पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • A Fire Broke Out At The Plant Of Bhopal Forelane Making Bagal Company In Jabalpur, One And A Half Million Wood Ashes

सात घंटे तक धधकता रहा प्लांट:जबलपुर में भोपाल फोरलेन बनाने वाली बागड़ कंपनी के प्लांट में लगी आग, 1.5 करोड़ की लकड़ी राख

जबलपुर7 महीने पहले
बागड़ कंपनी प्लांट में लगी भीषण आग बुझाते हुए फायर कर्मी
  • शहपुरा-भिटौनी से चार किमी दूरी पर है प्लांट, छह वाहनों की मदद से पाया आग पर काबू
  • रात दो बजे लगी आग, पौने तीन बजे फायर ब्रिगेड को सूचना, चंद कदम पर था पेट्रोल पंप

जबलपुर-भोपाल फोरलेन निर्माण में लगी बागड़ इंफ्रा प्रोजेक्ट कंपनी के प्लांट में बुधवार देर रात भीषण आग लग गई। प्लांट में आग इतनी तेजी से फैला कि वहां रह रहे कर्मी और उनके परिजनों में चीख पुकार मच गई। किसी तरह सभी को वहां से निकाला गया। प्लांट में खड़े जेसीबी, हाइवा सहित अन्य मशीनों को एक-एक निकाला गया। सात घंटे की मशक्कत के बाद फायर ब्रिगेड के छह वाहनों ने किसी तरह आग पर काबू पाया। हादसे में डेढ़ करोड़ की रोड चौड़ीकरण में काटे गए पेड़ों की लकड़ी स्वाहा हो गई। आग लगने के दो कारण बताए जा रहे हैं, पहला देव एकादशी पर की गई आतिशबाजी और दूसरा जलते हुए अलाव को छोड़ देना।

प्लांट में रखी लकड़ियों में लगी आग
प्लांट में रखी लकड़ियों में लगी आग

10 एकड़ में फैला है प्लांट
शहपुरा के मिसरौंद सहजपुर के पास बागड़ कंपनी का 10 एकड़ में प्लांट हैं। यहां हजारों टन लकड़ी में रात के दो बजे के लगभग आग लग गई। पौने तीन बजे प्लांट के सुरक्षाकर्मियों को इसकी जानकारी हो पाई। तब तक आग फैल चुकी थी। कर्मियों ने तुरंत शहपुरा पुलिस को खबर दी। एफआरवी वाहन मौके पर पहुंची और फायर ब्रिगेड को सूचना दी। आग की भयावहता को देखते हुए जबलपुर नगर निगम से तीन, भेड़ाघाट व पाटन से भी एक-एक फायर ब्रिगेड बुलाई गई। सुबह दस बजे आग पर काबू पाया जा सका।

डेढ़ करोड़ की लकड़ी हो गई स्वाहा
डेढ़ करोड़ की लकड़ी हो गई स्वाहा

डेढ़ करोड़ में लकड़ी नीलामी की चर्चा
जबलपुर-भोपाल फोरलेन निर्माण के चलते 56 किमी की दूरी में रोड के दोनों ओर लगे विशाल आम, महुआ, इमली, बरगद, पीपल, जामुन, सरई, बबूल के सैकड़ों पेड़ काटे गए थे। इसी की लकड़ी प्लांट में रखी गई थी। कुछ समय पहले उक्त लकड़ी डेढ़ करोड़ में नीलाम हुई थी, पर बाद में नीलामी निरस्त हो गई थी। अब इसी लकड़ी में आग लग गई। शहपुरा थाने के एएसआई टीकाराम ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पता चला कि देव एकादशी पर प्लांट में रह रहे कर्मियों ने पटाखे जलाए थे। उसी से आग फैली। वहीं दूसरी वजह अलाव से आग फैलने की आई है।

बाल-बाल बच गया 50 मीटर की दूरी पर स्थित पेट्रोल पंप
बाल-बाल बच गया 50 मीटर की दूरी पर स्थित पेट्रोल पंप

बच गया पेट्रोल पंप
प्लांट की मशीनरी के लिए पेट्रोल पंप भी स्थापित है। आग लगने वाली जगह से पंप की दूरी महज 50 मीटर थी। समय रहते आग फैलने से फायर ब्रिगेड ने रोक लिया, नहीं तो बड़ा हादसा हो जाता। वहीं परिसर में जेसीबी, हाइवा, डंपर सहित रोड निर्माण में प्रयुक्त होने वाली अन्य मशीनरी भी थी। लकड़ी ढेर के पास ही हिटाची मशीन थी, जिसे कर्मियों ने सुरक्षित हटा दिया। फायर ब्रिगेड चालक सीताराम पाठक ने बताया कि छह वाहनों ने लगभग 50 टैंकर पानी का उपयोग किया, तब जाकर आग पर काबू पाया जा सका।