भू-माफिया का कब्जा ढहाया:जबलपुर में सीलिंग की ढाई एकड़ जमीन पर कब्जा कर प्लॉटिंग किया था, तान लिए थे 4 मकान

जबलपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भू-माफिया के खिलाफ कार्रवाई। - Dainik Bhaskar
भू-माफिया के खिलाफ कार्रवाई।

जबलपुर में भू-माफिया के खिलाफ रविवार को एक बार फिर प्रशासन का बुलडोजर निकला। सीलिंग की लगभग ढाई एकड़ जमीन पर कब्जा कर प्लाॅटिंग करने वाले भू-माफिया से पांच करोड़ की जमीन मुक्त कराई। यहां 4 मकान भी तान दिए गए। इसकी लागत भी 90 लाख रुपए थी।

प्रशासन के मुताबिक कुदवारी में सीलिंग की ढाई एकड़ जमीन पर भू-माफिया हाजी इरशाद पिता मोहम्मद इकबाल ने कब्जा कर रखा था। आरोपी ने 1200-1200 वर्गफीट जमीन की प्लाॅटिंग कर बेच दिया था। चार प्लाॅट में मकान भी तान गए थे। भू-माफिया हाजी इरशाद द्वारा इस भूमि से लगकर नगर नाम से कॉलोनी का निर्माण कराया जा रहा था। हाजी इरशाद रेपिस्ट गुलाम हसन के पिता हामिद हसन का खास गुर्गा है।

भू-माफिया के कब्जे से 5 करोड़ की जमीन खाली कराई।
भू-माफिया के कब्जे से 5 करोड़ की जमीन खाली कराई।

अमले ने पहुंच कर तोड़ा निर्माण

रविवार को एसडीएम आधारताल नमः शिवाय अरजरिया की अगुवाई में सीएसपी अखिलेश गौर, डीएसपी मनोज मिश्रा, तहसीलदार राजेश सिंह, नायब तहसीलदार संदीप जायसवाल, टीआई माढ़ोताल, गोहलपुर और बेलबाग थाने का पुलिस बल और नगर निगम का अतिक्रमण दस्ता जेसीबी और अन्य मशीनरी लेकर कार्रवाई को पहुंचा।

80 की संख्या में पहुंचे पुलिस और अमले ने चारों मकान को तोड़ते हुए भू-माफिया से सीलिंग की जमीन खाली कराई। इसकी कीमत पांच करोड़ रुपए है। वहीं 90 लाख रुपए की लागत से निर्माण हुआ था।

1200 में निर्मित प्लाट तोड़े गए।
1200 में निर्मित प्लाट तोड़े गए।

जमीन खरीदने वाले दिखाते रहे दस्तावेज

कार्रवाई के दौरान जमीन खरीद कर निर्माण करा चुके चारों मकान के मालिक प्रशासन को रजिस्ट्री के दस्तावेज दिखाते रहे। भू-माफिया ने सभी से 12-12 लाख रुपए जमीन के एवज में लिए हैं। इसके बाद वे इस पर निर्माण करा रहे थे। पर सीलिंग की जमीन में निर्माण होने का हवाला देते हुए प्रशासन ने सारे निर्माण तोड़ दिए। सभी पीड़ितों को कहा गया है कि वे भू-माफिया के खिलाफ शिकायत दर्ज करा सकते हैं और अपनी क्षतिपूर्ति के लिए सिविल कोर्ट में प्रकरण लगा सकते हैं।

प्रशासन से कार्रवाई रोकने की गुहार लगाते हुए घर बनाने वाले लोग।
प्रशासन से कार्रवाई रोकने की गुहार लगाते हुए घर बनाने वाले लोग।

प्रशासन की पहली कार्रवाई

भू-माफिया अभियान में यह पहली कार्रवाई है, जिसे प्रशासन ने चिन्हित किया था। इसी के साथ एक बार फिर भू-माफिया के खिलाफ कार्रवाई की शुरुआत हो गई है। अभी तक जिले में पुलिस अपराधियों के अवैध कब्जे को चिन्हित कराकर प्रशासन के सहयोग से भू-माफिया विरोधी कार्रवाई कराती थी। कलेक्टर कर्मवीर शर्मा और एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया कि सूदखोर और भू-माफिया के खिलाफ ये कार्रवाई जारी रहेगी।

खबरें और भी हैं...