पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कांग्रेस ने आदिवासियों को वोटबैंक ही माना:इतिहास में बिसरा दिए गए आदिवासी जननायकों की वीरगाथा जन-जन तक पहुंचाने की कोशिश कर रही BJP

जबलपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बीजेपी अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कल सिंह भावर ने कांग्रेस पर साधा निशाना। - Dainik Bhaskar
बीजेपी अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कल सिंह भावर ने कांग्रेस पर साधा निशाना।

बीजेपी के अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कलसिंह भावर ने कांग्रेस पर आदिवासी के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाया। बोले कि 2018 के चुनाव में आदिवासियों को कांग्रेस ने बरगला लिया था, लेकिन अब कांग्रेस की हकीकत से वे रूबरू हो चुके हैं। आजादी के बाद कभी कांग्रेस ने आदिवासी जननायकों को उनका उचित सम्मान नहीं दिया। आजादी के 75वें वर्ष में बीजेपी की केंद्र सरकार ने अमृत महोत्सव का आयोजन कर ऐसे बलिदानी और क्रांतिकारियों को सम्मान दे रही है, जो उसके असली हकदार थे।

प्रदेश अध्यक्ष कलसिंह भावर ने दावा किया कि इतिहास का पुर्नलेखन होगा और ऐसे सभी आदिवासी जननायकाें के योगदान से इस पीढ़ी को अवगत कराया जाएगा। बीजेपी ने हमेशा से आदिवासी समाज के उत्थान की दिशा में प्रयास किया है। भाजपा ही अनुसूचित जनजाति वर्ग के साथ ही हमारे वीर आदिवासी जननायकों के इतिहास को लोगो तक पहुंचाने और उन्हें याद करने कार्य भी किया गया। केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद से हमारे महापुरुषों की जन्मस्थली, कर्मस्थली और बलिदानस्थली को संवारने और सहजने का कार्य किया गया।

कांग्रेस ने सिर्फ राजनीतिक रोटी सेंकती है

मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कल सिंह भावर ने कहा कि कांग्रेस सिर्फ राजनीतिक रोटी सेंकना जानती है। 2018 में आदवासियों को बरगलाने में सफल रही, लेकिन अब आदिवासी समाज उसकी सच्चाई से वाकिफ हो चुका है। आदिवासियों का वोटबैंक हासिल करने के बावजूद कांग्रेस ने कोई वायदा पूरा नहीं किया। यही कारण रहा कि अब सारे आदिवासी भाई बीजेपी से जुड़ चुके हैं। उन्हें मालुम है कि एक मात्र पार्टी बीजेपी ही हैै, जो उनके हितों का संरक्षण और सम्मान देती है।

प्रेसवार्ता के माध्यम से 18 सितंबर को आयोजित कार्यक्रम की जानकारी देते मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष कलसिंह भावर।
प्रेसवार्ता के माध्यम से 18 सितंबर को आयोजित कार्यक्रम की जानकारी देते मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष कलसिंह भावर।

तीन हजार आदिवासी 18 सितंबर को गृहमंत्री के कार्यक्रम में शामिल होंगे

आदिवासी जननायकों ने गोंडवाना कॉल से ही अपने मातृभूमि के लिए बलिदान देता आया है। चाहे मुगलों से लोहा लेना हो या अंग्रजो की नीतियों का विरोध करते हुए स्वतंत्रता के आंदोलन में भाग लेना हो। महाकोशल की भूमि पर रानी दुर्गावती, शहीद राजा शंकरशाह, कुंवर रघुनाथ शाह, वीर बिरसा मुंडा, वीर टंट्या मामा भील, क्रांतिकारी तेजा भील, वीर तिलका मांझी जैसे अनेकों आदिवासी जननायकों ने अपने प्राणों की परवाह किये बिना मातृभूमि की रक्षा में अपना सर्वस्व न्यौछावर किया है। 18 सितंबर को बलिदानी राजा शंकरशाह-कुंवर रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर आ रहे देश के गृहमंत्री अमित शाह के कार्यक्रम में 3 हजार आदिवासी शामिल होंगे।

बीजेपी अनुसूचित जनजाति मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक 16 सितम्बर को

मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति बैठक गुरुवार 16 सितंबर को जबलपुर में आयोजित की गई है। इस बैठक में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सांसद विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, सह संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा, केंद्रीय मंत्री फग्गनसिंह कुलस्ते, भाजपा राष्ट्रीय मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे, प्रदेश प्रभारी चुन्नीलाल जी बरासिया के साथ मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारी एवं कार्यसमिति सदस्य शामिल होंगे।

खबरें और भी हैं...