पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Youth Congress Workers Pleaded To Save The Trees By Embracing Them In Dumna, Said The Government Should Save The City's Oxygen

डुमना की हरियाली बचाने के लिए चिपको आंदोलन:युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने डुमना में पेड़ों को गले लगाकर बचाने की लगाई गुहार, बोले- शहर का ऑक्सीजन बचा लो सरकार

जबलपुर4 महीने पहले
पेड़ों से लिपट कर चिपको डुमना आंदोलन का आगाज।

विश्व पर्यावरण से ठीक एक दिन पहले जबलपुर में डुमना चिपको आंदोलन का आगाज हुआ। ये आंदोलन डुमना के जंगलों को उजाड़ कर प्रस्तावित ग्रीन स्पोर्ट्स सिटी के निर्माण के विरोध में शुरू हुआ है। आंदोलन में शामिल चेहरों का तर्क है कि यह किसी पार्टी से जुड़ा आंदोलन नहीं है, ये पूरे शहर का और उनके ऑक्सीजन को बचाने की मुहिम हैं। पेड़ों से लिपट कर आंदोलनरत लोगों ने मार्मिक अपील की कि इन पर कुल्हाड़ी चलाने से बचा लो। हमें कांक्रीट के जंगल नहीं हमारे पेड़-पौधे चाहिए।

चिपको डुमना आंदोलन की अगुवाई कर रही युवा कांग्रेस के समर्थ अवस्थी के साथ बड़ी संख्या में युवक डुमना जंगल पहुंचे। एयरपोर्ट के पास 25 एकड़ में प्रस्तावित ग्रीन स्पोर्ट्स सिटी को लेकर लोगों में नाराजगी देखी जा रही है। उनका तर्क है कि बरेला के नीमखेड़ा में पहले से क्रिकेड स्टेडियम है। वहां चारों तरफ पर्याप्त जमीनें भी हैं। वहां इस प्रोजेक्ट को शिफ्ट किया जा सकता है। पर पर्यावरण को मत उजाड़ो।

पेड़ों से लिपट कर बचाने का दिया संदेश
युवकों ने पेड़ों से लिपट कर उसे काटने से बचाने का शहरवासियों को संदेश दिया। युवा कांग्रेस के समर्थ अवस्थी के मुताबिक हमारे सांसद राकेश जी ग्रीन स्पोर्ट्स स्टेडियम जरूर बनाएं, लेकिन इसके लिए जगह का चुनाव कहीं और कर लें। एक बार इस क्षेत्र में कांक्रीट के जंगल उग आए तो फिर पेड़-पौधे नहीं बचेंगे। यहां के जंगल में हिरन, जंगली सूअर, तेंदूआ, मोर, लोमड़ी जैसे दूसरे जंगली जानवर नहीं बचेंगे। सबसे बड़ा नुकसान शहर के ईको सिस्टम पर पड़ेगा।
शहरवासियों को करेंगे जनजागरूक
युवा कांग्रेस के समर्थ अवस्थी ने बताया कि ये आंदोलन शहर के एक-एक व्यक्ति की है। कोरोना के महामारी में हमने ऑक्सीजन की कीमत समझ ली है। उम्मीद है कि हमारे सांसद जी को भी इस वन के महत्व की समझ आ जाएगी। बच्चो जैसी जिद छोड़ दें और इस वन को बख्श दें। इस जंगल को बचाने के लिए हम शहर के चौराहे-तिराहे पर नुक्कड़ नाटक के माध्यम से जनजागरूकता अभियान चलाएंगे।

चिपको डुमना आंदोलन में ये रहे शामिल
चिपको डुमना आंदोलन में शिशिर नंहोरिया, अमित मिश्रा, मुकुल सोनकर सीटू, रिंकू बदलानी, राहुल बघेल, अजय वर्मा, सूरज केवट, रवि दहिया, शिवम सैनी, विकास लोधी, दीपेश तिवारी, निखिल पांडेय, साकेत श्रीवास्तव, सौरभ गुप्ता, सोमेश अवस्थी सहित अन्य लोग शामिल थे।

खबरें और भी हैं...