पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Congress Leader Gajju, Arrested In Jabalpur, Put All Charges Of Illegal Weapons On Dead Brother Seven Months Ago, Chhote Said, "I Don't Know Anything"

बचने का शातिराना दांव:जबलपुर में गिरफ्तार कांग्रेस नेता ने अवैध हथियारों के आरोप सात महीने पहले मरे भाई पर डाले, छोटे ने कहा- मुझे नहीं पता

जबलपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की गिरफ्त में आया कांग्रेस नेता गज्जू उर्फ गजेंद्र सोनकर - Dainik Bhaskar
पुलिस की गिरफ्त में आया कांग्रेस नेता गज्जू उर्फ गजेंद्र सोनकर
  • जुआ फड़ की दबिश में मिले थे हथियार, एसटीएफ भी पहुंची पूछताछ करने
  • एसपी ने कांग्रेस नेता के फरार मैनेजर की गिरफ्तारी पर घोषित किया पांच हजार का इनाम
  • कांग्रेस नेता ने जमानत के लिए खड़ी की 22 वकीलों की फौज, थाने में भी तीन वकील तैनात

जुआ फड़ की कार्रवाई में अवैध हथियारों का जखीरा मिलने के बाद रिमांड पर लिए गए कांग्रेस नेता गज्जू सोनकर और उसके भाई सोनू से पुलिस कुछ न उगलवा सकी। गज्जू इतना शातिर निकला कि उसने अवैध हथियारों से जुड़े सभी आरोप 7 महीने पहले रंजिश में मार दिए गए मझले भाई धर्मेंद्र सोनकर पर डाल दिए। कहा कि वही इसके बारे में जानता था। छोटा सोनू सोनकर उससे भी दो कदम आगे निकला। उसने बताया कि सारे काम-धंधे पिता और दोनों भाई ही संभालते थे। उसका काम तो कार से घूमना और मौज-मस्ती का था। रविवार को एसटीएफ भी पूछताछ करने पहुंची। एसपी ने उसके मददगारों पर शिकंजा बढ़ाते हुए फरार मैनेजर की गिरफ्तारी पर 5000 का इनाम घोषित किया है।
घर से जब्त हुआ था हथियारों का जखीरा
भान तलैया निवासी कांग्रेस नेता गज्जू उर्फ गजेंद्र सोनकर के घर स्पेशल-35 टीम ने दबिश दी थी। कार्रवाई तो जुआ फड़ को लेकर हुई थी, लेकिन तलाशी में उसके घर से एक पेटी में हथियारों का जखीरा मिला। इन हथियारों में दो प्रतिबंधित कार्बाइन सहित पिस्टल, बंदूक, रायफल, रिवाल्वर, 1478 विभिन्न कारतूस, 19 मैग्जीन, दो जंगली जानवर के सींग, फरसा, कुल्हाड़ी आदि जब्त हुए थे। इसके अलावा पुलिस ने 41 जुआरियों से 7.41 लाख रुपए भी जब्त किए थे। पुलिस ने मौके से गजेंद्र सोनकर, उसके भाई सोनू उर्फ महेंद्र सोनकर को गिरफ्तार किया था।
तीन दिन की ली रिमांड
हनुमानताल पुलिस ने गजेंद्र और उसके भाई सोनू को 10 नवम्बर तक रिमांड पर लिया है। उसकी जमानत कराने शनिवार को कोर्ट में 22 वकील खड़े हो गए थे। गज्जू ने अपने स्वास्थ का हवाला देकर रिमांड का विरोध किया था। कोर्ट से उसने तीन वकीलों से थाने में भी मिलने की अनुमति ले ली है। थाने में भोजन से लेकर उसकी दवाएं तक घर से आई। रिमांड के दौरान होने वाली पूछताछ का वह कोई सीधा जवाब नहीं दे रहा है। हथियारों के बारे में बताया कि उसका भाई धर्मेंद्र सोनकर लाया होगा। धर्मेंद्र की 26 मार्च 2020 में हत्या हो चुकी है।

गज्जू के घर से ये हथियार हुए थे जब्त
गज्जू के घर से ये हथियार हुए थे जब्त

तीन लाइसेंसी हथियारों का भी पता चला
धमेंद्र सोनकर और परिजन के नाम तीन लाइसेंसी हथियारों का भी पता चला है। हालांकि तीनों लाइसेंस 2014 से सस्पेंड हैं और ओमती क्षेत्र स्थित एक दुकान में जमा हैं। एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने अब इसे निरस्त कराने की बात कही है। वहीं, उसके फरार मैनेजर रजनीश वर्मा की गिरफ्तारी पर पांच हजार का इनाम घोषित किया।

मददगारों की तैयार हो रही लिस्टिंग
एसपी ने बताया कि हथियारों का जखीरा मिलने के बाद अब गज्जू के मददगारों की लिस्टिंग की जा रही है। ऐसे लोगों पर भी कार्रवाई होगी। वहीं, उसके अवैध कब्जों के लिए राजस्व विभाग से लिस्टिंग कराई जा रही है। गज्जू और उसके भाई के खिलाफ एनसए की कार्रवाई भी की जा रही है। उसका मकान का नक्शा दो हजार वर्गफीट में पास है। जबकि उसने 7000 वर्गफीट में निर्माण कर रखा है।

बाइक से लेकर कार तक की किस्त भरता था
पुलिस के शिकंजे में फंसे कांग्रेस नेता फड़बाज गज्जू के बारे में चर्चा है कि वह मददगारों की पैसे से अहसान चुकाता था। 20 वर्षों से संचालित जुआ फड़ की रकम से वह कई लोगों की बाइक और कार की किस्त तक भरता है। इसमें कुछ ऐसे चेहरे भी शामिल हैं, जिस पर कार्रवाई की जिम्मेदारी रहती है। उसके इसी मदद के अहसान तले कई वर्दी वाले के कंधे तक झुके हैं।

खबरें और भी हैं...