पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना रक्षक पाॅलिसी धारकों से किया छल:कोरोना कवच-रक्षक पाॅलिसी भी सहारा नहीं दे रहीं पीड़ा के वक्त

जबलपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कहा- रिपोर्ट में कोविड के लक्षण नहीं बताए गए, रिकाॅर्ड शर्तों के अनुसार नहीं इसलिए नहीं बनता क्लेम

कोरोना काल में हजारों लोग हैं जिनने कोरोना कवच, कोरोना रक्षक जैसी पाॅलिसियाँ इसलिए लीं, क्योंकि उन्हें जब अस्पताल में भर्ती होकर इलाज की जरूरत पड़े तो आर्थिक जोखिम से बचा जा सके। इसके लिए बड़ी ईमानदारी से प्रीमियम भरा और जब ऐसे लोग बीमारी के बाद भर्ती हुये तो इफको टोकियाे जैसी इंश्योरेंस कंपनियों ने पीड़ितों के दस्तावेजों को सीधे तौर पर नकारना शुरू कर दिया। लोगों का आरोप है कि अपनी सुविधा के अनुसार शर्तों को कंपनी ने तय किया और जो नेटवर्क हॉस्पिटल से दस्तावेज लाकर दिये जा रहे उन्हें भी सीधे तौर पर नकारा जा रहा है।

कई प्रकरण में क्लेम केवल इसलिए नकार दिया गया कि कोरोना पाॅजिटिव होने के बाद कोरोना के लक्षणों का विवरण स्पष्ट नहीं किया गया है। चिकित्सकीय दस्तावेजों में खासकर जाँच रिपोर्ट से संबंधित लक्षण का काॅलम वर्णित होता है उसमें स्पष्ट टिक लगा होता है पर कंपनी अनेक प्रकरण में इस तरह के कागजातों को प्रमाणित नहीं मान रही। क्लेम रिजेक्ट वाले ऐसे उपभोक्ताओं ने अपनी पीड़ा अब जिला प्रशासन के सामने रखी है।

बस क्लेम रिजेक्ट की सूचना
यादव काॅलोनी निवासी रोहन चतुर्वेदी के परिवार ने जब अपनी पीड़ा कंपनी के अधिकारियों को बताना चाही तो उसका समाधान नहीं किया गया। क्लेम दस्तावेजों के आधार पर लगाया तो क्लेम रिजेक्ट कर दिया गया इसकी सूचना जरूर दे दी गई। परिवार के लोगों ने इसको लेकर शिकायत जिला प्रशासन को दी जिसमें कहा गया कि कंपनी पीड़ित व्यक्ति की बात नहीं सुनती सिर्फ अपनी बातें सही साबित कर क्लेम को सेटल करने से मना कर रही है। यह आईआरडीएआई के नियमों के विरुद्ध है जिस पर जिम्मेदार संस्था और उनके अधिकारियों को कार्रवाई करना चाहिए। इस पर जिला प्रशासन भी अपने अधिकारों के अनुसार कार्रवाई करे।

प्रीमियम लेंगे सेवा नहीं देंगे
इफको टोकियो कंपनी कहती है कि वह त्वरित समाधान करती है। किसी भी ग्राहक के तकलीफ के वक्त हमेश सेवा के लिए तत्पर रहती है लेकिन हकीकत इन दावों से अलग है। कंपनी के टोल फ्री नंबर 18001035499, 01244285499 पर संपर्क किया जाए तो कभी फोन नेटवर्क से बाहर होता है तो कभी फोन उठने पर कोई सूचना ही आगे नहीं दी जाती है। पीड़ित उपभोक्ताओं का कहना है कि कोरोना काल में इंश्योरेंस कंपनियों का रवैया एकदम नकारात्मक हो चुका है। ऐसा लग रहा जैसे किसी तरह की जिम्मेदारी इनकी बनती ही नहीं है। बस प्रीमियम शर्तों के अनुसार लेंगे मौके पर सेवा नहीं देंगे।

उपभोक्ता यहाँ कर सकते हैं शिकायत
हेल्थ इंश्योरेंस क्लेम और कैशलेस उपचार व अन्य तरह की समस्याओं के निराकरण के लिए राजधानी भोपाल में बीमा लोकपाल के 07552769200, 07552769201 नंबरों पर शिकायत की जा सकती है। इसके साथ ही इंश्योरेंस रेगुलेटरी अथॉरिटी हैदराबाद गाछी वावली में पत्र व्यवहार किया जा सकता है, साथ ही 155255 टोल-फ्री नंबर पर संपर्क किया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...