• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • After 117 Days Of Missing Girl In Jabalpur, The Hell In The Ruins Of The Vehicle Estate, When The Marriage Was Fixed At Another Place, The Lover Executed The Incident.

117 दिन बाद खुलासा.. प्रेमी ही कातिल!:युवती का रिश्ता दूसरी जगह होने से बौखलाया युवक; गला काटकर शव खंडहर में छिपाया, 4 बार की पूछताछ में भी नहीं टूटा था

जबलपुर8 महीने पहले

जबलपुर में चार महीने पहले लापता युवती की प्रेमी ने हत्या कर दी थी। 117 दिन बाद 24 सितंबर को वीकल इस्टेट के खंडहर हो चुके पुराने क्वार्टर में उसका कंकाल मिला। पास में ही कपड़े, जूते और सिर के बाल मिले। युवती की शादी कहीं तय हो गई थी। इससे बौखलाकर प्रेमी ने उसकी हत्या कर दी।

आरोपी प्रेमी को पुलिस पहले भी चार बार हिरासत में लेकर पूछताछ कर चुकी है, लेकिन वह पुलिस के सामने नहीं टूटा था। युवती के पिता को हाईकोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका लगानी पड़ी। तब एसपी ने क्राइम ब्रांच को मामला सौंपा और इस सनसनीखेज वारदात का खुलासा हुआ।

मेडिकल कॉलेज में पिता नंदकिशोर वंशकार बेटी की फोटो दिखाते हुए।
मेडिकल कॉलेज में पिता नंदकिशोर वंशकार बेटी की फोटो दिखाते हुए।

रांझी झंडा चौक वंशकार मोहल्ला निवासी नंदकिशोर वंशकार के चार बच्चों में सबसे बड़ी खुशबू वंशकार (23) 31 मई की दोपहर डेढ़ बजे घर से निकली थी, जिसके बाद नहीं लौटी। पेशे से मजदूर नंदकिशोर ने बेटी की गुमशुदगी की शिकायत उसी रात रांझी थाने में दर्ज कराई। साथ में बजरंग नगर गंगामईया निवासी आकाश बेन पर बेटी को गायब करने का संदेह भी जताया।

बेटी का कंकाल मिलने के बाद आक्रोशित परिजन और वंशकार समाज के लोग।
बेटी का कंकाल मिलने के बाद आक्रोशित परिजन और वंशकार समाज के लोग।

4 महीने में 4 बार आकाश को उठाया, पर नहीं कबूला
नंदकिशोर वंशकार के मुताबिक, बेटी के मोबाइल के कॉल डिटेल में भी आकाश बेन का ही आखिरी बार नंबर आया। आधे घंटे उनके बीच बातचीत हुई थी। उसके बाद वह घर से निकली थी। तत्कालीन टीआई आरके मालवीय ने 4 बार आकाश बेन को पूछताछ के लिए उठाया, लेकिन पूछताछ के बाद उसे हर बार छोड़ दिया गया।

50 बार थाने, 5 बार एसपी से तो दो बार सीएम हेल्पलाइन में की शिकायत
नंद किशोर के मुताबिक, वे पिछले 117 दिनों में बेटी के बारे में पता लगाने के लिए 50 बार से अधिक रांझी थाने और 5 बार एसपी से मिले। एक-एक बार IG व DIG कार्यालय और दो बार सीएम हेल्पलाइन में शिकायत कर चुके थे।

खुशबू के बाल, कपड़े, जूते और कंकाल।
खुशबू के बाल, कपड़े, जूते और कंकाल।

सीएम हेल्पलाइन की पहली शिकायत वापस कराने के लिए टीआई ने दबाव बनाया था। ये कहते हुए शिकायत वापस करा ली थी कि दो दिन में वह उसकी बेटी को ढूंढ कर वापस ला देंगे। सीएम हेल्पलाइन की शिकायत वापस ली, तो उनके सुर बदल गए। बोले, यही एक काम उनके जिम्मे नहीं है।

बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका के बाद खुलासा
चारों तरफ से निराश पिता नंदकिशोर ने हाईकोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका लगाई। हाईकोर्ट के दखल के बाद एसपी ने प्रकरण क्राइम ब्रांच को सौंपा। प्रकरण में शुरू से ही आकाश बेन पहला संदेही था। क्राइम ब्रांच ने उसे 23 सितंबर की रात में उठाया।

सख्ती की तो उसने सन्न कर देने वाला खुलासा किया। बताया कि वह खुशबू से प्रेम करता था। उसकी शादी कहीं और तय हो गई। इसके बाद से वह उससे बातचीत करना बंद कर दी थी। उसे सबक सिखाने के लिए उसने हत्या कर दी है।

वीकल एस्टेट के खंडहर हो चुके दो मंजिला क्वार्टर में की थी हत्या
आकाश बेन 31 मई 2021 की दोपहर में खुशबू को लेकर वीकल एस्टेट के खंडहर हो चुके दो मंजिला क्वार्टर में ले गया। क्वार्टर चारों तरफ से झाड़ियों से घिर चुका है। इस खंडहर हो चुके क्वार्टर के दूसरी मंजिल पर आरोपी खुशबू को ले गया। वहां उसके साथ ज्यादती भी की, फिर चाकू से गर्दन पर वार कर मार डाला था।

शव को उसी क्वार्टर में छिपा कर फरार हो गया था। शव पड़े-पड़े कंकाल में तब्दील हो गया। रांझी पुलिस ने उसकी निशानदेही पर 24 सितंबर को कंकाल बरामद किया। वहीं, हत्या में प्रयुक्त चाकू और हत्या के दिन पहने गए कपड़े जब्त कर लिए हैं। घटनास्थल पर युवती के कपड़े और जूते पड़े थे। उसके सिर के बाल और कंकाल को FSL की मौजूदगी में पीएम के लिए भिजवाया गया।

प्रधान आरक्षक रामवचन सिंह पीएम के बाद कंकाल को मर्च्युरी से लाते हुए।
प्रधान आरक्षक रामवचन सिंह पीएम के बाद कंकाल को मर्च्युरी से लाते हुए।

सागर भेजा गया कंकाल
युवती के गर्दन सहित सिर का हिस्सा पीएम करने वाले डॉक्टरों ने सागर FSL भिजवाया है। शेष हडि्डयां परिजनों को एक बोरी में रखकर सौंप दिया है। इस सनसनीखेज हत्या से वंशकार समाज के लोग परिजनों के साथ थाने पहुंचे और प्रदर्शन किया।

रांझी पुलिस पर आरोप लगाया कि पुलिस ने गंभीरता से मामले की जांच की होती तो इस हत्याकांड का खुलासा तभी हो गया होता। मां सुधा और पिता नंदकिशोर ने आरोप लगाए कि इस हत्याकांड में आकाश के अलावा सूरज, प्रकाश और बसंत बेन भी शामिल रहे हैं।

कंकाल की डीएनए जांच भी होगी:एएसपी
एएसपी संजय अग्रवाल के मुताबिक, आरोपी आकाश बेन के खिलाफ हत्या और शव को छिपाने का प्रकरण दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। परिजनों के बयान और साक्ष्य के आधार पर जो भी सामने आएगा। उसे जांच में शामिल किया जाएगा। यदि हत्या में किसी और के शामिल होने की बात सामने आई, तो उसे भी आरोपी बनाया जाएगा। मामले में डीएनए जांच भी कराई जाएगी, जिससे आरोपी को सख्त से सख्त सजा दिलाई जा सके।