मुम्बई व रेलवे के नाम जीत का सेहरा:जबलपुर में आयोजित 54वीं सीनियर राष्ट्रीय खो-खो प्रतियोगिता का समापन

जबलपुरएक वर्ष पहले

जबलपुर में आयोजित पांच दिवसीय 54वीं सीनियर राष्ट्रीय खो-खो प्रतियोगिता का फाइनल महिला वर्ग में मुम्बई तो पुरुष वर्ग में रेलवे ने जीत लिया। गुरुवार को एमएलबी परिसर में आयोजित फाइनल मुकाबले में रोमांचक क्षण देखने को मिला। पुरुष वर्ग का फाइनल मुकाबला महाराष्ट्र और रेलवे के बीच हुआ। दोनों टीमों में आखिरी क्षणों में नतीजा निकल सका। रेलवे ने 14-13 के अंतर से ये फाइनल अपने नाम किया।

देश में पहली बार डोम के अंदर खो-खो प्रतियोगिता का आयोजन जबलपुर में किया गया। ये काफी सफल रहा। देश भर से पुरुष खो-खो की 32 तो महिला खो-खो की 31 टीमों ने भाग लिया। पांच दिन तक चले मुकाबले में सभी टीमों ने अपना दम दिखाया।

राष्ट्रीय खो-खो प्रतियोगिता में महिला वर्ग में महाराष्ट्र तो पुरुष वर्ग में रेलवे बनी विजेता।
राष्ट्रीय खो-खो प्रतियोगिता में महिला वर्ग में महाराष्ट्र तो पुरुष वर्ग में रेलवे बनी विजेता।

परिवहन मंत्री पहुंचे फाइनल मुकाबला देखने

गुरुवार को सेमीफाइनल और फाइनल दोनों मुकाबले हुए। प्रदेश सरकार के परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत और भारतीय खो-खो महासंघ के अध्यक्ष सुधांशु मित्तल फाइनल मुकाबले के दौरान खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन करने पहुंचे थे। प्रतियोगिता का फाइनल मुकाबला पुरुष वर्ग में रेलवे और महाराष्ट्र के बीच खेला गया। रेलवे की टीम ने 14 प्वाइंट जुटाए। वहीं महाराष्ट्र की खो-खो टीम 13 प्वाइंट ही जुटा पाई। रेलवे के खिलाड़ी महेश शिंदे को एकलव्य अवार्ड से सम्मानित किया गया।

महिला वर्ग में महाराष्ट्र की टीम बनी विजेता

वहीं महिला वर्ग का फाइनल मुकाबला महाराष्ट्र और एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के बीच हुआ। महाराष्ट्र की महिला खो-खो टीम ने 13 प्वाइंट जुटाकर ये बाजी जीत ली। जबकि एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया 11 प्वाइंट ही जुटा पाई। महाराष्ट्र खो-खो टीम की प्रियंका इगले को रानी लक्ष्मी बाई अवार्ड से सम्मानित किया गया। प्रतियोगिता का सफल आयोजन मप्र एमेच्योर खो-खो एसोसिएशन द्वारा किया गया। इस दौरान पूर्व मंत्री अजय विश्नोई सहित मप्र एसोसिएशन खो-खो संघ के संजय यादव और अन्य पदाधिकारी मौजूद रहें।

खबरें और भी हैं...