पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

समर्थन मूल्य से कम मिल रहे दाम:केंद्र नहीं खुले, किसानों ने कम कीमत पर बेच दी फसल

जबलपुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कृषि उपज मंडी में बढ़ी चना, मसूर और गेहूं की आवक

पाटन तहसील में एक अप्रैल से शुरू हुई गेहूं खरीदी 4 दिन गुजर जाने के बाद भी शुरू नहीं हो पाई है। इसके चलते किसान अब अपनी उपज लेकर कृषि उपज मंडी पहुंच रहे हैं। समर्थन मूल्य से कम कीमत पर किसान अपनी उपज बेचने के लिए मजबूर हैं।

किसानों का कहना है कि अभी तक खरीदी शुरू नहीं हो पाई है। खरीदी शुरू होती तो भी उन्हें राशि मिलने में देर होती। उन्हें उड़द, मूंग की बुवाई के लिए राशि की जरुरत है। इसलिए वे अपनी उपज कम दाम पर बेचने के लिए मजबूर हैं। वहीं, कुछ किसान कर्ज चुकाने के लिए भी अपनी उपज बेच रहे हैं।

जानकारी के अनुसार पाटन कृषि उपज मंडी में गेहूं, चना मसूर की आवक शुरू हो गई है। समर्थन मूल्य से कम कीमत पर व्यापारी किसानों की उपज खरीद रहे हैं। समर्थन मूल्य से 300 और 400 रुपए कम कीमत पर एक क्विंटल अनाज की खरीदी हो रही है। किसानों का कहना है, उन्हें हार्वेस्टर वाले सहित खाद, बीज की उधारी चुकानी है। इसलिए वे कम कीमत पर उपज बेचने पहुंचे हैं।
कर्ज चुकाने कम कीमत पर बेच रहे उपज

कैमोरी निवासी किसान महेश कुमार ने बताया, उन्हें नकद राशि की जरुरत थी। हार्वेस्टर की कटाई, खाद-बीज का कर्ज चुकाना था। इसलिए वे अपना गेहूं कम कीमत पर बेचने के लिए मजबूर हैं। 1675 रुपए प्रति क्विंटल की दर से उन्होंने अपना 100 क्विंटल गेहूं बेचा है।

इसी रेट पर किसान कमलेश ने 50 क्विंटल व पोंड़ी निवासी किसान नन्हे भाई बर्मन ने अपना 60 क्विंटल गेहूं बेचा। गौरतलब है, इस बार गेहूं का समर्थन मूल्य 1975 रुपए है। इस हिसाब से किसानों को प्रति क्विंटल 300 रुपए प्रति क्विंटल का नुकसान उठाना पड़ा। एक किसान को 100 क्विंटल गेहूं बेचने में सीधे 30 हजार रुपए का नुकसान हो रहा है।
चना और मसूर के भी कम दाम

किसानों को चना और मसूर के भी कम दाम मिल रहे हैं, जबकि सरकार ने इन फसलों के भी समर्थन मूल्य पर रेट तय किए हैं। कुवंरपुर निवासी किसान राजेश प्रसाद ने सोमवार को मंडी में चना की उपज बेची। उन्हें 4800 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से राशि मिली। जबकि चना का समर्थन मूल्य 5400 रुपए निर्धारित है। वहीं मसूर की खरीदी 4775 रुपए प्रति क्विंटल हुई, जबकि मसूर का समर्थन मूल्य 5500 रुपए है। माला निवासी किसान सुरेन्द्र सिंह, राकेश दुबे ने भी अपनी उपज समर्थन मूल्य से कम दाम पर बेची।
गेहूं खरीदी से जुड़ी शिकायत करने बना कंट्रोल-रूम

गेहूँ खरीदी से संबंधित किसानों की किसी भी प्रकार की समस्याओं की शिकायत दर्ज किए जाने के लिए कलेक्ट्रेट कार्यालय के परिसर में कंट्रोल-रूम स्थापित किया गया है। कंट्रोल-रूम का दूरभाष नम्बर 0761-2677510 है। कंट्रोल रूम में शिकायत दर्ज करने के लि ऑपरेटरों की ड्यूटी लगाई गई है।पी-3

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने काम को नया रूप देने के लिए ज्यादा रचनात्मक तरीके अपनाएंगे। इस समय शारीरिक रूप से भी स्वयं को बिल्कुल तंदुरुस्त महसूस करेंगे। अपने प्रियजनों की मुश्किल समय में उनकी मदद करना आपको सुखकर...

    और पढ़ें