने पूरे शबाब पर आ जाएगा तो नगर परिषद की आय भी बढ़ जाएगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें